udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अब कैशबैक-इंसेंटिव से आकर्षित करेगा भीम

अब कैशबैक-इंसेंटिव से आकर्षित करेगा भीम

Spread the love

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा पिछले साल लॉन्च किया गया भारत इंटरफेस फॉर मोबाइल (भीम) अब पूरी तरह से बदलने वाला है। सरकार इसे और बेहतर बनाने के लिए गूगल तेज, फोनपे आदि पर नजर बनाए हुए है।

 

जानकारी के मुताबिक, 14 अप्रैल (बाबासाहेब आंबेडकर की जंयती) से इस ऐप के जरिए पेमेंट करने पर कैशबैक और कुछ इंसेंटिव (प्रोत्साहन राशि) देने शुरू किए जाएंगे। इसके लिए सरकार ने 900 करोड़ रुपये का प्लान बनाया है। सूत्रों के मुताबिक, यह सब इस ऐप को ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच पहुंचाकर डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा।

 

भीम ऐप पिछले साल दिसंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था। उस वक्त गूगल तेज, फोनपे, पेटीएम के होते हुए इसने काफी तेजी से लोगों के बीच अपनी पकड़ बनाई थी। जबकि उस वक्त बाकी कंपनियां प्रचार-प्रसार पर काफी पैसा खर्च कर रही थीं। हालांकि, अब भीम की लोकप्रियता कम होती दिख रही है।

 

इस्तेमाल घटा
एक अधिकारी ने नाम न आने की शर्त पर बताया कि ऐप में बदलावों के लिए गूगल तेज, फोनपे, पेटीएम के काम करने के तरीकों पर नजर रखी, जिससे पता चला कि वे लोगों को आकर्षित करने के लिए कैशबैक, इंसेंटिव आदि देते हैं। पाया गया कि इससे लोग प्रभावित होते हैं। भीम के जरिए होनेवाली लेनदेन पिछले साल अगस्त के मुकाबले 5.75 प्रतिशत कम हो गई है। इसलिए भीम को फिर से पटरी पर लाने के लिए बाकी पेमेंट ऐप का तरीका फॉलो किया जाएगा।

 

क्या हो सकते हैं बदलाव
बाकी पेमेंट ऐप की तरह पहली बार लेन-देन करने पर 51 रुपये का कैशबैक (कम से कम 100 रुपये का लेनदेन) होगा। इसके बाद किए जानेवाले 20 अलग-अलग लेनदेन पर यूजर को हर लेनदेन के लिए 25 रुपये मिलेंगे। इसके बाद की 25-50 लेनदेन पर कुल 100 रुपये और उसके बाद 50-100 पर कुल 200 रुपये दिए जा सकते हैं। हालांकि, हर लेनदेन कम से कम 10 रुपये का होना चाहिए।

 

इसके आगे 100 से ज्यादा लेनदेन (250 रुपये से ऊपर) पर 10 रुपये मिलेंगे। अधिकारी के मुताबिक, व्यापारियों के लिए इंसेंटिव बढ़ाया भी जा सकता है। अगर ऐसा हुआ तो वे हर लेनदेन पर 2 से 50 रुपये तक कमा सकते हैं जो महीनेभर में 2 हजार रुपये से ज्यादा हो जाएंगे।