udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अब बैंकों में मिलेगी आधार कार्ड बनवाने और अपडेट करवाने की सुविधा

अब बैंकों में मिलेगी आधार कार्ड बनवाने और अपडेट करवाने की सुविधा

Spread the love

नई दिल्ली । सरकार ने बैंक खाते से आधार लिंक करने के लिए 31 दिसंबर तक का वक्त दिया है। इसके बाद जिन खातों से आधार लिंक नहीं है, वे बंद कर दिए जाएंगे।

 

आधार कार्ड बैंक खाते से लिंक कराने में दिक्कतें आ रही हैं। किसी के फिंगरप्रिंट मैच नहीं कर रहे हैं तो किसी के नाम और पते में दिक्कतें आ रही हैं। इसी के लिए सरकार नई व्यवस्था करने जा रही है, जिसके तहत आधार कार्ड बनाने से लेकर उसमें किसी भी तरह का अपडेट करने संबंधी काम अब बैंकों में हो सकेंगे। सरकारी बैंकों के साथ ही प्राइवेट बैंकों में भी यह सुविधा उपलब्ध होगी।

 

ये बैंक अपने ग्राहकों को ही आधार संबंधी सेवाएं प्रदान करेंगे। ग्राहकों को अपने आधार में किसी भी तरह के अपडेट या फिर नया आधार कार्ड बनवाने के लिए आधार सेंटर पर जाने की जरूरत नहीं होगी। सरकार ने बैंक खाते से आधार लिंक करने के लिए 31 दिसंबर 2018 तक का वक्त दिया है। इसके बाद जिन खातों से आधार लिंक नहीं है, वे ब्लॉक कर दिए जाएंगे और आधार कार्ड लिंक होने के बाद ही एक्टिव हो सकेंगे।

 

वित्त मंत्रालय ने एक जून को नोटिफिकेशन जारी किया था कि सभी बैंख खातों से आधार नंबर लिंक होना जरूरी है। इकॉनोमिक टाइम्स से यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सीईओ अजय भूषण पांडेय ने कहा कि अधिकांश बैंकों ने आधार से खाते को लिंक करने की ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध कराई है,

 

लेकिन बड़ी संख्या में लोग ऐसे भी हैं, जिनके आधार अपडेट नहीं हैं। किसी को पता बदलवाना है तो किसी को फोटो अपडेट करवाना है। इसे देखते हुए नियम बनाया जा रहा है कि सभी बैंकों को अपने परिसर में आधार कार्ड बनवाने या अपडेट करवाने की सुविधा देना होगी।
यदि किसी खाताधारक के पास आधार है, लेकिन उसकी डिटेल्स बैंक की डिटेल्स के मेल नहीं खा रही है,

 

तो भी बैंक को ही आधार अपडेट करना होगा। अभी तक, केवल सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक यूआईडीएआई में रजिस्टर करा सकते थे। यह बैंकों पर निर्भर करता था कि वह इस सुविधा को चाहते हैं या नहीं। लेकिन यूआईडीएआई ने अब आधार (नामांकन और अपडेट) नियमों में संशोधन किया है ताकि सभी बैंक यूआईडीएआई पंजीयक बन सकें ताकि आधार में संशोधन आदि के लिए ग्राहकों को भटकना न पड़े।