udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news  गाड़ी से नीचे नहीं उतरे शाह, कार्यकर्ताओं में दिखी मायूसी

 गाड़ी से नीचे नहीं उतरे शाह, कार्यकर्ताओं में दिखी मायूसी

Spread the love

देहरादून । भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दो दिन के दौरे पर आये, तो छह निर्धारित जगह पर कार्यकर्ता उनकेे स्वागत के लिए खड़े थे लेकिन शाह गाड़ी से नीचे नहीं उतरे जिस कारण स्वागत में खड़े कार्यकर्ताओं को निराशा हाथ लगी।

 

दिलाराम बाजार पर विधायक गणेश जोशी के नेतृत्व में आये कार्यकर्ता भी भाजपा के चिन्ह की साड़ी पहनकर आई थी, उन्हें भी निराशा हाथ लगी। यहां पर केवल विधायक गणेश जोशी शाह की गाडी के पास पहुंचे और वह भी दौड़ते हुए गाडी के साथ भागे। शाह के स्वागत में जोशी ने पांच हजार गुब्बारे उडाये।

 

वहीं गाडी से नीचे न उतरे पर कार्यकर्ताओं में मायूसी भी साफ नजर आई और कार्यकर्ताओं ने यातायात नियमों का खुलकर उल्लंघन किया। यहां भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह प्रात: 9$30 बजे जलीग्रांट हवाई अड्डे पहुंचें, जलीग्रांट हवाई अड्डे के साथ मार्ग में उनका डोईवाला, रिस्पनापुल, आराघर चौक, सर्वे चौक व दिलाराम चौक पर भव्य स्वागत के कार्यक्रम निर्धारित किये गये थे और वहां पर पू तैया की गई,

 

लेकिन जहां जहां पर राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्वागत किया गया वह वहां वहां पर अपनी गाड़ी से नीचे तक नहीं उतरे और उत्साहित कार्यकर्ताओं में मायूसी नजर आई। वहीं कार्यकर्ताओं की बाईक रैली शाह के काफिले के आगे चल रही थी और कार्यकर्ताओं ने यातायात नियमों का खुलकर उल्लंघन किया।

 

रैली के बाद शाह ने होटल मधुबन में प्रदेश पदाधिकारियों,कोर ग्रुप, सांसदो, विद्यायको, जिलाध्यक्षों, जिला महामंत्रियों, जिला परिषद चौयरमैन, सहका बैंक अध्यक्षों, मेयर, राष्ट्रीय पदाधिकारियों आदि की बैठक में भाग लिया और सभी को आवश्यक निर्देश दिये।

 

इस बैठक में प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भटट, सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री सेनि मेजर जनरल भुवन चन्द्र खंडू, पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्या, मालाराज्य लक्ष्मी शाह, कपडा राज्य मंत्री अजय टम्टा, अनिल जैन, अनिल बलूनी, श्याम जाजू, कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, डा$ हरक सिंह रावत, सतपाल महाराज, मदन कौशिक, यशपाल आर्य, सुबोध उनियाल के साथ ही लगभग सभी विधायक मौजूद थे।