udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news दुर्लभ हीरों के अंतरराष्ट्रीय कारोबारी नीरव मोदी का नया खेल!

दुर्लभ हीरों के अंतरराष्ट्रीय कारोबारी नीरव मोदी का नया खेल!

Spread the love

मुंबई । दुर्लभ हीरों के अंतरराष्ट्रीय कारोबारी नीरव मोदी की ओर से बैंकों का बकाया चुकाने का दिया गया आश्वासन किसी के गले नहीं उतर रहा है। अनुभवी बैंकरों का कहना है कि फर्जवाड़ा करनेवाले सभी लोग ऐसी ही चाल चलते हैं। मुश्किल में फंसे अरबपतियों का इस तरह का आश्वासन देना आम बात है। नीरव मोदी ने एक पत्र के जरिए सभी बैंकों का बकाया चुकाने का भरोसा दिलाया है।

 

क्यों नहीं है बैंकरों को भरोसा?
बैंकरों ने कहा कि कर्ज वापसी का वादा महज कागजी है क्योंकि उनकी सबसे मूल्यवान संपत्ति उनका ब्रैंड है जिसकी छवि को घोटाला उजागर होने से बड़ा बट्टा लगा है। एक बैंकर ने पहचान गुप्त रखने की शर्त पर कहा, यह समय काटने का एक नुस्खा है जैसा कि हम फर्जीवाड़े के सभी मामलों में देखते हैं। उन्होंने कहा, फर्जीवाड़ा पकड़े जाने के बाद ज्यादातर कर्जदार शुरुआती दौर में ऐसे पत्र लिखा करते हैं ताकि उन्हें बचने की थोड़ी मोहलत मिल जाए। आखिरकार यह लंबा चलनेवाली कानूनी और नियामकीय लड़ाई है।

 

नीरव ने लेटर में क्या लिखा?
नीरव मोदी ने पत्र में कहा है कि वह कर्ज चुकाने के लिए कंपनी बेच देंगे जिससे उन्हें 6,000 करोड़ रुपये तक मिल सकते हैं। उन्होंने अपनी प्रमुख कंपनी फायरस्टार डायमंड्स की वैल्युएशन रिपोर्ट भी बैंकों को भेजी है। लेकिन, सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि घोटाला सामने आने के बाद उनके ब्रैंड की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचेगी जिसका असर उनके कारोबार और कंपनी के वैल्युएशन पर पड़ेगा।

 

मुश्किलों के जाल में फंसनेवाले हैं नीरव
नीरव मोदी हीरा कोरबारियों के उस परिवार में पैदा हुए जिसका व्यवसाय कई देशों में फैला हुआ है। वह अपने आप में एक ब्रैंड हैं जिनके नाम पर उनका पूरा हीरा व्यवसाय खड़ा किया गया। उन्होंने बॉलीवुड स्टार प्रियंका चोपड़ा से लेकर हॉलीवुड स्टार अंद्रिया दियाकोनू तक को ब्रैंड ऐंबैसडर बनाया। उनके रिटेल स्टोर्स लंदन से लेकर मकाउ तक फैले हुए हैं।

 

इस बात में संदेह है कि ये जानी-मानी हस्तियां नीरव मोदी से जुड़ी रहकर उनके ब्रैंड का प्रमोशन करती रहेंगी। बात यहीं तक सीमित नहीं है। सबसे बड़ा झटका तो ग्राहक दे सकते हैं जो नीरव मोदी स्टोर में अब शायद ही कदम रखने जाएं। जाहिर है कि इससे नीरव की बिक्री घटेगी जिसका असर मुनाफे पर होगा और आखिर में उनकी कंपनी की कीमत गिरेगी। तब इसे 6,000 करोड़ रुपये से बहुत कम कीमत मिल सकती है।

 

अब यह है बैंकों की रणनीति
पंजाब नैशनल बैंक को 11,3000 करोड़ रुपये का धक्का देनेवाले नीरव के वादे को तवज्जो नहीं देते हुए बैंक अब इस प्रयास में जुट गए हैं कि जो बचाया जा सके, उसे बचा लिया जाए। इसी मकसद से बैंकों ने नीरव मोदी और उनके उनके मामा मेहुल चौकसी के नाम जारी लोन वापस लेने का फैसला किया है। पीएनबी ने सीबीआई से की गई शिकायत में नीरव मोदी और मेहुल चौकसी, दोनों को नामजद आरोपी बनाया है। गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी में नीरव से जुड़ी कुल 5,100 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की जा चुकी है।