udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news दुनिया का सबसे खतरनाक सीरियल किलर!

दुनिया का सबसे खतरनाक सीरियल किलर!

Spread the love

न्यू यॉर्क: दुनिया का सबसे खतरनाक सीरियल किलर!  जिसने अभी तक 14 राज्य, 90 मर्डर किए हैं। बाल सफेद हो चुके हैं, चेहरे पर झुर्रियां दिख रही हैं, डायबटीज और दिल के रोग की वजह से उसका शरीर कमजोर हो चुका है, लेकिन उसकी करतूतें सुन कोई भी सिहर जाता है। किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं। 78 साल का सैमुअल लिटल अमेरिकी इतिहास के सबसे खतरनाक सीरियल किलर्स में से एक है।

 

अमेरिका के टेक्सस जेल में पिछले कई हफ्तों से करीब-करीब हर दिन भारी सुरक्षा के बीच वीलचेयर पर बैठा एक शख्स इंटरव्यू रूम में पहुंचता है, जहां वह जांचकर्ताओं को अपने खौफनाक अपराध की कहानियां बताता है। बाल सफेद हो चुके हैं, चेहरे पर झुर्रियां दिख रही हैं, डायबटीज और दिल के रोग की वजह से उसका शरीर कमजोर हो चुका है, लेकिन उसकी करतूतें सुन कोई भी सिहर जाता है। किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

 

अधिकारी बताते हैं कि हर दिन वह अपने जुर्म की दास्तां को याद करता है। सालों पहले की गई हत्याओं के बारे में बताता है। वह बताता है कि किस तरह वह बार, नाइट क्लबों और सड़कों से आसान शिकार लगने वाली महिलाओं को चुनता था और अपनी कार की पिछली सीट पर उनका गला घोंटकर बेरहमी से मार देता था।

 

इस शख्स का नाम है सैमुअल लिटल। उम्र 78 साल। जांचकर्ता बताते हैं कि इसने कबूल किया है कि करीब 25 से 50 साल पहले अलग-अलग वक्त पर 90 से ज्यादा हत्याएं की थीं। 1980 के दशक के दौरान लॉस ऐंजिलिस में 3 महिलाओं की हत्या के जुर्म में लिटल पहले ही 3-3 उम्रकैद की सजा काट रहा है।

 

हालांकि, अधिकारियों को शक है कि उसने कम से कम 14 राज्यों में महिलाओं की हत्या की थी। जांचकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने करीब 30 हत्याओं में लिटल के हाथ होने के पुख्ता सबूत जुटा लिया है और उसके कबूलनामे पर शक करने का उन्हें कोई कारण नजर नहीं आता।

 

टेक्सस स्थित इक्टर कंट्री के डिस्ट्रिक्ट अटर्नी बॉबी ब्लैंड कहते हैं, ‘समय के साथ हम सब मामलों में सबूत खोज लेंगे। उसके बाद हमें उम्मीद है कि सैमुअल लिटल को अमेरिकी इतिहास के सबसे खतरनाक, दुर्दांत सीरियल किलरों में से एक घोषित किया जाएगा।’ इसी साल गर्मियों में 1994 में हुई हत्या के एक अन्य मामले में टेक्सस की एक ग्रैंड जूरी ने लिटल को दोषी ठहराया था।

 

एक सीरियल किलर कई सालों से एक के बाद एक कई हत्याएं करता जा रहा था लेकिन किसी को कोई शक नहीं हुआ कि इन हत्याओं में एक जैसा पैटर्न है। यह बात चौंकाने वाली है, परेशान करने वाली है। हालांकि, यह भी एक तथ्य है कि सबसे प्रभावशाली और तेजतर्रार पुलिस भी हत्याओं के सिर्फ तीन चौथाई मामलों की गुत्थी ही सुलझा पाती है। इसका मतलब है कि हर साल हजारों हत्यारें कानून की जद में आने से बच जाते हैं।

 

लिटल ने कबूल किया है कि उसने इन हत्याओं को कई राज्यों में अंजाम दिया। उसका ज्यादातर शिकार वे महिलाएं होती थीं, जो गरीब थीं और ड्रग्स, शराब या दोनों की आदी होती थी। उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि ऐसी होती थी कि परिवार उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट या तो दर्ज ही नहीं कराता था या फिर कई हफ्तों के बाद दर्ज कराता था। इस वजह से जांच में कुछ खास हासिल नहीं होता था।

 

डीएनए से जुड़े सबूतों की वजह से लिटल कानून के फंदे में आया। 2012 में डिटेक्टिव मार्सिया और उनके पार्टनर डिटेक्टिव मिट्जी रॉबर्ट्स ने लॉस ऐंजिलिस की 2 महिलाओं की हत्या के मामले में डीएनए सबूत इकट्ठे किए, जो लिटल के डीएनए से मैच हुए। इसके बाद, दोनों ने उसे केंटकी स्थित बेघरों के एक शेल्टर होम में उसे ट्रैक किया।

 

कई सालों से इकट्ठे किए गए डीएनए सबूतों ने लिटल के कई महिलाओं की हत्याओं से तार जोड़ा। फिर, इस साल जेम्स हॉलैंड नाम के टेक्सस के एक रैंजर ने लॉस ऐंजिलिस काउंटी प्रिजन में लिटल से मुलाकात की। वह लिटल का विश्वास जीतने में कामयाब हुए और उसने अपने गुनाहों को कबूल किया। लिटल रोज नए-नए केस की जानकारी देने लगा।

 

लिटल से पूछताछ करने वाले जांचकर्ताओं का कहना है कि वह खुद को मिल रहे अटेंशन का मजा लेता दिखता है और अपने खौफनाक जुर्म की कहानी बड़े ‘चाव’ से बताता है। अधिकारियों के मुताबिक हत्याओं के बारे में बताते हुए उसके चेहरे या हावभाव से किसी भी तरह का पछतावा नहीं दिखता। इतना ही नहीं, उसे दशकों पहले की गई हत्याओं का एक-एक विवरण याद है। उसे याद है कि उसने महिलाओं की हत्या के बाद उनके शवों को कहां ठिकाना लगाया था।

 

वैसे तो 50 सालों से ज्यादा वक्त में लिटल को अलग-अलग राज्यों में करीब 100 से ज्यादा बार गिरफ्तार किया गया, लेकिन उसके तार हत्याओं से नहीं जुड़े थे। उसे अपहरण, रेप और लूट के आरोपों में पकड़ा गया था।

 

अधिकारियों का कहना है कि ये हत्याएं सेक्शुअली मॉटिवेटेथ थीं लेकिन लिटल को अगर रेपिस्ट कहा जाता है तो वह भड़क जाता है। वह कहता है कि उसे लिंग शिथिलता की समस्या थी। इरेक्टाइल प्रॉब्लम की वजह से उसके लिए रेप करना असंभव था। हालांकि, माना जाता है कि उसने कुछ पीड़ितों को मारने से पहले उनका बलात्कार किया था। इसकी वजह यह है कि कुछ महिलाओं के नग्न शवों और उनके कपड़ों पर लिटल के वीर्य पाए गए।

 

फ्लॉरिडा के एक जांचकर्ता बताते हैं कि वह गला घोंटकर मारने से पहले महिलाओं को बर्बर तरीके से पीटता था। सैमुअल लिटल बॉक्सर रह चुका था। वह इतनी ताकत से पंच मारता था कि महिलाओं की रीढ़ की हड्डी टूट जाती थी। ऑटोप्सी रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ।

 

सैमुअल लिटल अविश्वसीनय ढंग से दशकों पहले अंजाम दिए अपराधों को बिलकुल ठीक-ठीक याद तो कर लेता है लेकिन उसे अपने बचपन के बारे में कुछ खास याद नहीं है। लिटल ने जांचकर्ताओं को अपने मां के बारे में जो कुछ बताया है, उससे लगता है कि उसकी मां भी अपराध की दुनिया में सक्रिय थी।

 

उसके बचपन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन जांचकर्ताओं का कहना है कि उसकी मां ने शायद जेल में उसे जन्म दिया था। उसका पालन-पोषण ओहियो में उसकी ग्रैंडमदर ने की थी।