udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news दर्दनाक हादसा: स्कूल बस खाई में गिरी, 28 बच्चों समेत 30 की मौत !

दर्दनाक हादसा: स्कूल बस खाई में गिरी, 28 बच्चों समेत 30 की मौत !

Spread the love

हिमाचल प्रदेश: दर्दनाक हादसा: स्कूल बस खाई में गिरी, 28 बच्चों समेत 30 की मौत ! हिमाचल प्रदेश के कांगडा जिले में एक भीषण सड़क हादसा हुआ है।  स्कूल के बच्चों से भरी एक बस करीब 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी जिसमें 28 स्कूल बच्चों व 2 अध्यापकों सहित 30 लोगों की मौत हो गई।

 

घटना में कई बच्चे घायल हो गए जिन्हे पठानकोट अस्पताल में ले जाया गया है जबकि कुछ अन्य को नूरपुर के अस्पताल में ही भर्ती कराया गया। पठानकोट में भर्ती बच्चों का एक वीडियो भी सामने आया है जहां चारों ओर मासूमों की चीख पुकार सुनाई दे रही हैै। घाटलों बच्चों को इस हालत को देख सभी के रोंगते खड़े हो गए।हिमाचल प्रदेश में एक बार फिर से बड़ा सड़क हादसा हुआ है. एक स्कूल बस खाई में गिर गई है. एक स्कूल बस करीब 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में 28 बच्चों समेत 30 की मौत हो गई है जबकि कई बच्चे घायल भी हुए हैं।

 

यहां मिली जानकारी के मुताबिक बजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल स्कूल की बस चेली गांव के नजदीक करीब 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। एनडीआरएफ व फायर ब्रिगेड की टीमें मौके पर पहुंच गई हैं। राहत कार्य जारी है।बता दें कि मृतकों का आंकड़ा बढ़ने की आशंका जताई जा रही है क्योंकि कई बच्चे अभी भी दबे हुए हैं जिन्हें अभी निकालने की ​कोशिश की जा रही है। घायल बच्चों को सिविल अस्पताल नूरपुर में भर्ती करवाया गया है। हादसे की जानकारी के बाद बच्चों के परिजन गहरे सदमे में हैं।

 

बताया जा रहा है कि बस में 35 बच्चे सवार थे. मारे गए बच्चे नर्सरी से पांचवीं कक्षा के हैं. सभी 10 साल से नीचे हैं. छह घायलों को प्राइवेट अस्पताल पठानकोट में भेजा गया है. राहत और बचाव के लिए एनडीआरएफ की टीम बुलाई गई है. एसडीएम नूरपुर ने कहा कि घटना में 26 बच्चों समेत 29 की मौत हो चुकी है.

 

जानकारी के अनुसार, निजी स्कूल की यह बस छुट्टी के बाद बच्चों को घर छोड़ने जा रही थी कि नूरपुर-मलकवाल के पास पलटने के बाद लगभग डेढ़ सौ फीट गहरी खाई में जा गिरी है. वहीं, कई बच्चे घायल हैं. बलजीत राम पठानिया स्कूल की यह बस मलकवाल से ठेहड़ के पास हादसे का शिकार हुई है. घायल बच्चों को सिविल अस्पताल नूरपुर के अलावा, निजी अस्पताल पठोनकोट भेजा गया है.

 

हादसे के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है. लेकिन कहा जा रहा है कि अनियंत्रित होकर बस खाई में जा गिरी है. नुरपुर के विधायक राकेश पठानिया ने बताया है कि गंभीर रूप से घायल छह बच्चों को पठानकोट के प्राइवेट अस्पताल भेजा गया है.

नूरपुर बद हादसे पर सूबे के सीएम जयराम ठाकुर ने दुख जताया है. साथ ही उन्होंने हादसे की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. सीएम ने कैबिनेट मंत्री किशन कपूर को मौके के लिए रवाना किया है. साथ ही डीसी कांगड़ा से घटना को लेकर फोन पर रिपोर्ट ली है और राहत एवं बचाव कार्य को युद्धस्तर पर करवाने के निर्देश दिए हैं.

बस की तेज रफ्तार के कारण हुआ हादसा
वहीं इस हादसे में बड़ी लापरवाही सामने आई है। इस हादसे में घायल हुए एक बच्चे ने खुलासा किया कि घटना के समय बस की रफ्तार तेज थी जिस कारण ड्राइवर नियंत्रण नहीं कर सका और बस खाई में जा गिरी। जानकारी के अनुसार बजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल स्कूल की बस छुट्टी होने के बाद बच्चों को घर छोड़ने जा रही थी इसमें करीब 35 बच्चे सवार थे। शुरूआती जांच में यह बात सामने आई थी किचालक तीखे मोड़ पर नियंत्रण खो बैठा और बस 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। मारे गए सभी बच्चे नर्सरी से पांचवीं कक्षा के हैं सभी 10 साल से नीचे हैं। राहत और बचाव के लिए एनडीआरएफ की टीम बुलाई गई है।

 

सीएम जयराम ठाकुर ने जताया दुख
वहीं इस हादसे पर सूबे के सीएम जयराम ठाकुर ने दुख जताते हुए न्यायिक जांच के आदेश दक दिए हैं। सीएम ने कैबिनेट मंत्री किशन कपूर को मौके के लिए रवाना किया है। साथ ही डीसी कांगड़ा से घटना को लेकर जानकारी ली है। बता दें कि पिछले साल जून में कांगड़ा में ही श्रद्धालुओं से भरी एक प्राइवेट बस गहरी खाई में गिर गई थी जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई थी। यह हादसा उस समय हुआ जब बस चिंतपूर्णी से ज्वालाजी के लिए जा रही थी। बस कांगड़ा के ढलियारा के पास पहुंचते ही बेकाबू हो गई और गहरी खाई में जा गिरी थी।

एक नजर हिमाचल के अब तक के बड़े हादसों पर:-

11 अगस्त 2012 को चंबा में बस गिरी
47 की मौत

2017 में चौपाल में टौंस नदी में बस गिरी
45 की मौत

अप्रैल 2011 में चंबा में बारात से भर बस गिरी
32 की मौत

जुलाई 2017 रामपुर में बस गिरी
20 की मौत

मई 2017 मंडी में बस ब्यास में गिरी
16 की मौत