Home कविता पहाड़

खडु उठाऽ— अग्वाडि बढ़ा

स्वरोजगार की राह माजळमभूमि कि छांव मापहाड़ों की खुचळि मारीति रिवाज निभौण चला        खडु उठाऽ—- अग्वाडि बढ़ा  गढकुमौं का मान माउत्तराखंड सम्मान मागढभाषा स्वाभिमान माहिमाळै अभिमान मा               खडु उठाऽ — अग्वाडि बढ़ाहैरिभैरि सार माछैल पाखों धार मागौडी भैस्यूं गुठ्यार माद्यवतौं का मंडाण मा           खडु उठाऽ —  अग्वाडि बढ़ाघौर सुन्न पड़ी डंडयाळी माछज्जा की पठ्ठाली मासेरा रोपण्यूं […]

Home कविता पहाड़

…औ लाटा ऐजा तू…

जिकुडि खुदांईत्वे बिना ससांई वौडा पछांण लगो,पुश्ता पैरा सळयोनै-नै उपज फसल उपजौ      —— औ लाटा  ऐजा तू—–अथाह धरती यख त्वे जागणीबीज सीजणू माटा मगोरोजगार की पौध डालहुण्त्यलू छंद यख पुर्यो।      ——– औ लाटा  ऐजा तू —–नाज का क्वन्का सिर्योसाग अर भुज्जी लगोटूटदि मकान्यूं चूं उगोपाणी टूटी नैर सळयो।       ——– औ लाटा  ऐजा तू —–सूखदि यख फसल […]

Home कविता पहाड़ मेरू उत्तराखंड

मिन भी लाइव औण

उदय दिनमान डेस्कः सब्बि धाणी देरादूण जैसे गीत के रचनाकार भाई वीरेन्द्र पंवार की कोरोनाकाल की ये रचना पोस्ट करने से खुद को रोक नहीं पा रहा। वीरेन्द्र पंवारजै दिन अंधेरी का यु काळा दिन चौळ जाला,जै दिन यु खुट्टौ का छाळा मौळ जाला,मिन भी लाइव औण—!जै दिन गफ्फा तक पौंछ जाली भूक,अर पाणी तक […]

Home कविता पहाड़

अशोक जोशी स्नातक की पढै करदू एक ज्वान भुला

उदय दिनमान डेस्कः  अशोक गुरुकुल कांगडी हरिद्वार मा स्नातक कु छात्र च अर भौत ही लगनशील मैनती अर नेक सोच कु यु युवा गढवाली भाषा मा लिखण पढण की तरफ भी देखणू च।    अशोक तै मैं ब्यक्तिगत मिळयूं नी छूं, पर गढभाषा का परति तेकू पिरेम इथ्ग्या कि बेबाक मैसे गढवाली लिखणै अपडि कोसिस की […]

कहानी दिल से पहाड़ मेरू उत्तराखंड सोशल मीडिया

सोशल मीडिया: पंचमू की ब्वारी और स्वरोजागर

उदय दिनमान डेस्कःपंचमू की ब्वारी आजकल सोशल मीडिया में कम ही आ रही है, जिस कारण वह अपनी बात सोशल मीडिया से नहीं रख पा रही है। उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना मामले से उसकी भी चिंता बढ़ गयी है। पहाड़ में जिस तरह कोरोना अपना पैर पसार रहा है, वह उत्तराखंड की शांत वादियों के […]