udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news गिनिज बुक : महिला ने 104 साल की उम्र में कराई सफल सर्जरी

गिनिज बुक : महिला ने 104 साल की उम्र में कराई सफल सर्जरी

Spread the love

मुंबई । महाराष्ट्र के ठाणे जिले में एक महिला की कहानी राज्य के लोगों और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे मरीजों के लिए मिसाल बन चुकी है। महाराष्ट्र के ठाणे जिले की निवासी विठाबाई की दृढ़ इच्छाशक्ति और मजबूत इरादों के चलते 104 साल की उम्र में उनकी सफल हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी हुई है। महिला की सर्जरी करने वाले डॉक्टरों का कहना है इस उम्र में सर्जरी करना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन मरीज अगर शारीरिक और मानसिक रूप से तैयार हो, तो किसी भी उम्र में सर्जरी की जा सकती है।

दरअसल ठाणे में रहने वाली विठाबाई के कूल्हों (हिप) में दिक्कत होने के कारण उनका चलना-फिरना मुश्किल हो रहा था। इस समस्या के चलते उन्हें ठाणे स्थित ‘रिवाइवल ऐंड जॉइंट अस्पताल’ जाया गया। डॉक्टरों ने जांच के बाद हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी का सुझाव दिया। हालांकि मरीज की उम्र को लेकर घरवाले सर्जरी कराने से हिचकिचा रहे थे। जब इसकी जानकारी मरीज विठाबाई को हुई, तो उन्होंने परिवारवालों को सर्जरी के लिए ‘हां’ बोलने को कहा। इस दौरान उन्होंने परिवार को खुद आश्वासन भी किया कि उन्हें कुछ नहीं होगा।

14 फरवरी को हुई थी सर्जरी
विठाबाई की सर्जरी करने वाले अस्पताल के डॉ. मिलिंद पाटील ने कहा, बढ़ती उम्र के साथ सर्जरी करना काफी मुश्किल होता है। वह भी तब, जब दोबारा सर्जरी करनी हो। वैसे, मरीज की दृढ़ इच्छाशक्ति देखकर हमने ऐसा करने का फैसला लिया। 12 फरवरी को मरीज को अस्पताल में भर्ती किया गया और 14 फरवरी को सर्जरी की गई। मरीज की स्थिति में सुधार होता देख सर्जरी के कुछ दिन बाद ही उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। बता दें कि 8-10 साल पहले दाहिने कूल्हे की समस्या के कारण विठाबाई की एक सर्जरी हो चुकी है।

रोजाना टहलने जाती हैं विठाबाई
विठाबाई के रिश्तेदार से मिली जानकारी के अनुसार, इस उम्र में भी वह चलने फिरने में सक्षम हैं। वह रोजाना टहलने जाती हैं और खाना भी कभी-कभी खुद बना लेती हैं। उनके कुल 14 बच्चे थे, जिनमें से 7 ही जीवित हैं। खुशमिजाज होने के साथ ही विठाबाई आत्मनिर्भर हैं। वह अधिकतर काम खुद करती हैं। हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर बी.एस. राजपूत ने कहा कि अगर मरीज शारीरिक रूप से फिट है, तो सर्जरी करने में दिक्कत नहीं होती। हालांकि इस उम्र में सर्जरी करने से मरीज को सांस और दिल संबंधी बीमारियां होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

गिनिज बुक में दर्ज हो सकता है रेकार्ड
विठाबाई की सर्जरी करने वाले अस्पताल के डॉ. मिलिंद पाटील ने बताया, ‘गिनिज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड’ में हिप रिप्लेसमेंट के लिए दर्ज सर्जरी की अधिकतम उम्र 102 साल है। वह बताते है कि, ‘हम इस सर्जरी को ‘गिनिज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड’ में दर्ज करा रहे हैं।’ बता दें कि अगर ऐसा होता है, तो इस उम्र में हुई यह सर्जरी दुनिया की पहली सर्जरी हो जाएगी।