Home दिल से पहाड़ मेरू उत्तराखंड

स्नातक स्नातकोत्तर शोध तक गढभाषा,गढभाषा मा एक बडी लपांग

उदय दिनमान डेस्कः भाषा संस्कृति साहित्य बचौंण का खातिर भाषा, शिक्षा तंत्र दगडि पेट बटि जुडण चैंणी च।मतलब भाषा समृद्ध तबे ह्वे सकदि जब भाषा शिक्षा दगडि रोजगार  भी द्यो मतलब भाषा समृद्ध तबे ह्वे सकदि जब भाषा शिक्षा दगडि रोजगार  भी द्यो, अर तैं भाषा तै टैम खपेतै काम कर्दरा भी मिलुन।

आज भी भौत सारा साहित्यकार शिक्षाविद अपणि पारिवारिक सामाजिक अर ब्यावसायिक जिदंगी की भागदौड का बीच टैम निकाळी दिनरात निस्वार्थ  काम कना छिन। पढैलिखै शोध तक भाषा का पौछण पर फुलटैम काम कन वौळा मनखी मिल जौला त जरूर भाषा की दिशा अर दशा मा सकारात्मक मोळ्यार औलू।  

स्नातक स्नातकोत्तर अर शोध तक गढवाली भाषा संस्कृति तै नया पाठयक्रम तैयार करी श्री गुरुरामराय मिशन देरादून न नयु काम करलि।   श्रद्धेय महंत देवेंद्र दास जी कु लगाव अर भाषा संस्कृति पिरेम ही च कि बीस साल का उत्तराखंड मा यन अभिनव पहल शुरु ह्वे,   अर ये सत्र  2020-21 बटि गढभाषा का पाठ्यक्रम विधिवत शुरु हवेगिन।

 अब बीए0 एमए0 अर रिसर्च अपणि भाषा मा कनै मंशा रखण वौळा विद्यार्थी प्रवेश ली सकदा।  जरूर शोधार्थी विद्यार्थी अपडि भाषा संस्कृति मा पढला, समझला अर शोध करला यखा रच्यां-बस्यां ग्यान विज्ञान पर।   नया आयाम स्थापित कर्दा एसजीआरआर मिशन देरादूण तै भाषा संस्कृति साहित्य की दिशा मा  सौ-सला देंदरा सबि ग्यानी-ध्यानी मनख्यूं तै प्रणाम।

अलग प्रदेश बंण्ण का बीस साल बाद भाषा संस्कृति साहित्य तै पाठ्यक्रम मा शामिल कन एक अभिनव पहल च।  मिशन की यन सदभौ अर हौंस उलार से जरूर भौत सारा भाषा संस्कृति  पिरेमी छात्र अपडि भाषा संस्कृति साहित्य तै पढला शोध करला अर जरूर सरकार भी नया-नया रोजगार का साधन भाषा संस्कृति साहित्य का बाटा मा तैयार करली।

गुरुरामराय मिशन की या पहल हमारी भाषा संस्कृति संविधान की आंठवी अनुसूची का आंदोलन मा चौं कु ढुंग्गू साबित होलू। झंडा साहिब समाज दगडि शिक्षा चिकित्सा अर धर्म कर्म दगडि रोजगार का भी कै सराहनीय काम कनू च। 

 नई शिक्षा नीति मा जख फाउंडेशन कोर्स मा मातृभाषा तै यथोचित स्थान मिल्यूं च तखि यु स्थान बरौबर बण्यूं रौ  अर बडी कक्षाओं मा भी शोध तलक हमारी भाषा तै स्थान मिलण खुशी अर सम्मान की बात च।    भौत भौत धन्यवाद आभार सैरि   गुरुरामराय मिशन कुटुम्बदरि  अर सबि भाषा संस्कृति साहित्य पिरेम्यूं  अर बरौबर सौ-सला द्येंदरा  मयाळा मनख्यूं तै नमन प्

@अश्विनी गौड दानकोट रुद्रप्रयाग बटि

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail
Facebooktwitterlinkedinrssyoutube

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *