कविता

लौकडौन ह्वय्यूं छूं भितर ग्वड्यूं छूं

—-लौकडौन— लौकडौन ह्वय्यूं छूं भितर ग्वड्यूं छूं,औंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं।हडग्यूं चचड़ाट, मुखडि मुज्जा पडयापौड़-पौड़ी भी कमर कुसेगी,दिन भर कै दौ गद्दा सुखौणूयका हौड़ बै, हका हौड़ तचौणू।कपडू ध्वे-ध्वे रंग उतिरिग्ये,मुखड़ि की चळक्वांस चलीग्ये।चौदह दिनों तक बंद ह्वयूं छूंऔंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं। लत्ता-कपड़ा बैग ट्वपळाघौर जाणौ छिन उकतांणाकबारि-कबारि मैं तौं थप्थ्यौंणूंथप्थ्ये-थप्थ्ये चित्त […]