udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अब भारत दुनियाभर में तय करेगा हीरों की कीमत!

अब भारत दुनियाभर में तय करेगा हीरों की कीमत!

Spread the love

मुंबई । हीरों का सबसे ज्यादा निर्यात और आयात करनेवाला भारत अब दुनियाभर के लिए हीरों की कीमत भी तय कर सकेगा। यह अवसर भारत को सोमवार से शुरू हो रहे दुनिया के पहले डायमंड एक्सचेंज- इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज (आईसीईएक्स) से मिलेगा। इस एक्सचेंज के जरिए आम खरीदार और निवेशक बेहतरीन हीरे किफायती दाम पर खरीद सकेंगे। अभी लोगों के पास हीरे की कीमत और उसकी गुणवत्ता को परखने का कोई मंच नहीं था।

 

अब एक्सचेंज हीरे की कीमत तय करेगा। दुनिया के सबसे बड़े हीरा निर्यातक (सालाना 20 अरब डॉलर) और आयातक (सालाना 16 अरब डॉलर) भारत में विश्व के कुल साइट होल्डर्स (हीरे के बड़े कारोबारी) का 50 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सा हैं, लेकिन कीमतें तय करने का हमारे पास कोई तरीका नहीं था। 900 रुपये में हीरा

 

आईसीईएक्स तीन साइज- 30 सेंट्स, 50 सेंट्स और 100 सेंट्स (1 कैरेट) के डायमंड कॉन्ट्रैक्ट में कारोबार शुरू करेगा। मौजूदा कीमत के हिसाब से 30 सेंट के हीरे की कीमत 27,000 रुपये (900 रुपये प्रति सेंट) होगी। एसआईपी के जरिए हर महीने 900 रुपये देकर आप ढाई साल के बाद हीरा खरीद सकते हैं।

 

हर महीने 4 नवंबर को खत्म होगा कॉन्ट्रैक्ट।
इसके लिए आईसीईएक्स पर किसी ब्रोकर के साथ खाता खोलना होगा।
नो योर कस्टमर (केवाईसी) नियम पूरे करके कुछ पैसा जमा कराना होगा।

 

कैसे करें निवेश
आईसीईएक्स के सीईओ संजीत प्रसाद ने बताया, लैब ग्रोन हीरे के चलते कई लोग नकली हीरे के शिकार भी बनते हैं। उन्हें कीमत के बारे में सही जानकारी नहीं होती। अब वे नैचरल डायमंड डीबीयर्स के प्रमाणन के साथ हीरा ले सकेंगे। ऐसे हीरे की कीमत खुदरा जौहरियों के यहां हीरों की कीमत से 30-35 प्रतिशत कम होगी।

 

निवेश करना आसान
पारंपरिक तौर पर अधिकतर लोग हीरे में निवेश नहीं करते। प्रसाद ने बताया, यहां निवेशक पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करने का जरिया मिलेगा। इससे इसमें निवेश करना आसाना होगा।

 

पारदर्शिता की कमी
ढ्ढक्चछ्व्र के राष्ट्रीय सलाहकार सुरेंद्र मेहता कहते हैं, सोना हमेशा निवेश का पसंदीदा विकल्प है। देश में पहले कभी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से हीरे का कारोबार नहीं हुआ है। डिलिवरी के मापदंड, दोनों ओर से कारोबार और अगर बैंक से कर्ज मिले, तो यह एक्सचेंज कामयाब होगा।