udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news  गुलजार होने लगा बाबा का धाम ,व्यापारियों के चेहरों पर लौटी रौनक

 गुलजार होने लगा बाबा का धाम ,व्यापारियों के चेहरों पर लौटी रौनक

Spread the love

रुद्रप्रयाग। बाबा का धाम फिर से गुलजार होने लगा है। सावन के महीने में भारी संख्या में भोले के भक्त केदारनाथ धाम को पहुंच रहे हैं। बरसात और भूस्खलन का डर भी उन्हें नहीं है। बस बाबा की भक्ति में लीन होकर श्रद्धालु धाम पहुंचकर जलाभिषेक कर रहे हैं। तीर्थयात्रियों की आमद बढ़ने से केदारपुरी भी गुलजार होने लगी है और व्यापारियों के चेहरों पर भी मुस्कान लौट आई है। वहीं मंदिर समिति की आय में भी इजाफा हो रहा है।

 

पिछले कुछ दिनों से बाबा का धाम वीरान पड़ा था। यात्रियों की संख्या नगण्य होने से व्यापारियों के चेहरों पर भी उदासी थी और मंदिर समिति की आय में भी कोई इजाफा नहीं हो रहा था। मगर अब सावन के महीने में बाबा का धाम फिर से गुलजार होने लगा है। तीर्थयात्रियों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। एक-दो दिनों से केदार धाम पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या एक से दो हजार के पार पहुंच रही है, जबकि पिछले दिनों दो से तीन सौ के करीब तीर्थयात्री ही बाबा के दरबार में पहुंच रहे थे।

 

सोमवार को दो हजार तीन सौ 16 तीर्थयात्रियों ने बाबा केदार के दरबार में पहुंचकर मत्था टेका। जिससे यात्रा का आंकड़ा तीन लाख 81 हजार 154 पहुंच गया है। तीर्थयात्रियों की बढ़ती आमद से व्यापारियों के चेहरों में भी फिर से मुस्कान लौट आई है। सावन के महीने में भोले बाबा को जल चढ़ाने के लिए भक्तों का जमावड़ा लग रहा है।

 

केदारनाथ में जलाभिषेक करने का विशेष महातम्य है। जो भक्त सावन मास में यहां पहुंचकर भगवान भोले को जल के साथ ब्रह्मकमल भेंट करता है। भोले उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। तीर्थ पुरोहित उमेश पोस्ती ने कहा कि सावन माह में केदारनाथ बाबा के दरबार में श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ रही है। भारी बारिश के बावजूद भी तीर्थयात्री केदार धाम को पहुंच रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि बाबा केदार के प्रति श्रद्धालुओं की अगाध आस्था है। देश-विदेश से तीर्थयात्री बाबा के दर पर पहुंचकर मत्था टेक रहे हैं। उन्होंने प्रशासन से भी मांग की कि यात्रा मार्गों को दुरूस्त किया जाय और पुलिस, एसडीआरएफ व पीआरडी के जवान हर समय यात्रियों की सेवा में तत्पर रहें। जिससे तीर्थयात्रियों को किसी भी परेशानी का सामना ना करना पड़े।