मौत की पटना-इंदौर एक्सप्रेस,14 डिब्बे पटरी से उतरे, कई लोगों की मौत

Spread the love

उत्तर प्रदेश में कानपुर देहात के पुखरायां रेलवे स्टेशन के पास आज तड़के इंदौर-पटना एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने से कई लोगों की मौत हो गयी और करीब 200 लोग घायल हो गए।
हालांकि, आईजी कानपुर जकी अहमद ने कई लोगों की मौत की पुष्टि की है। यह हादसा ट्रेन के 14 डिब्बों के पटरी से उतरने के कारण हुआ। रेलवे प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा कि दुर्घटनास्थल पर मेडिकल टीमों को रवाना कर दिया गया है और राहत और बचाव कार्य चल रहा है।
t1
उधर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने डीजीपी को निजी तौर पर राहत और बचाव कार्य की निगरानी करने के निर्देश दे दिए हैं। पुलिस उप महानिरीक्षक ने बताया कि बचाव एवं राहत कार्य तेजी से चल रहा है। घायलों को अस्पताल में पहुंचाने के लिए 21 एम्बुलेंस लगाई गई हैं।कुछ घायलों को निजी वाहनों से भी अस्पताल पहुंचाया गया है।
इस हादसे की वजह से झांसी-कानपुर रेल खण्ड पर यातायात अवरूद्ध हो गया है। कई ट्रेनों के मार्ग बदल दिये गये हैं जबकि कई को रद्द करना पडा। मुम्बई से लखनऊ आने वाली पुष्पक एक्सप्रेस का मार्ग परिवर्तित कर दिया गया है। वह अब जालौन से ग्वालियर होते हुए लखनऊ आ रही है।
हादसे की शिकार हुई ट्रेन के एक यात्री हाजी याकूब अहमद नें बताया कि दुर्घटना के समय ज्यादातर लोग सो रहे थे। अचानक इतनी तेज आवाज हुई की लोगों की नींद टूट गयी। नींद टूटते ही यात्रियों की चीख पुकार सुनाई दे रही थी।
t3
रेल मंत्री ने दिए जांच के आदेश
रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसकी जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि राहत और बचाव कार्य जारी है और मामले पर नजर रखी जा रही है।

उललेखनीय,कानपुर के क़रीब रविवार तड़के तीन बजे पटना-इंदौर एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतरने से बड़ा हादसा हो गया. हादसे में दर्जनों लोगों की लोग मारे गए हैं और 300 ज़ख्मी हैं. ट्रेन इंदौर से पटना जा रही थी.रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने बताया, “कानपुर देहात के पास पुखरायां स्टेशन पर इंदौर पटना एक्सप्रेस 19321 की 14 बोगियां पटरी से उतर गई हैं.”उत्तर प्रदेश के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) दलजीत सिंह चौधरी ने पत्रकारों को बताया कि इस हादसे में दर्जनों लोगों की लोगों की मौत हुई है, जबकि 300 के क़रीब घायल है.
t2
दुर्घटना की जानकारी मिलते ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिया कि यातायात पुलिस को मुस्तैद कर दुर्घटना स्थल से घायलों को अस्पताल जल्द से जल्द पहुंचाने की व्यवस्था की जाए और एंबुलेंस के लिए ग्रीन कॉरिडोर सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कानपुर जिले के अधिकारियों ने दुर्घटना में घायल लोगों के इलाज के लिए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की मदद ली है ताकि अधिक से अधिक डॉक्टरों की सेवाएं ली जा सकें। घटनास्थल पर एंबुलेंस और रोडवेज की बसें भेजी जा रही हैं ताकि राहत कार्य तेजी से संचालित किये जा सकें।

अखिलेश यादव ने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिया कि वह राहत कार्य की निजी तौर पर निगरानी करें।एस 1 और एस 2 बोगी को सबसे ज़्यादा नुकसान, डिब्बों को कटर से काटकर अंदर फंसे हुए लोगों को निकालाने की कोशिश जारी स्थानीय पत्रकार रोहित घोष के मुताबिक जहां हादसा हुआ, वो सिंगल लाइन है. ऐसे में दुर्घटना की वजह से कई रेलगाड़ियां प्रभावित होंगी.ये लाइन लखनऊ को मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र से जोड़ती है.मेरी प्रार्थनाएं भीषण रेल हादसे में घायल लोगों के साथ हैं.