udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news 427 साल बाद बन रहा अद्भुत संयोग » Hindi News, Latest Hindi news, Online hindi news, Hindi Paper, Jagran News, Uttarakhand online,Hindi News Paper, Live Hindi News in Hindi, न्यूज़ इन हिन्दी हिंदी खबर, Latest News in Hindi, हिंदी समाचार, ताजा खबर, न्यूज़ इन हिन्दी, News Portal, Hindi Samachar,उत्तराखंड ताजा समाचार, देहरादून ताजा खबर

427 साल बाद बन रहा अद्भुत संयोग

Spread the love

किनके लिए है सर्वाधिक शुभ: नवरात्र विशेष

11666258_1501912876776000_50536344788698931_n
नवरात्र के नौ दिन हिंदू मां दुर्गा की उपासना करते हैं। चारों ओर रौनक ही रौनक होती है। पितृपक्ष और नवरात्र दोनों का ही हिंदुओं के बीच एक और खास महत्व ये होता है कि जहां पूरी पितृपक्ष ये लोग कोई शुभ काम नहीं करते, वहीं नवरात्र के पहले दिन से ही शुभ कामों के लिए मुहूर्त निकलने लगते हैं। इसी क्रम में इस साल का नवरात्र का संयोग तो विशेष है। आइए, जानें कैसा है ये संयोग और किन लोगों के लिए ज्यादा शुभ है…

ऐसा है संयोग
इस साल जिस संयोग में नवरात्र पड़ रहे हैं, वह बहुत सर्वश्रेष्ठ है। मां दुर्गा की उपासना करने वालों का अभीष्ट फल दिलाने वाला है। कहा जा रहा है कि जिस संयोग में इस बार नवरात्र पड़ रहे हैं, वह अब से बीते 427 साल तक पंचांग में नहीं पड़ा। गोयाकि इस बार पितृपक्ष सिर्फ15 दिन में ही खत्म हो जाएंगे। वहीं नवरात्र भी नौ की बजाए 10 दिन के पड़ रहे हैं। बताया गया है कि इससे पहले ये संयोग 1589 में बना था। वहीं इस साल के बाद ये संयोग फिर साढ़े चार सौ साल बाद बनेगा। ये संयोग अद्भुत है, शुभकारी है…फलकारी है…कल्याणकारी है।

ज्योतिषियों की नजर में
ज्योतिषियों का मानना है कि ऐसे पितृपक्ष का घटना और नवरात्रि के दिनों का बढऩा बेहद शुभ संकेत होता है। ये संकेत साफ इस ओर इशारा कर रहा है कि यह साल व्यापारियों के लिए काफी शुभ होगा। इसके साथ ही वे लोग, जो ईश्वर पर आस्था रखते हैं…विश्वास करके पूरी लगन और मेहनत के साथ कर्म करते हैं, उनको खूब सफलता दिलाएंगी मां दुर्गा।
सुबह-शामकरेंदुर्गा सप्तशतीका पाठ
इन दस दिनों के नवरात्र के बारे में बताया गया है कि तृतीया दो दिन पड़ेगी। फिलहाल नवरात्र 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले हैं। ये 10 अक्टूबर तक चलेंगे। 11वें दिन दशहरा होगा। वैसे भी नवरात्र के दिनों में कोने-कोने में रौनक का माहौल हो जात है। जय माता दी .प:योगेश मैठानी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.