udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news एक ही गांव से उठी 19 अर्थियां ! दर्दनाक हादसे ने की  दर्जनों मां की गोद सूनी !

एक ही गांव से उठी 19 अर्थियां ! दर्दनाक हादसे ने की  दर्जनों मां की गोद सूनी !

Spread the love

कांगड़ा। एक ही गांव से उठी 19 अर्थियां ! दर्दनाक हादसे ने की  दर्जनों मां की गोद सूनी ! बापेह भी रूह काप जाएंगी जब आप सुनेंगे कि एक ही गांव में एक साथ 19 बच्चों की अस्थियां निकली। कितना भयावह रहा होगा यह दृश्य और उस गांव की वो अभागिन माओं का रो-रोकर क्या हाल हो रहा होगा आप खुद ही सोच सकते हैं।

 

आपको बता दें कि यहां बात हो रही है हिमाचल प्रदेश में हुए भीषण हादसे की। इस हादसे में 28 बच्चों सहित 30 की मौत हो गयी यह घटना अपने आप में दुःखदायी होने के साथ एक दिल को कचोरने वाली घटना थी।जैसा कि आप जानते है कि जिला कांगड़ा के नूरपुर में स्कूल बस के खाई में गिरने से 24 बच्चों समेत दो टीचर्स और ड्राइवर की मौत हो गई।

 

इस दर्दनाक हादसे ने खुवारा गांव की दर्जनों मां की गोद सूनी कर दिया है।नूरपुर हादसे में मारे गए 24 बच्चों में 17 बच्चे खुवारा गांव के रहने वाले थे। वहीं, मतकों में शामिल दोनों शिक्षिकाएं भी खुवारा गांव की ही रहने वाली थीं। इस एक हादसे में खुवारा गांव के लोगों ने अपने 19 अजीजों को खोया है। सोमवार सुबह परिजन शवों को लेने नूरपुर अस्पताल पहुंचे। जहां अपने नौनिहालों को कफन में लिपटा परिजनों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे।

बता दें इस दर्दनाक हादसे में किसी परिवार के ने अपने चार लाल को एक साथ खो दिया तो किसी मां के दोनों बेटा बेटी मौत के आगोश में समा गए। प्रशासन इस बड़े हादसे के कारणों का पता नहीं लगा पा रहा है लेकिन कहीं ना कहीं एक बड़ी चूक सरकारी और गैर सरकारी स्तर पर इन बच्चों की मौत का जिम्मेदार मानी जा रही है।

 

हादसे का शिकार मृतक नौनिहालों की सूची में 17 बच्चे खुवारा गांव के रहने वाले थे। जिनमें 4 साल के मासूम से लेकर 13 साल के किशोर शामिल हैं। वहीं, हादसे में मौत का ग्रास बनीं दो टीचर्स 21 वर्षीय पूनम पटानिया और 35 वर्षीय नरेश कुमारी भी खुवारा गांव की ही रहने वाली थीं।

 

नूरपुर हादसे में खुवारा गांव ने अपने इन अजीजों को खोया
11 वर्षीय दीक्षा (छात्रा)
12 वर्षीय इशिता (छात्रा)
10 वर्षीय युवराज (छात्र)
4 वर्षीय परमेश (छात्र)
10 वर्षीय स्नेहा (छात्रा)
13 वर्षीय पलक (छात्रा)
4 वर्षीय भविष्य (छात्र)
14 वर्षीय हर्ष (छात्र)
12 वर्षीय तरुण (छात्र)
10 वर्षीय गौरव (छात्र)
11 वर्षीय मुकुल (छात्र)
7 वर्षीय कार्तिक (छात्र)
10 वर्षीय प्रणव (छात्र)
8 वर्षीय निकिता (छात्रा)
11 वर्षीय सुकृता (छात्रा)
7 वर्षीय रितिका (छात्रा)
6 वर्षीय रिया (छात्रा)
21 वर्षीय पूनम पटानिया (टीचर)
35 वर्षीय नरेश कुमारी (टीचर)