udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news यूपी समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के लिए तारीखों का ऐलान

यूपी समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के लिए तारीखों का ऐलान

Spread the love

नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान किया. यूपी, गोवा, उत्तराखंड, मणिपुर और पंजाब राज्य में चुनाव होने हैं. मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने तारीखों का ऐलान किया.
गोवा (40 सीटें) में नोटिफिकेशन 11 जनवरी, लास्ट डेट नोमिनेशन 18 जनवरी बुधवार, स्कूटनी 19 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 21 जनवरी, 4 फरवरी 2017 शनिवार को मतदान.
पंजाब (117 सीटें) 11 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 18 जनवरी, स्कूटनी 19 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 21 जनवरी, 4 फरवरी 2017 शनिवार को मतदान.
उत्तराखंड (70 सीटें) 20 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 27 जनवरी, स्कूटनी 28 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 30 जनवरी, 15 फरवरी 2017 को मतदान.
मणिपुर (60 सीटें) पहला फेज ( 38 सीटें) 8 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 15फरवरी , स्कूटनी 16 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 18फरवरी, 4 मार्च 2017 को मतदान.
दूसरा फेज ( 38 सीटें) 11 फरवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 18 फरवरी , स्कूटनी 20 फरवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 22फरवरी, 8 मार्च 2017 को मतदान.
उत्तर प्रदेश (403 सीटें) सात चरणों में चुनाव
पहला चरण (73 सीटें, 15 जिले) 17 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 24 जनवरी , स्कूटनी 31 जनवरीतक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 27 जनवरी, 11 फरवरी 2017 को मतदान.
दूसरा चरण (67 सीटें, 11 जिले) 20 जनवरी को नोटिफिकेशन, लास्ट डेट नोमिनेशन 27 जनवरी, स्कूटनी 27 जनवरी तक पूरी, विद्ड्रावल ऑफ कैडिडेचर 30 जनवरी, 15 फरवरी 2017 को मतदान.
तीसरा चरण (69 सीटें, 12 जिले) 19 फरवरी 2017 को मतदान.
चौथा चरण (53 सीटें, 12 जिले) 23 फरवरी को मतदान
पांचवां चरण (52 सीटें) 27 फरवरी को मतदान
छठा चरण (49 जिले, 49 सीटें) 4 मार्च को मतदान
सातवां चरण (40 सीटें, 7 जिले) 8 मार्च को मतदान

11 मार्च को सभी राज्यों के मतों की गिनती होगी और सभी राज्यों के परिणाम आएंगे.

उन्होंने बताया कि ईवीएम में इस बार चुनाव चिह्न के साथ प्रत्याशी की तस्वीर भी लगाने की व्यवस्था की गई है. यह भी व्यवस्था की गई है कि वोटर यह देख सके कि उसने किसको वोट दिया है. यानि एक स्लिप भी निकलेगी. जैदी ने बताया कि पोस्टल बैलेट की जगह इस बार ई-वोटिंग की व्यवस्था की गई है.

जैदी ने बताया कि गोवा विधानसभा का कार्यकाल 18 मार्च 2017, मणिपुर का 18 मार्च 2017, पंजाब 18 मार्च 2017,
उत्तराखंड का 26 मार्च 2017 और उत्तर प्रदेश विधानसभा का कार्यकाल 27 मई 2017 को समाप्त हो रहा है.
उन्होंने बताया कि 100 प्रतिशत वोटरों के पास वोटर आईडी कार्ड हैं. इन पांच राज्यों में 16 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे. पांच राज्यों में 690 विधानसभा सीटें हैं. कुछ 23 सीटें रिजर्व सीटें हैं. इन इलाकों में 1.85 लाख वोटिंग स्टेशन होंगे. ईवीएम का प्रयोग सभी राज्यों में होगा. जिन इलाकों में महिलाओं पुरुषों के साथ असहज हैं वहां पर उनके लिए अलग पोलिंग बूथ की व्यवस्था की जाएगी.

चुनाव आयोग ने बताया कि सभी मतदाताओं को फोटो वाली वोटर स्लिप दी जाएगी. साथ ही चुनाव आयोग इस बार वोटर गाइड का प्रयोग करेगा जिसके जरिए सभी को मतदान के दौरान क्या करना है क्या नहीं करना है बताया जाएगा. उन्होंने बताया कि वोटिंग कंपार्टमेंट की ऊंचाई को बढ़ाया जाएगा.

उन्होंने बताया कि पोलिंग स्टेशन पर दिव्यांगों के लिए खास व्यवस्था होगी. जैदी ने बताया कि इस बार प्रत्याशी को नामांकन पत्र में तस्वीर भी लगानी होगी. उत्तर प्रदेश, पंजाब और उत्तराखंड में प्रत्याशी 28 लाख रुपये खर्चा कर सकेंगे जबकि गोवा और मणिपुर में यह राशि 20 लाख रुपये रहेगी. साथ ही कहा गया है कि 20 हजार से ऊपर के खर्च को चेक से भुगतान दिया जाएगा.

चुनाव आयोग ने इस बार उन चैनल पर नजर रखने की तैयारी की है जिनमें राजनेताओं का मालिकाना हक है. चुनाव आयोग पेड न्यूज पर भी नजर रखेगा.
इससे पूर्व चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने के उद्देश्य से आज चुनाव आयोग ने इन राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के साथ एक बैठक की. सूत्रों ने बताया कि आज की बैठक में मणिपुर में कुछ नगा समूहों द्वारा की जा रही सड़कों की नाकाबंदी के कारण उत्पन्न कानून व्यवस्था की स्थिति पर मुख्य रूप से चर्चा की गई.

बैठक में राज्यों में कानून व्यवस्था की स्थिति के अलावा, निर्वाचन कर्मियों की तैनाती, सुरक्षा, इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों और चुनाव आचार संहिता का कड़ाई से पालन करने पर भी चर्चा की गई. चुनाव आयोग को दी गई रिपोर्ट में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मणिपुर की स्थिति का जिक्र किया है। वहां यूनाइटेड नगा काउंसिल ने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 में नाकेबंदी की है और 60 दिन बाद भी राज्य सरकार सामान्य यातायात बहाल करने में कथित तौर पर नाकाम रही है.

वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों में तैनाती के लिए करीब 85,000 सुरक्षा कर्मी मुहैया कराएगा. इसके अलावा करीब 100 कंपनियां विभिन्न राज्यों से ली जाएंगी जिन्हें चुनाव ड्यूटी में लगाया जाएगा. इन कंपनियों में राज्य सशस्त्र पुलिस बल और इंडिया रिजर्व बटालियन शामिल होंगी. अर्धसैनिक बल की एक कंपनी में करीब 100 कर्मी होते हैं.

फिलहाल, चुनाव आयोग की योजना उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव सात चरणों में और अन्य राज्यों में एक चरण में कराने की है, लेकिन मणिपुर की स्थिति को देखते हुए पूर्वोत्तर के इस राज्य में एक से अधिक चरण में चुनाव कराए जा सकते हैं. फिलहाल इस बारे में आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है.

चुनाव आयोग ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. ये पांच राज्य उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा हैं. चुनाव 4 फरवरी से शुरू होंगे और 11 मार्च को नतीजे आएंगे. यूपी में सात चरणों में चुनाव होंगे. मणिपुर में दो चरणों में चुनाव होंगे. गोवा और पंजाब में 4 फरवरी को वोट डाले जाएंगे. उत्तराखंड में 15 फरवरी को वोटिंग होगी. मणिपुर में पहले चरण के मतदान 4 मार्च को और दूसरे चरण की वोटिंग 8 मार्च को होगी.

इन-इन तारीखों में यूपी में चुनाव
यूपी में पहले चरण में 73 सीटों पर मतदान 11 फरवरी को होगा. दूसरे चरण में 67 सीटों पर मतदान 15 फरवरी को होगा. तीसरे चरण में 69 सीटों पर 19 फरवरी को मतदान होंगे. चौथे चरण में 53 सीटों में 23 फरवरी को वोटिंग होगी. पांचवे चरण में 52 सीटों पर 27 फरवरी को मतदान होंगे. छठे चरण में 49 सीटों पर 4 मार्च को वोटिंग होगी. सांतवें और आखिरी चरण की वोटिंग 8 मार्च को होगी, इसमें 40 सीटों पर वोट डाले जाएंगे. 11 मार्च को पांचों राज्यों के नतीजे घोषित किए जाएंगे.

बनी रहे गोपनीयता
इन पांच राज्यों में 690 विधानसभा सीटों पर चुनाव होंगे. 5 राज्यों में 16 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे. सभी को आई कार्ड दिए जाएंगे. 1 लाख 85 हजार पोलिंग स्टेशन होंगे. हर वोटर को रंगीन पर्ची दी जाएगी. पोलिंग बूथ के बाहर सभी जानकारियां पोस्टर पर दी जाएंगी. इस पर नियमों का उल्लेख होगा. बूथ पर वोटर्स की मदद के लिए गाइड होंगे. वोटर को फोटो वाली वोटर स्लिप मिलेगी. मुख्य चुनाव आयुक्त ने नसीम जैदी ने कहा कि गोपनीयता बनाए रखने के लिए 30 इंच ऊंची स्टील और अन्य सामग्री से बनी छोटी केबिन का इस्तेमाल किया जाएगा. ईवीएम में उम्मीदवारों की तस्वीर होगी. दिव्यांग वोटरों के लिए अगल व्यवस्था होगी. 690 में से 133 सीटें सुरक्षित हैं.

उम्मीदवारों रखें इन बातों का ध्यान
नसीम जैदी ने जानकारी दी कि उम्मीदवारों को नॉमिनेशन पेपर पर फोटो लगाना होगा और उनको भारत का नागरिक होना चाहिए. उनको शपथ पत्र देना होगा. चुनाव प्रचार के दौरान ध्वनि प्रदूषण और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली सामग्रियों पर प्रतिबंध होगा. रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउड स्पीकर पर रोक रहेगी. उम्मीदवारों को बताना होगा कि कोई बकाया नहीं है. बैंक में खाते खुलवाने होंगे. 20 हजार से ज्यादा खर्च करने पर चैक से पेमेंट करना होगा. यूपी, उत्तराखंड और पंजाब में उम्मीदवार 28 लाख खर्च करपाएंगे, जबकि गोवा और मणिपुर में 20 लाख खर्च कर पाएंगे.

सुरक्षा तैयारियों पर हुई चर्चा
मंगलवार को हुई बैठक में मतदाता सूची और राज्यों में कानून व्यवस्था की समीक्षा की गई. चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक घोषणा से पहले सोमवार को आयोग ने अर्धसैनिक बलों के प्रमुखों के साथ भी बैठक की और सुरक्षा बलों की संख्या उनकी तैनाती और उनके एक जगह से दूसरी जगह जाने के कार्यक्रम की पूरी जानकारी ली, क्योंकि चुनाव के दौरान सुरक्षा बलों की तैनाती उनके परिवहन की पूरी कमान आयोग के ही हाथों में होती है लिहाजा हरेक जानकारी पूरी तौर पर पुख्ता कर ली गई.

इन राज्यों में होने हैं चुनाव
इस साल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसमें यूपी को छोड़कर बाकी राज्यों की विधानसभा का कार्यकाल मार्च में पूरा हो रहा है.

कहां कितनी सीटें-
यूपी- 403
पंजाब- 117
उत्तराखंड- 70
गोवा- 40
मणिपुर- 60

कहां किससे है मुकाबला?
यूपी में सत्तरूढ सपा में जारी अंदरूनी घमासान के बीच पार्टी ने ऐलान किया है कि वह अकेले चुनाव लड़ेगी. पहले कांग्रेस के साथ गठबंधन की अटकलें थी. वहीं बीजेपी और बीएसपी भी अकेले दम चुनाव मैदान में हैं. पंजाब में अकाली-भाजपा गठबंधन का मुकाबला कांग्रेस से है तो वहीं पहली बार आम आदमी पार्टी भी चुनाव मैदान में अपनी किस्ताम आजमा रही है. गोवा में पंजाब और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला होता रहा है. लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी भी मैदान में हैं. एल्विस गोम्स आम आदमी पार्टी के सीएम कैंडिडेट हैं. उत्तराखंड में भी चुनावी सक्रियता तेज हो गई है. बीजेपी और कांग्रेस के आलावा कई और दल भी चुनावी समर में उतरने की तैयारी में हैं. इसी तरह मणिपुर में सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बनी इरोम शर्मिला चुनावी मैदान में कूदने का ऐलान कर चुकी है.

2014 के लोकसभा चुनाव में यूपी की स्थिति
पिछले आम चुनाव में यूपी पर अगर नजर डालें तो लोकसभा की 80 सीटों में से 73 पर बीजेपी और सहयोगी दलों ने कब्जा जमाया था. सपा के खाते में केवल 5 सीटों आईं थी. कांग्रेस महज दो सीटें जीत पाई थी तो बीएसपी का खाता भी नहीं खुल सका था. 2012 के विधानसभा चुनावों की अगर बात करें तो 403 में से 224 सीटें जीतकर सपा ने पूर्ण बहुमत हासिल किया था. 80 सीटों के साथ बीएसपी दूसरे और 47 सीटों के साथ बीजेपी तीसरे स्थान पर रही थी. वहीं कांग्रेस के 28 उम्मीदवार जीते थे.

एक लाख अर्धसैनिक बलों की तैनाती
उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनावों में राज्य पुलिस बलों के साथ एक लाख अर्धसैनिक बलों की तैनाती की जा सकती है. चुनाव आयोग ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से कहा है कि अगले दो महीने में होने जा रहे विधानसभा चुनावों के लिए अर्धसैनिक बलों की 1,000 कंपनियां उपलब्ध कराई जाएं. हर कंपनी में 100 सुरक्षाकर्मी होते हैं.