udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news दून की नदियों के पुनजीवन पर कार्यवाही के दियेे निर्देश

दून की नदियों के पुनजीवन पर कार्यवाही के दियेे निर्देश

Spread the love

देहरादून। दून के शिक्षित छात्रों के संगठन मेकिंग अ डिफरेंस बाय बीइंग द डिफरेंस (मैड) के सुझाव पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने सिंचाई विभाग से दून की नदियों के पुनजीवन पर केंद्र के नमामि गंगे कोष से सहायता लेने पर उचित कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। इस पत्र की एक प्रति मैड के संस्थापक अध्यक्ष अभिजय नेगी से भी सांझा की गई।

 

गौरतलब है कि अप्रैल में मैड के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से भेंट कर के यह सुझाव दिया था। मैड ने अपनी प्रस्तुति में बताया था कि संस्था के आग्रह पर केन्द्रीय पर्यावरण मंत्रालय अप्रैल 2016 में ही रिस्पना-बिंदाल को गंगा रिवर बेसिन का भाग घोषित कर चुका है।

 

इसलिए नमामि गंगे कोष से इन नदियों को पुनजीवित करने हेतु राष्ट्रीय जलविज्ञान संस्थान रुडक़ी द्वारा अपनी 2014 की शोध रिपोर्ट में 1 करोड़ रुपये की तय की गई लागत को पूरा किया जा सकता है, जिनसे इन नदियों के पुनजीवन पर काम शुरू किया जा सकता है।

 

मुख्यमंत्री कार्यालय ने जल संग्रक्षण से संबंधित उत्तरकाशी, डोईवाला, हल्द्वानी एवं देहरादून के चार सुझाव सिंचाई विभाग को कार्यवाही के लिए भेजे है, जिसमें दून से संबंधित सुझाव मैड के नदियों के पुनजीवन से संबंधित है। अपनी छठी वर्षगांठ मनाने के मौके पर मैड ने मैडाथान के आयोजन के ज़रिए हज़ारो युवाओ को नदियों की दयनीय स्थिति की तरफ संवेदनशील होने का आग्रह किया था।

 

इसके बाद मैड ने वाटर मैन के नाम से प्रसिद्घ राजेन्द्र सिंह से रिस्पना तल पर भेंट करी थी और लगातार नुक्कड़ नाटक के आयोजन के ज़रिए जागरूकता का प्रयास किया था। मैड अब सिंचाई विभाग को खुद एक विस्तृत ज्ञापन सौंपने के तैयारी में है और अपनी ओर से हर संभव प्रयास करता रहेगा।