udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अधिकारियों को गोद लेकर बच्चों को कुपोषण से बाहर लाने के निर्देश

अधिकारियों को गोद लेकर बच्चों को कुपोषण से बाहर लाने के निर्देश

Spread the love
पौड़ी:  महामहिम राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने सर्किट हाउस में जन मुलाकात के उपरान्त जिला स्तरीय विभागों की समीक्षा बैठक ली। बैठक में उन्होंने बाल विकास विभाग की ओर से ऊर्जा फूड दिये जाने वाले कुपोषित बच्चों को बेहतर स्वास्थ्य सुधार के लिए जिला स्तरीय अधिकारियों को गोद लेकर  बच्चों को कुपोषण से बाहर लाने के निर्देश दिये।
जिस हेतु उन्होंने जनपद में मौजूद बच्चों को अधिकारियों को बांटने के निर्देश मुख्य विकास अधिकारी को दिये। केन्द्र व राज्य एवं बाह्य पोषित योजना के तहत की गई कार्याें की जानकारी ली। जबकि समाज कल्याण विभाग एवं बाल विकास विभाग के कल्याणकारी योजनाओं से लोगों को अधिकाधिक लाभांवित करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये।
उन्होंने जनपद में जिलाधिकारी द्वारा टैली कन्सेलटेशन सर्विस के तहत आॅनलाइन स्वास्थ्य परामर्श सेवा को दूरस्थ क्षेत्रों के लिए अच्छी पहल बताया। जबकि जनपद में भू-लेख का डिजिटाइजेशन करने के कार्य को भी बेहतर बताया। कंडोलिया में पार्क को जिलाधिकारी, एसएसपी एवं डीएफओ को और बेहतर बनाने के निर्देश दिये। पुलिस प्रशासन द्वारा नशामुक्ति के प्रति जागरूकता अभियान चलाये जाने के बारे में जानकारी ली।
कहा कि बच्चों को नशे की तरफ जाने से रोकना हमारा मकसद है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 217 में से 215 पूर्ण दो अवशेष आवास को शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रधानमंत्री मातृ वन्दना योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को दी जाने वाली आर्थिक सहायता एवं जनपद में संचालित आंगनवाड़ी तथा महिला सशक्तिकरण को लेकर किये गये कार्यों की जानकारी ली।
आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत कार्यों की जानकारी तथा जनपद में स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रत्येक ब्लाक पर डाक्टर टीमों द्वारा आंगनबाड़ी में जाकर रोगियों को चिन्हित कर आरबीएस के तहत स्वास्थ्य उपचार कराये जाने वाले कार्यों को अग्रेत्तर बनाये रखने के निर्देश मुख्य चिकित्साधिकारी को दिये।
उन्होंने पर्यटन, पशुपालन, मत्स्य व मनरेगा के तहत विभिन्न योजनाओं के तहत क्षेत्र में रोजगार मुहैया कराने हेतु मुख्य विकास अधिकारी को निर्देशित किया। कहा कि लोगों को स्थानीय स्तर पर रोजगार मिलने से पलायन पर रोक लगाई जा सकती है। शिक्षा, विद्युत, जिला पूर्ति सहित अन्य विभागों की योजनाओं की भी समीक्षा की गई। 
गढ़वाल आयुक्त शैलेश बगौली ने स्वागत संबोधन में जनपद एवं गढ़वाल मंडल के रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए यहां की भौगोलिक, राजनैतिक, व्यवसायिक एवं बड़े जल विद्युत परियोजना तथा आॅलवेदर रोड व ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन परियोजना की जानकारी दी। इस मौके पर डीआईजी गढ़वाल परिक्षेत्र अजय रौतेला ने मंडल व जनपद की अद्यतन कानून व्यवस्था के बारे की जानकारी दी। जबकि मुख्य विकास अधिकारी दीप्ति सिंह ने प्रोजेक्टर के माध्यम से जनपद की सम्पूर्ण जानकारी से महामहिम को अवगत कराया। 
इससे पूर्व महामहिम राज्यपाल ने स्थानीय लोगों की फरियाद एवं समस्या सुनी। जबकि एनआरएलएम के तहत गठित स्वयं सहायता समूह के द्वारा की गई कार्यों की जानकारी लेते हुए उन्हें और बेहतर बनाने तथा महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने को कहा। साथ ही केंद्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ लेने को कहा। उन्होंने महिला समूहों द्वारा किये गये जा रहे कार्यों को सराहनीय बताया। महिलाओं ने फसल की जानवरों से फसल नष्ट होने की समस्या भी रखी। जिस पर उन्होंने चकबंदी खेती को बढ़ावा देने एवं समस्या के निस्तारण हेतु कार्य करने का आश्वासन दिया।
महामहिम राज्यपाल के एडीओ असीम श्रीवास्तव, डीएफओ गढ़वाल वन प्रभाग लक्ष्मण सिंह रावत, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी निर्मल कुमार शाह, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 बीएस जगपांगी, सीएमएस डा0 आरएस राणा, एसीएमओ डा0 एचसीएस मर्ताेलिया, एसडीएम एसएस राणा, जिला विकास अधिकारी वेद प्रकाश, सहायक परियोजना निदेशक सुनील कुमार समेत विभिन्न विभागों को मंडल एवं जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।