udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news आपदा के कार्यों के लिए जिम्मेदार विभागों को कतई लापरवाही न बरते

आपदा के कार्यों के लिए जिम्मेदार विभागों को कतई लापरवाही न बरते

Spread the love
पौड़ी: जिलाधिकारी ने इंसिडेंट सिस्पॉन्स सिस्टम(आईआरएस) से जुड़े विभागोें को मानसून सत्र से पूर्व ही राहत और बचाव कार्यों के लिए अभी से कमर कसने के निर्देश जारी किये हैं। उन्होंने आपदा के दौरान राहत और बचाव कार्याें के लिए तहसील स्तर पर प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित करने के भी निर्देश दिये हैं। डीएम ने नदियों और गदेरों की जगहों पर हुए अतिक्रमण को शीघ्र हटाने को कहा है। उन्होंने आपदा के कार्यों के लिए जिम्मेदार विभागों को कतई लापरवाही न बरते को कहा है।
विकास भवन सभागार में आपदा प्रबंधन की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी सुशील कुमार ने आईआरएस से जुड़े विभागों की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने आपदा कार्यों के लिए जिम्मेदार विभागों को तय समय पर सभी कार्याें पूरे करने को कहा। उन्होंने राष्ट्रीय राज मार्ग, एडीबी, पीएमजीएसवाई तथा लोक निर्माण विभाग को मानसून के दौरान क्षतिग्रस्त होने वाले चिन्हित क्षेत्रों का शीघ्र ही  मरम्मत करने को कहा है।
उन्होंने चारधाम यात्रा मार्ग पर जनपद क्षेत्रांतर्गत सिरौबगढ़ तथा फरासू तथा कोटद्वार क्षेत्र के फतेहपुर, आमसौड़ तथा दुगड्डा, पीपलपानी,  खैरखाल, नीलकंठ में बरसात से कटान होने वाले क्षेत्र को 15 दिनों के भीतर ठीक करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने नगर पालिका श्रीनगर को चारधाम यात्रा मार्ग पर आवश्यक सेवाओं के नंबर आदि के डिजिटल साइन बोर्ड लगाने को कहा है। जिलाधिकारी ने आपदा काल में रेसक्यू संचालित करने के लिए खाद्य आपूर्ति विभाग के गोदाम को खाली करने तथा नगर पालिका श्रीनगर को एक दर्जन टायलेट, पानी आदि की आपूर्ति करने को कहा है।
उन्होंने सम्भागीय परिवहन विभाग को आपदा के लिए सभी तहसीलों में एक-एक वाहन आरक्षित रखने को कहा है। उन्होंने आईआरएस के लिए नामित विभागों को 30 जून से पहले आपदा के लंबित कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिये हैं। इस मौके पर जिलाधिकारी ने आपदा काल को दौरान दूरसंचार सेवाओं को अपडेट करने एवं जिला मुख्यालय तथा सभी तहसीलों में कन्ट्रोल रूम संचालित करने को कहा है। डीएम ने एक जून से सभी कन्ट्रोल रूम में चौबीसों घंटे कर्मचारी तैनात करने को कहा है। उन्होंने आपदाकाल में स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी को अहम बताया।
जिलाधिकारी ने तहसील स्तर पर गठित स्टेजिंग एरिया को अपडेट करने को कहा है। उन्होंने कहा कि आपदा काल के दौरान नामित विभाग अपनी जिम्मेदारी को समझें। कहा कि आपदाकाल में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बैठक में प्रभारी सीडीओ व पीडी एसएस शर्मा, एसडीएम कोटद्वार राकेश तिवारी, डीडीओ वेद प्रकाश, डीएचओ डा. नरेंद्र कुमार, सीएओ डा. डीएस राणा, डीईओ माध्यमिक हरेराम यादव समेत आईआरएस से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे। 
जनपद में विदेशी शराब की 36 दुकानों का ऑनलाइन ई-टेंडरिंग प्रक्रिया के माध्यम से वित्तीय वर्ष 2018-19 के वितरण की कार्यवाही जिलाधिकारी सुशील कुमार की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में सम्पन्न हुई। अवशेष छः दुकानों के लिए आवेदन नहीं किया गया है। इनके लिए ई-टेंडरिंग प्रक्रिया बाद में की जाएगी। इसके अलावा मुख्यालय में पौड़ी-2 सर्किट हाउस की नई दुकान खोली गई है। जो आनंद सिंह के नाम से पंजीकृत हुई है।
जनपद की सात दुकानों के लिए एक-एक ही आवेदन किया गया। जिनमें पैठाणी नरेंद्र सिंह, रिखणीखाल संदीप मोहन, नैनीडांडा कोमल सिंह, कंाडीबिनक सूरज डोभाल, पाठीसैंण दिक्कादेवी, संगलाकोटी सज्जन सिंह, गुमखाल शैलेंद्र सिंह रावत, दिगोलीखाल बीरेंद्र सिंह तथा बेदीखाल के लिए सुरेंद्र सिंह बिष्ट के नाम स्वीकृत की गई। जनपद के  अन्य विदेशी शराब की दुकानों में शामिल श्रीनगर के लिए सुशांत ऑटोसेल्स, पौड़ी देवेंद्र सिंह गुसांई, कोटद्वार मैनबाजार बीरेंद्र सिंह, दुर्गापुरी गोपाल सिंह, जशोधरपुर अनीता देवी, सतपुली जगदम्बा डंगवाल, दुगड्डा गबर सिंह, पाबौ दिगम्बर सिंह, लैंसडोन स्वरूप सिंह, थलीसैंण सते सिंह, नौगांवखाल रामसिंह, जणाऊखांद केवल सिंह, बैजरो अरविंद सिंह, चैलूसैंण बिजनी मनोहर सिंह राणा, खिर्सू चौबट्टा अभिषेक पंवार, त्रिपालीसैंण उमेश सिंह, बूंगीधार चंडीप्रसाद, सबधरखाल प्रवीन कुमार, सिलोगी भगत सिंह, सैड़ियाखाल कैलाश बिष्ट, घंडियाल मंजू नौटियाल, बिलेखत कुलदीप सिंह नेगी, रथुवाढाब अभिषेक, किमसार डाडामंडल उर्मिला तथा कांडाखाल देवानंद भट्ट के नाम स्वीकृत की गई।
जबकि कोटद्वार की बियर की दुकान विपिन कुमार के नाम रही। ई-टंेडरिंग ऑनलाइन प्रक्रिया में अपर जिलाधिकारी रामजी शरण शर्मा, जिला आबकारी अधिकारी प्रभाशंकर मिश्रा समेत आबकारी विभाग से जुड़े  अधिकारी, कर्मचारी व आवेदित शराब कारोबारी उपस्थित रहे।