udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news दुनिया पर ट्रेड वॉर का खतरा!  चीन ने मांस, फल सहित 128 अमेरिकी प्रोडक्ट पर लगाया टैरिफ

दुनिया पर ट्रेड वॉर का खतरा!  चीन ने मांस, फल सहित 128 अमेरिकी प्रोडक्ट पर लगाया टैरिफ

Spread the love

बीजिंग। अमेरिका और चीन के बीच छिड़ा व्यापार युद्ध और गहरा गया है. अमेरिका द्वारा चीनी वस्तुओं के आयात पर शुल्क लगाए जाने के जवाब में चीन ने पोर्क और फलों समेत अमेरिका से आयातित होने वाली 128 वस्तुओं पर शुल्क लगा दिया है. सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, कस्टम्स टैरिफ कमिशन ऑफ द स्टेट काउंसिल ने फलों और अन्य संबंधित 120 उत्पादों पर 15 प्रतिशत और सूअर का मांस (पोर्क) और इससे संबंधित अन्य आठ वस्तुओं पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने का फैसला किया है.

मंत्रालय की वेबसाइट पर जारी बयान के अनुसार स्टील और एल्यूमिनियम उत्पादों पर शुल्क लगाने के अमेरिका के कदम की प्रतिक्रिया स्वरूप ऐसा किया गया है. दुनियाभर में आपत्ति के बावजूद अमेरिकी प्रशासन ने स्टील के आयात पर 25 प्रतिशत और एल्यूमिनियम उत्पादों पर 10 प्रतिशत कर लगा दिया. बयान के अनुसार अमेरिका के कदम से चीन के हितों को गंभीर नुकसान पहुंचा है.

इससे पहले चीन ने बीते 4 मार्च को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर वॉशिंगटन व्यापारिक युद्ध (ट्रेड वॉर) शुरू करता है तो उसे इसका नतीजा भुगतना होगा. चीन की नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के प्रवक्ता जेंग येस्यूई ने एक प्रेस वार्ता में कहा था, च्च्चीन, अमेरिका के साथ ट्रेड वॉर नहीं चाहता है, लेकिन अपने हितों को नुकसान पहुंचाने वाले कदम पर चीन चुप नहीं बैठेगा और आवश्यक कदम उठाएगा.

समाचार एजेंसी एफे की खबर के मुताबिक, जेंग ने वॉशिंगटन को चेतावनी देते हुए कहा था कि गलत फैसलों और गलत धारणा पर आधारित नीतियां संबंधों को नुकसान पहुंचाएंगी और इसके ऐसे परिणाम होंगे, जिसे दोनों ही पक्ष देखना नहीं चाहेंगे. चीन की यह प्रतिक्रिया गुरुवार (1 फरवरी) को ट्रंप की घोषणा के बाद आई है.

ट्रंप ने घोषणा की थी कि उनका प्रशासन स्टील के आयात पर 25 फीसदी और एल्यूमिनियम उत्पादों पर 10 फीसदी कर लगाएगा. साथ ही उन्होंने व्यापार युद्ध को सही करार दिया था.जेंग ने कहा था कि 2017 में दो आर्थिक शक्तियों के बीच का कुल व्यापार 580 अरब डॉलर पहुंच गया, इसलिए यह स्वाभाविक है कि कुछ टकराव हो. हालांकि, उन्होंने जोर देकर कहा कि सहयोग ही इन मतभेदों को दूर करने का एकमात्र रास्ता है.