udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news  छात्र को दाढ़ी रखना पड़ा भारी, स्कूल में शिक्षक ने कटवाई दाढ़ी

 छात्र को दाढ़ी रखना पड़ा भारी, स्कूल में शिक्षक ने कटवाई दाढ़ी

Spread the love

रुडक़ी । केंद्रीय विद्यालय में पढऩे वाले कक्षा 11 के छात्र ने शिक्षक पर जबरन दाढ़ी काटने और डंडे से पिटाई का आरोप लगाया है। आरोप है कि शिक्षक ने उसे जीव विज्ञान की प्रयोगशाला में बंधक भी बनाया।

 

परिजनों ने पुलिस को इस आशय की तहरीर दी है। दूसरी ओर स्कूल के प्रधानाचार्य ने आरोपों को सिरे से नकारते हुए कहा कि विद्यालय में सीसीटीवी कैमरे की जांच से हकीकत जानी जा सकती है। रुडक़ी के पास जलालपुर गांव के रहने वाला आसिफ केंद्रीय विद्यालय नंबर-1 में कक्षा-11 का छात्र है।

 

पुलिस को दी गई तहरीर में आरोप है कि बीती सुबह जब वह स्कूल पहुंचा तो गेट पर खड़े शिक्षक शशिकांत दीक्षित ने उससे दाढ़ी काटकर आने को कहा। आसिफ ने इन्कार किया। उस वक्त तो वह स्कूल में प्रवेश कर गया, लेकिन प्रार्थना के बाद शिक्षक ने उसे जीव विज्ञान की प्रयोगशाला में बुलाया और पूछा कि दाढ़ी क्यों नहीं कटवाई।

 

आरोप है कि इन्कार पर शिक्षक का पारा चढ़ गया। उन्होंने रेजर मंगाकर जबरन उसकी दाढ़ी और मूछें काट दीं। विरोध करने पर डंडे से पिटाई भी की और छुट्टी होने तक लैब में बंद रखा। छुट्टी के बाद आसिफ घर पहुंचा और परिजनों को जानकारी दी। स्कूल पहुंचे परिजन ने जमकर हंगामा किया। बाद में कोतवाली पहुंचकर शिक्षक के खिलाफ तहरीर दी।

 

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक ऐश्वर्यपाल ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। शिक्षक शशिकांत दीक्षित का कहना है कि आरोप पूरी तरह से निराधार है। ऐसा कुछ नहीं हुआ है। छात्र सुबह प्रार्थना सभा से गायब था, इसलिए उसे डांटा जरूर था।

 

स्कूल में लगे हैं सीसीटीवी कैमरे
विद्यालय के प्रधानाचार्य वीके त्यागी ने बताया कि दाढ़ी काटने का आरोप निराधार है। विद्यालय में सीसीटीवी कैमरे लगे हुये हैं। पुलिस रिकार्डिंग चेक कर सकती है। उन्होंने कहा कि छात्र सुबह से ही गायब था। इस पर शिक्षक ने उसे डांटा। इसके बाद कुछ युवक शिक्षक को पीटने के इरादे से आये थे, लेकिन जब उन्होंने बात की तो वह संतुष्ट होकर चले गये।

 

इस मामले को दूसरा रूप दिया जा रहा है। इतना जरूर है कि अनुशासन बनाने के लिये समय-समय पर कुछ एडवाइजरी जारी की जाती है। जिसमें पूर्व में कहा गया है कोई भी छात्र स्टाइलिश दाढ़ी नहीं रखेगा। सामन्य दाढ़ी रख सकता है।