Home कविता दिल से

लौकडौन ह्वय्यूं छूं भितर ग्वड्यूं छूं

लौकडौन ह्वय्यूं छूं भितर ग्वड्यूं छूं,
औंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं।
हडग्यूं चचड़ाट, मुखडि मुज्जा पडया
पौड़-पौड़ी भी कमर कुसेगी,
दिन भर कै दौ गद्दा सुखौणू
यका हौड़ बै, हका हौड़ तचौणू।
कपडू ध्वे-ध्वे रंग उतिरिग्ये,
मुखड़ि की चळक्वांस चलीग्ये।
चौदह दिनों तक बंद ह्वयूं छूं
औंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं।

लत्ता-कपड़ा बैग ट्वपळा
घौर जाणौ छिन उकतांणा
कबारि-कबारि मैं तौं थप्थ्यौंणूं
थप्थ्ये-थप्थ्ये चित्त बुझौणू
नियम कानून मा लेट्यूं छूं
खदरा परे सि पकोड़ी धर्यूं छूं
चौदह दिनों तक बंद हवयूं छूं
औंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं।

गौं-मुळक अर अपड़्वा खातिर
मर्जी से मैं यख रयूं छू
कोरोना की अग्नि परिक्षा
सती-सावित्री ही बैठ्यूं छूं।
गौं का भै बंद दगड्या मेरा
दूर बटि छूं तौं सनकोंणू
लछमण रेखा भितर मा रेक
सुदि रंदू मै मौंण हलौंणू
चौदह दिनों तक बंद ह्वयूं छूं
औंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं।
अश्विनी गौड़ दानकोट अगस्त्यमुनि रूद्रप्रयाग —

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *