udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news 37000 प्रतिशत रिटर्न! 27000 के शेयर ने बनाया करोड़पति

37000 प्रतिशत रिटर्न! 27000 के शेयर ने बनाया करोड़पति

Spread the love

नई दिल्ली । नॉन-बैंकिंग फाइनैंस कंपनी बजाज फाइनैंस के शेयरों ने पिछले 15 सालों में 370 गुना रिटर्न दिया है। यानी, 2003 रुपये में जिन्होंने 27027 रुपये के शेयर खरीदे होंगे, वह आज करोड़पती बन चुके हैं। साल 2003 में बजाज फाइनैंस के शेयर की कीमत 4.5 रुपये थी जो 15 वर्षों में 37000 प्रतिशत बढ़ गई। इस तरह शुक्रवार 16 फरवरी 2018 को इसकी कीमत 1,690 रुपये तक पहुंच गई।

 

बजाज फाइनैंस बजाज फिनसर्व की एक सहायक कंपनी है जिसने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर 30 टॉप लिस्टेड कंपनियों में जगह बना चुकी है। साल 2003 में इस कंपनी का मार्केट कैप 100 करोड़ रुपये का था जो अब बढक़र 1 लाख करोड़ रुपये हो चुका है। ऐनालिस्ट्स का कहना है कि बजाज फाइनैंस अगले दो सालों में 40 प्रतिशत तक रिटर्न दे सकता है।

 

वित्त वर्ष 2017 में कंपनी की ऐसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) बढक़र 60,194 करोड़ रुपये की हो गई है जो वित्त वर्ष 2008 में महज 2,478 करोड़ रुपये की थी। यानी, एयूएम में सालाना दर पर 43 प्रतिशत की ग्रोथ दर्ज की गई। हाल ही में ऐनालिस्ट्स के साथ की गई कॉन्फ्रेंस कॉल में कंपनी के बड़े अधिकारियों ने कहा था कि वित्त वर्ष 2018 में कंपनी का बैलेंस शीट 80,000 करोड़ रुपये से 83,000 करोड़ रुपये तक रहेगा।

 

पिछले 10 सालों में बजाज फाइनैंस का नेट इंट्रेस्ट इनकम सालाना 38 प्रतिशत की चक्रवृद्धि दर से बढ़ा जबकि टैक्स और इंट्रेस्ट घटाकर हुई कमाई में क्रमश: 39 प्रतिशत और 65 प्रतिशत का इजाफा हुआ। कंपनी का लक्ष्य अगले पांच सालों में ग्राहकों की मौजूदा तादाद 2.5 करोड़ से बढ़ाकर 7.5 करोड़ करने का है। मोतीलाल ओसवाल ने कहा, आरबीएल बैंक के साथ गठजोड़ से कंपनी को बहुत फायदा मिलता दिख रहा है। इसने 2.5 लाख कार्ड जारी कर चुका है जिसे दिसंबर 2018 तक बढ़ाकर 10 लाख करने का लक्ष्य है।

 

ब्रोकरेज कंपनी शेयरखान का कहना है कि वृद्धि के मजबूत परिदृश्य, तुलनात्मक रूप से कम प्रतिस्पर्धात्मक दबाव, संचालन के प्रभावी तंत्र और तगड़े रिटर्न जैसे सकारात्मक कारकों के बावजूद छोटे-छोटे कारक भी एक छोटी सी अवधि के लिए अर्थव्यवस्था से चिपके हुए हैं जिसका असर कंपनी पर भी पड़ेगा। शेयरखान का कहना है, बॉन्ड यील्ड्स में बढ़ोतरी का नॉन बैंकिंग फाइनैंस कंपनी का मार्जिन और ग्रोथ पर असर डाल सकता है। इसलिए, फूंक-फूंक कर कदम बढ़ाने की आवश्यकता है। हम 1,900 रुपये के रिवाइज्ड प्राइस टारगेट के साथ इसे बाय रेटिंग दे रहे हैं।