Home कविता दिल से

ओ पंछी बौड़ी औ, तिबारी-डंडयाळि

औ पंछी बौडी औ’ ओ पंछी बौड़ी औ, तिबारी-डंडयाळि सुन्न पड़यां छन,दै-दादा की रगर्यंदी आंखी,नाती – नतेणौं तै ख्वजण लगी छन। सोच!जरा अफसोस त्वै होलु!कर्ज चुकै नी! त्वीन बे – बाबा कु!पहाड़ी ह्णोंण पर त्वै शर्म च औंणीनौं डुबेलि  त्वीन दै – दादों कु। घौर बै लसपस्या घ्यूं छोड़ीडालडा मखन खांण लगयुं च,क्या लगी होली यन बिमारी,सब […]

Home कविता दिल से

मि कनकै बिसरी जौं ?

मि कनकै बिसरी जौं ? ते चौक अर वा डिन्डयाळिजख सीखि मिन ग्वय्या लगाणूं,ब्वे की खुचिली माकभी दणमण रौंणू,त कभि खिलपत हैंसणु वा चुली खांदी गवै द्येलिदादी की कथा बातों की,बाड़ी-कंडाली अर चेंसु- फ़ाणू,कनि भली रस्याण रसिला हात की घुघुति -बसूती अर बाळापन का दगड्यालुका-छिपी, चोर-सिपै अर पिट्ठू-पंचगाराकाफल, बेडु, किनगोडा, हिसरचैत-बैसाख का मैना, ग्यों जौं […]

Home कविता दिल से

खडु उठाऽ— अग्वाडि बढ़ा

खडु उठाऽ— अग्वाडि बढ़ा              स्वरोजगार की राह मा            जळमभूमि कि छांव मा             पहाड़ों की खुचळि मा          रीति रिवाज निभौण चला                           खडु उठाऽ—- अग्वाडि बढ़ा                 गढकुमौं का मान मा              उत्तराखंड सम्मान मा             गढभाषा स्वाभिमान मा               हिमाळै अभिमान मा                             खडु उठाऽ — अग्वाडि बढ़ा                हैरिभैरि सार मा                छैल पाखों धार मा                गौडी भैस्यूं गुठ्यार मा               द्यवतौं […]

Home कविता दिल से

ज्वोन सी मुखुडी वैंकी , काजल लगी आंखी

ज्वोन सी मुखुडी वैंकी ,काजल लगी आंखीसजी धजी बैठी च बेटुळिबाबा जी की  सांखी। चाै तरफ हँसी फैली ,खुशी अईं च बार,नाैनी आज बडी ह्वेगी ,ब्याें च तैंकू आज । काम की किसाणसगाैर की खान  वा ,मन मयालू छाै वैंकु ,कुछ इन्हीं छै वा। बाबा जी न  आज ,दीली  नाैनी दानफली फूली राजी खूशी रय्यां मेरी […]

Home कविता दिल से

सोचणू छूं एक गीत लिखि द्यो

सोचणू छूं एक गीत लिखि द्योपहाड़ की खौर्यू परसुन्न पड्या ड्येर्यूं परबूड़ दादा दादी सांखी परतौंकी कमजोर ह्वोंदि आंखि परसोचणू छूं एक गीत लिखि द्योदादा का धुंवाण्यां ह्वक्का परअर दादी का क्वीला सजौंदा साज पर सोचणू छूं एक गीत लिखि द्यो ढोल दमौं की ताल परबीत्यां पुरांणा साल परद्यो-द्यवतौं शक्ति परआस्था विश्वास अर भक्ति पर […]

Home कविता दिल से

नै पीढ़ी की कलम मा गढ़भाषा

उदय दिनमान डेस्कः नै पीढ़ी की कलम मा गढ़भाषा,  आज भौत सारा लोग जख गढवाली मा गीत संगीत का सुंण्णदरा छिन तखि भौत सारा नै छ्वाळि का ज्वान दगड्या अपडि भाषा की तरफां मुडी तै लिखण पढण की शुर्वात कना छिन। यि सब लगभग पंद्र साल बटि तीस बरस का हौंसिया ज्वान छिन ईं उमर […]

Home कविता कहानी दिल से मेरू उत्तराखंड

संवेदना: सिमरन एक यन बालिका जु शारिरिक अस्वस्थ

उदय दिनमान डेस्कः ह्वोण का बाद भी कलम किताब से भौत गैरी दगडि कर्दि।तमाम कोशिश कना बाद भी शरीर स्वास्थ्य मा खास सुधार नी च  सामान्य बच्चों चार हिटण घूमण मा दिक्कत  च।सिमरन फिर भी हिम्मत नि हारी अर जीवन की जीवटता का कांडा-मूंडा छंट्ये तै कविता कहानी लिखण पर लगी च। माँ सरस्वती कि […]

Home कविता दिल से

स्मार्टफोन(अतुकान्त)

मी छौ स्मार्टफोनह्वे जब मेरु अविष्कारदुन्या खुणि छौ चमत्कारमी छौ चीज बड़ी कामा कीखास जरूरत बणि गऊआज हर इन्साना कीज्ञान बढ़ाण माकरदू मी सहयोगहर क्वी कन्नूमेरू उपयोगदगड्या ह्वाया रिश्तेदारदूर ह्वा या नजदीकदिन ह्वा या रातएक हैका सेकरान्दू मी बातकठिण से कठिणसवालों जवाब खोजी बतान्दूतुम्हरा गीत, कविता, फोटोसम्भाली धैरी दीन्दूक्य क्या बणि जान्दूमि तुम्हरा बानाअलारम बणि […]

Home कविता दिल से

शत्-शत् नमन, जै-जै वंदन माँ भारती कर्दि अभिनंदन

शत्-शत् नमन, जै-जै वंदनमाँ भारती कर्दि अभिनंदनदेश की सीमा जान लुटौंदाहर्यू भर्यूं रखदा जु चमनतौं अमर जवानों तैदेश का वीरों तैशत्-शत् नमनअभिनंदनदेश की रक्षा खातिर जौंनल्वे पाणी जन बगै दीनीजैं माट्यूं खांणो खाईंपाणी जखो पीनी,माँ का दूधों कर्ज चुकौणौ,जिदंगी करि अपर्ण।तौं अमर जवानों तैदेश का वीरों तैशत्-शत् नमनअभिनंदन जन्म भूमि कु कर्ज चुकौणौमातृभूमि तै फर्ज […]

Home कविता दिल से

“मेरू बचपन कु घर “

तिबारी मा बैठयू छाे मेंसौचणूं छाे एक बात,का गैन हाेला सी दिन !बैठयू छाे उदास,खौळा-चौक मा, खेल्या दिन ,का गे हाेला आज,आंखी मेरी भरी गैनी देखी  तिबार बालापन का दिन बीत्यां जखआज ह्येगि स्या खंध्वारदै-दादा न खवांया जख,भै बैंण्यूं कि याददग्ड्याें दगडी हँसी खुशी खेल्या कै त्याैहारछाजा सज्यां रन्दा जखकनु राैत्यालु चाैमासखुद लगणी मैतै ताें दिनाें कीकख […]