उत्तरकाशी को तीर्थनगरी घोषित करने की मांग,प्रताप पोखरियाल के समर्थन में उतरे प्रदीप भट्ट

Spread the love

प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप भट्ट के साथ सीएम को मिलने पहुंचे पर्यावरण प्रेमी प्रताप पोखरियाल
प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप भट्ट के साथ सीएम को मिलने पहुंचे पर्यावरण प्रेमी प्रताप पोखरियाल

उत्तरकाशी । राजधानी देहरादून में कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप भट्ट के साथ सीएम को मिलने पहुंचे पर्यावरण प्रेमी प्रताप पोखरियाल ने बताया कि उत्तरकाशी पहले से ही धार्मिक नगरी है, लेकिन इसे अब तीर्थनगरी घोषित किया जाना चाहिए ताकि इसका चहुमुखी विकास हो सके। पोखरियाल कहते हैं कि तीर्थनगरी घोषित करने के लिए उनके प्रयासों के बाद वर्ष 2004 में ही डीएम केके पन्त के समय ही नगर पालिका, जिला पंचायत समेत नगर और जिले के तमाम संघठनों से लिखित में प्रस्ताव पारित कर शासन से स्वीकृति ली जा चुकी है। जिसके बाद पालिका इसे अपने इलाके में लागू भी कर चुकी है जिसके बाद दुकानों पर बहार लटके मुर्गे और अंडे पर प्रतिबंद लगा था अब इसे व्यापक करते हुए मदिरा और मीट की बधशाला को भी निर्धारित दूरी पर स्थापित करना है।

प्रताप ने इस मुद्दे पर राजनीती नहीं करने के की सलाह दी है। उन्होंने विजेंद्र सिंह और शांति ठाकुर द्वारा सीजीएम उत्तरकाशी के दिए गए फैसले का भी हवाला देते हुए बताया कि वर्षो पुराने उनके इस मुद्दे को अपना नाम देने वाले ये तो बताये की जब उनके पास सरकार में रहते इससे जुड़ा पद था तब क्यों इस पर कार्यवाही नहीं हुई। और अब 2003 -04की लंबी लड़ाई में उनके योगदान को भुला कर उनके कंधो पर चढ़कर राजनैतिक लाभ लेने की कोशिश की जा रही है।

प्रताप ने बीजेपी के स्तम्भ कहे जाने वाले एक वरिष्ठ नेता का नाम लेते हुए बताया कि वो खुद उनके वर्षो पुराने इस मुद्दे के गवाह रहे हैं। वहीं इस पूरे मामले पर सहयोग के लिए प्रताप पोखरियाल ने कांग्रेस के प्रवक्ता और गंगोत्री सीट से दावेदारी जता रहे प्रदीप भट्ट का धन्यवाद अदा किया। प्रताप ने कहा कि प्रदीप ने उन्हें समय-समय पर काफी सहयोग किया है। और तीर्थनगरी की इस मुहिम में उनके योगदान को नाकार नहीं जा सकता है।

वहीं कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप भट्ट ने कहा कि प्रताप पोखरियाल की मांग जायज है और इस पर कार्रवाही होनी चाहिए। गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के इस जिले को तीर्थनगरी घोषित करने से विकास को गति और पर्यावरण की दृष्टि से लाभ मिलेगा। प्रदीप ने कहा कि जो मुद्दे जनहित से जुड़े हैं उन पर सियासत नहीं होनी चाहिए। ऐसें मुद्दों पर राजनीति से उपर उठकर काम होना चाहिए। पवित्र नदियों में गंदगी फैला रही मांस की दुकानों पर भी प्रदीप भट्ट ने प्रशासन से कार्रवाही की मांग की। और शीघ्र ऐसा न होने पर धरने-प्रदर्शन की चेतावनी भी स्थानीय प्रशासन को दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.