Home कविता दिल से

शत्-शत् नमन, जै-जै वंदन माँ भारती कर्दि अभिनंदन

शत्-शत् नमन, जै-जै वंदनमाँ भारती कर्दि अभिनंदनदेश की सीमा जान लुटौंदाहर्यू भर्यूं रखदा जु चमनतौं अमर जवानों तैदेश का वीरों तैशत्-शत् नमनअभिनंदनदेश की रक्षा खातिर जौंनल्वे पाणी जन बगै दीनीजैं माट्यूं खांणो खाईंपाणी जखो पीनी,माँ का दूधों कर्ज चुकौणौ,जिदंगी करि अपर्ण।तौं अमर जवानों तैदेश का वीरों तैशत्-शत् नमनअभिनंदन जन्म भूमि कु कर्ज चुकौणौमातृभूमि तै फर्ज […]

Home कविता दिल से

“मेरू बचपन कु घर “

तिबारी मा बैठयू छाे मेंसौचणूं छाे एक बात,का गैन हाेला सी दिन !बैठयू छाे उदास,खौळा-चौक मा, खेल्या दिन ,का गे हाेला आज,आंखी मेरी भरी गैनी देखी  तिबार बालापन का दिन बीत्यां जखआज ह्येगि स्या खंध्वारदै-दादा न खवांया जख,भै बैंण्यूं कि याददग्ड्याें दगडी हँसी खुशी खेल्या कै त्याैहारछाजा सज्यां रन्दा जखकनु राैत्यालु चाैमासखुद लगणी मैतै ताें दिनाें कीकख […]

Home कविता दिल से

कन मामारी फैलै यूँ चीन्यूंन

बिमारी कै देखिनपर यन भिये देखी, सूंणीजैन मनखि लम्पसारघैल करिनबीमारी नौं कोरोनाभैर भितर संगति दौनस्कूल काॅलेज पढै-लिखैसबि चुप्प-मौन।सैर गयां मनखिघौर औणौ तरसणांकखि कैगि आंखी जग्वाळ मा फफडांणीक्वे विपदा मा पैदल भटकणां। आरती राणा छात्रा- पालाकुराली

Home कविता दिल से

लौकडौन ह्वय्यूं छूं भितर ग्वड्यूं छूं

लौकडौन ह्वय्यूं छूं भितर ग्वड्यूं छूं,औंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं।हडग्यूं चचड़ाट, मुखडि मुज्जा पडयापौड़-पौड़ी भी कमर कुसेगी,दिन भर कै दौ गद्दा सुखौणूयका हौड़ बै, हका हौड़ तचौणू।कपडू ध्वे-ध्वे रंग उतिरिग्ये,मुखड़ि की चळक्वांस चलीग्ये।चौदह दिनों तक बंद ह्वयूं छूंऔंणा दिन बै क्वारेंटाइन ह्वयूं छूं। लत्ता-कपड़ा बैग ट्वपळाघौर जाणौ छिन उकतांणाकबारि-कबारि मैं तौं थप्थ्यौंणूंथप्थ्ये-थप्थ्ये चित्त बुझौणूनियम […]

Home दिल से मेरू उत्तराखंड

आज का पहाड़: मेरी जन्मभूमि, मेरी मातृभाषा, मेरु पहाड़

अशोक जोशी,नारायबगड, चमोली: साथियों कुछ सालों से उत्तराखंड विषय का गहन अध्ययन कर रहा हूं, और जब भी पढ़ता हूं अपने पहाड़ों के विषय में, पढ़ता हूं जब अपने गढ़वाल कुमाऊं के त्योहारों, मेलों, मंदिरों, जनजातियों, घाटियों, बुग्यालो , वेशभूषाओं , मातृभाषाओं, लोकगीतों , लोकनृत्यों, धार्मिक यात्राओं, चोटियों, पहाड़ी फलों, खाद्यान्नों, रीति-रिवाजों के विषय में […]

कहानी दिल से पहाड़ मेरू उत्तराखंड सोशल मीडिया

सोशल मीडिया: पंचमू की ब्वारी और स्वरोजागर

उदय दिनमान डेस्कःपंचमू की ब्वारी आजकल सोशल मीडिया में कम ही आ रही है, जिस कारण वह अपनी बात सोशल मीडिया से नहीं रख पा रही है। उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना मामले से उसकी भी चिंता बढ़ गयी है। पहाड़ में जिस तरह कोरोना अपना पैर पसार रहा है, वह उत्तराखंड की शांत वादियों के […]