कांगे्रस के सामने चुनावी कामयाबी दोहराने की चुनौती

Spread the love

hand
देहरादून। मिशन 2017 में कामयाबी दोहराने के लिए आलाकमान की ओर से मिली नसीहत के बाद पार्टी और संगठन के बीच आपसी तालमेल बढ़ाने की कोशिशें कांगे्रस में तेज बताई जाती हैं। एक ओर दिन ब दिन विधानसभा चुनाव का समय करीब आता जा रहा, वहीं कभी पार्टी और संगठन तो कभी संगठन और पीडीएफ नेताओं के बीच विधानसभा टिकट को लेकर जारी रार ने कांगे्रस केंद्रीय नेतृत्व तक की उलझनें बढ़ाकर रख दी थीं। हालांकि हालिया समय दिल्ली में हुई बैठक में आलाकमान ने संगठन और पार्टी नेतृत्व को तालमेल के साथ मिशन 2017 के लिए तैयारी करने की जो नसीहत दी गई है। उसे देखते हुए तैयारियां तेजी पर बताई जाती हैं।
जहां एक ओर भाजपा में चुनावी चेहरे को लेकर उहापोह वाले हालात बने हुए हैं, वहीं स्पष्ट है कि राज्य में हरीश रावत ही साल 2017 के लिए कांगे्रस का चुनावी चेहरा होंगे। दरअसल में कांगे्रस में नेताओं के बीच जो अंतरकलह बना हुआ है, उसकी वजह भी चुनावी चेहरा नहीं, बल्कि सत्ता में सहयोगी रहे पीडीएफ नेताओं को सरकार की ओर से दी जा रही तरजीह बताई जाती है। वैसे भी दस नेताओं के पार्टी छोड़ देने के बाद संबंधित विधानसभा क्षेत्र में कांगे्रस की स्थिति कमजोर होना माना जा रहा। वहीं विधानसभा सीटों में भी इस कारण बड़ा बदलाव आना तय माना जा रहा है। दरअसल यह बात कांग्रेस केंद्रीय नेतृत्व के साथ-साथ प्रदेश नेतृत्व और संगठन के नेतागण भली भांति जानते हैं। वहीं दूसरी ओर जहां भाजपा परिवर्तन यात्रा के जरिए मिशन 2017 की आग तेज किए हुए है, वहीं इसे भड़कने से रोकना कांगे्रस के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होगा।
पार्टी सूत्रों की माने तो पार्टी और संगठन ने मनभेद दरकिनार कर फिलहाल मिशन 2017 में कामयाबी दोहराने के लिए इरादा पक्का कर लिया है। पार्टी में राज्य में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर घोषणापत्र समिति, चुनाव संचालन समिति और चुनाव प्रचार समितियों के गठन की कसरत तेज होने की चर्चा है। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस की ओर से पार्टीजनों और जनता से सुझाव मांगे जा चुके हैं। घोषणापत्र समिति में भी पार्टी दिग्गजों को शामिल किया जाएगा। वहीं दूसरी ओर कांगे्रस में चुनाव संचालन और चुनाव प्रचार समितियों के गठन पर भी जोर दिया जा रहा है। पार्टी और संगठन दोनों में दिग्गज नेताओं को विधानसभा चुनाव के लिए अहम जिम्मेदारियों का खाका तैयार है, उसे अंतिम रूप दिया जा रहा है।