udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news अनोखा पुलिस स्टेशन: बच्चे हाथों में किताब-कलम लेकर पढ़ने में मशगूल !

अनोखा पुलिस स्टेशन: बच्चे हाथों में किताब-कलम लेकर पढ़ने में मशगूल !

Spread the love

यहां किताबों में छपे सेब तथा चिड़िया भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं, जितनी आईपीसी की धाराएं !

देहरादूनः  अनोखा पुलिस स्टेशन: बच्चे हाथों में किताब-कलम लेकर पढ़ने में मशगूल ! आप चौंक गए होंगे कि पुलिस स्टेशन और वहां पर किताबी ज्ञान और वह भी उस स्थान पर जहां अपराधियों की क्लास लगती है। जी हां यह सत्य है उत्तराखंड के देहरादून में एक ऐसा पुलिस स्टेशन है जहां बच्चें को भी पढ़ाया जाता है। यहां अपराधियों का हिसाब किताब रखने के साथ गरीब बच्चों को भी किताबी ज्ञान बांटा जा रहा है।

आपको बताते हैं कि  देहरादून में एक पुलिस स्टेशन ऐसा भी है, जहां ‘इतिहास’ केवल अपराधियों की हिस्ट्री ही नहीं है। यहां किताबों में छपे सेब तथा चिड़िया भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं, जितनी आईपीसी की धाराएं। देहरादून के प्रेम नगर पुलिस स्टेशन में यह नजारा मिल जाएगा, जहां सुबह के वक्त नंदा की चौकी झुग्गियों से आने वाले गरीब बच्चों को शिक्षा दी जाती है। सुबह के वक्त यह पुलिस स्टेशन 4 से 12 साल तक के छोटे-छोटे बच्चों से भर जाता है। दरी पर बैठे बच्चे हाथों में किताब-कलम लेकर पढ़ने में मशगूल रहते हैं।

इस स्कूल की शुरुआत मार्च में हुई थी, जब यहां मात्र 10 बच्चे थे। अब यहां बच्चों की संख्या 51 तक हो गई है। बच्चों की क्लास दोपहर 3:30 तक चलती है। जिन बच्चों ने अभी तक कोई भी फॉर्मल स्कूलिंग नहीं की है, वे हिंदी, इंग्लिश और गणित की क्लास ले रहे हैं। वहीं ऐसे बच्चे जिन्होंने बेसिक पढ़ाई कर रखी है, उन्हें इतिहास और भूगोल भी पढ़ाया जा रहा है।

देहरादून स्थित एक एनजीओ ‘आसरा ट्रस्ट’ इन बच्चों को पुलिस थाने के सामने सड़क के किनारे पटरियों पर पढ़ाता था। चौकी के एसओ मुकेश त्यागी से बच्चों की यह दशा देखी नहीं गई और उन्होंने पुलिस थाने में ही बच्चों की क्लास का इंतजाम कर दिया। पुलिस द्वारा उठाए गए इस कदम से बच्चों के गार्जियन भी संतुष्ट हो गए और बच्चों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ने लगी।

थाने में लगने वाली इन खास क्लास में बच्चों को दोपहर के वक्त कुछ खाना भी दिया जाता है। वहीं साथ में थाने के महिला और पुरुष पुलिसकर्मी भी समय निकालकर बच्चों को पढ़ाते हैं।