udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अच्छी जॉब ऑपरट्यूनिटी की तलाश में देश लौट रहे प्रवासी भारतीय

अच्छी जॉब ऑपरट्यूनिटी की तलाश में देश लौट रहे प्रवासी भारतीय

Spread the love

मुंबई। पिछले कुछ महीनों में देश लौटने वाले भारतीयों की संख्या तेजी से बढ़ी है। बड़ी रिक्रूटमेंट और सर्च कंपनियों के मुताबिक उन्हें अमेरिका, ब्रिटेन और खाड़ी देशों और यहां तक कि सिंगापुर, हांगकांग से भारत में जॉब के लिए काफी एप्लिकेशन मिल रही हैं। ये लोग पहले अच्छे करियर के लिए देश से बाहर गए थे और अब वे वापस लौटने की संभावनाएं तलाश रहे हैं।

 

कई देशों के संरक्षणवादी नीतियां अपनाने, रोजगार के मौके कम होने और जियोपॉलिटिक्स की वजह से ऐसे लोगों की संख्या बढ़ रही है। अमेरिका और यूरोप में हुए चुनाव और जनमतसंग्रह से पता चला कि दूसरे देशों के लोगों को लेकर विरोध बढ़ रहा है।

 

यही नहीं, देश में अभी आईटी, टेक्नॉलजी, हेल्थकेयर और फार्मा सहित कई सेक्टर्स में सीनियर लेवल पर अच्छे मौके हैं। रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट में भी ऑपरट्यूनिटी बढ़ी हैं।

 

टीमलीज सर्विसेज के को-फाउंडर ऋतुपर्णो चक्रबर्ती ने कहा, फार्मासूटिकल, मैन्युफैक्चरिंग, ऑटोमोबाइल्स और हेल्थकेयर सेक्टर में रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट के मौके भी बढ़ रहे हैं।

 

उन्होंने कहा, कुछ कंपनियां भारत को आर ऐंड डी ऐक्टिविटी का हब बना रही हैं। इस वजह से विदेश से कई प्रवासियों को बड़े प्रॉजेक्ट्स को लीड करने के लिए लाया जा रहा है। सीनियर लेवल पर इस तरह के कई अपॉइंटमेंट भी हुए हैं। अलायंस टायर ग्रुप के सीईओ नितिन मंत्री अमेरिका के सीमेंस इंक से आए हैं।

 

हाइक के सीओओ कुमार श्रीनिवासन पहले अमेरिकी फर्म नॉर्डस्ट्रॉम के साथ थे। वहीं, आदित्य बिड़ला ग्रुप में डमेस्टिक टेक्सटाइल्स के सीईओ एस घोष लॉ रियाल से आए हैं।

 

कॉर्न फेरी इंटरनैशनल में इंडियन फाइनैंशल सर्विसेज की हेड और सीनियर पार्टनर मोनिका अग्रवाल ने बताया कि पिछले एक साल में दूसरे देशों में रहने वाले भारतीयों से उन्हें दोगुने सीवी मिल रहे हैं।

 

उन्होंने बताया कि फाइनैंशल सर्विसेज और एनबीएफसी में सीएक्सओ लेवल एक्जिक्यूटिव्स और ग्लोबल कैप्टिव शेयर्ड सर्विसेज (इन हाउस बीपीओ) हॉट सेक्टर्स में शामिल हैं।

 

अग्रवाल ने बताया, पिछले 6-9 महीनों में इस ट्रेंड की वजह से आधा दर्जन प्लेसमेंट सीएक्सओ (सीईओ और सीओओ) लेवल पर हुए हैं। इस तरह के कई अपॉइंटमेंट्स पर अभी काम चल रहा है। सबसे अधिक दिलचस्पी ऐनालिटिक्स, रिस्क ऐंड टेक्नॉलजी सेगमेंट में है।