bjp-भाजपा की परिवर्तन रैली कांगे्रस के लिए गले की फांस

Spread the love

परिवर्तन यात्रा: चुनावी चेहरे की तलाश भी

वहीं बीती रोज भाजपा के चुनाव प्रभारी व केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मेंद्र प्रधान ने भी इस मसले पर बेबाकी से स्थिति स्पष्ट कर दी।
वहीं बीती रोज भाजपा के चुनाव प्रभारी व केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मेंद्र प्रधान ने भी इस मसले पर बेबाकी से स्थिति स्पष्ट कर दी।

देहरादून । भाजपा की परिवर्तन रैली कांगे्रस के लिए गले की फांस बनने जा रही है, ऐसा दावा भाजपा नेतागण करते रहे हैं। रैली में भाजपा की ओर से कांगे्रस कार्यकाल में प्रदेश में सामने आए भ्रष्टाचार, घोटाले, आपदा राहत घोटाला और केदारनाथ रूट पर अभी तक मिल रहे नर कंकालों और हरीश सरकार की ओर से ताबड़तोड़ की जा रही घोषणाओं की हकीकत जनजन तक पहुंचाने की बात कही जा रही है। जैसा कि परिवर्तन रैली को लेकर भाजपाई दावा कर रहे कि साल 2017 चुनाव परिणामों में बड़ा परिवर्तन आने जा रहा है। वहीं आलाकमान रैली के बहाने प्रदेश की जनता के दिलों की थाह लेने की मंशा में भी है।

भाजपा की परिवर्तन यात्रा रैली में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 13 नवंबर को देहरादून में जनसभा संबोधित कर 2017 के चुनावी मेला का शंखनाद करेंगे, वहीं 22 नवंबर को अमित शाह का अल्मोड़ा में भी जनसभा संबोधन कार्यक्रम प्रस्तावित है।

गढ़वाल और कुमाऊं मंडल में परिवर्तन यात्रा रैली के बहाने जहां आलाकमान की कोशिश प्रदेश में किसके नाम की बयार बह रही है, जानना होगी। वहीं विधानसभा चुनाव 2017 में टिकट के दावेदारों को भी अपनी ताकत पहचानने का भरपूर मौका मिल सकेगा। राष्ट्रीय अयक्ष अमित शाह को पार्टी में कड़क मिजाज के लिए जाना जाता है, इसलिए दावेदार किसी भी सूरत में उनके इस दौरे को हल्के में लेने की भूल नहीं कर सकते।

देहरादून से शुरू होने वाली परिवर्तन यात्रा रैली के लिए रूट तय करने के साथ ही अन्य प्रबंधों का खाका भी पूरी तरह साफ कर दिया गया है। परिवर्तन यात्रा रैली को सफल बनाना और कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी विधानसभा क्षेत्र के दावेदारों के कांधे रखा गया है। इसलिए एक बात तो साफ है कि यात्रा रैली के दौरान विधानसभा क्षेत्र में रैली में जितनी अधिक भीड़ जुटेगी, उससे संबंधित दावेदारों के टिकट मिलने का रास्ता उतना ही आसान माना जा सकता है।

कुल मिलाकर परिवर्तन यात्रा रैली की सफलता जहां टिकट के दावेदारों की राह आसान करेगी, वहीं इस बहाने आलाकमान प्रदेश में चुनावी चेहरे की खोज भी कर सकता है। राजनैतिक जानकार मान रहे कि हो न हो परिवर्तन यात्रा के बाद भाजपा उत्तराखंड के लिए चुनावी चेहरे की भी घोषणा कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.