udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news हमले में 22 लड़ाकों की मौत,आग लगने से 11 मरे

हमले में 22 लड़ाकों की मौत,आग लगने से 11 मरे

Spread the love

तेहरान। ईरान के एक सरकारी दैनिक समाचार पत्र ने अपनी रिपोर्ट में एक टी हाउस में आग लगने और हादसे में 11 लोगों के मारे जाने तथा अन्य छह के घायल होने की जानकारी दी. ‘ ईरान टेलीग्राम’ ने कहा कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि एक असंतुष्ट पूर्व कर्मचारी ने किसी ज्वलनशील पदार्थ का इस्तेमाल कर आग लगाई.

अग्निशामकों ने 40 लोगों को आग से बचा लिया. पांच लोग घायल हो गए हैं. खूजस्तान पुलिस बल के मुख्य कमांडर सरदार अब्बासजादेह ने कहा कि आगजनी के पीछे का कारण निजी विवाद था.उन्होंने कहा कि संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया गया है और उन्होंने अपराध कबूल कर लिया है. अहवाज के पुलिस प्रमुख कर्नल मोहम्मद सफारी ने कहा कि घटना के चार घंटे बाद ही संदिग्ध को गिरफ्तार कर लिया गया था. आग स्थानीय समयानुसार देर रात एक बजे लगी थी.

ईरान में हिंसक प्रदर्शन
आपको बता दें कि ईरान में विरोध प्रदर्शनों ने रात को हिंसक रूप धारण कर लिया था. जिसमें 10 लोग मारे गए थे. सशस्त्र प्रदर्शनकारियों ने सैन्य अड्डों और पुलिस थानों में घुसने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षाबलों ने उन्हें खदेड़ दिया. देश में पिछले पांच दिनों से जारी प्रदर्शन में मरने वाले लोगों की संख्या 13 हो गयी थी.

ईरान के सरकारी टेलीविजन चैनल ने यह जानकारी दी. ईरान में वर्ष 2009 के राष्ट्रपति चुनाव के बाद यह सबसे बड़ा प्रदर्शन था. देश की कमजोर अर्थव्यवस्था और महंगाई को लेकर गुरुवार (28 दिसंबर) को मशहाद में प्रदर्शन शुरू हुए थे. और कई शहरों तक फैल गए. कुछ प्रदर्शनकारियों ने सरकार और शीर्ष नेता अयातुल्लाह अली खामनेई के खिलाफ नारे लगाए. सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

शांति रक्षक समेत मध्य अफ्रीकी गणराज्य में संयुक्त राष्ट्र के एक आधार शिविर पर मंगलवार को भारी हमले में एक शांतिरक्षक मारा गया और 11 अन्य घायल हो गए. अंतर्राष्ट्रीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस संघर्ष में अब तक 22 विद्रोहियों की मौत हो चुकी है. संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बताया कि दक्षिणी शहर बाम्बरी के पास तगबारा में संयुक्त राष्ट्र के अस्थाई शिविर पर बलाक विरोधी लडक़ों ने हमला किया, जिस पर सेना द्वारा कार्रवाई की गई.

उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि अब कैसे लड़ाकों का सफाया किया जाएगा.दुजारिक ने बताया, शांतिरक्षकों ने जवाबी कार्रवाई की और कई घंटों की गोलीबारी में एक शांतिरक्षक की मौत हो गई और 11 अन्य घायल हो गए. संयुक्त राष्ट्र मिशन एमआईएनयूएससीए ने बताया कि बलाका-विरोधी 22 लड़ाके मारे गए हैं. दुजारिक ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षकों ने बाद में तगबारा में चार महिला और चार बच्चों सहित21 नागरिकों के शव बरामद किए.

एमआईएनयूएससीए ने बताया कि शव एक चर्च के नजदीक से बरामद किए गए और पारंपरिक हथियारों के इस्तेमाल से एक अलग घटना में ये मौतें हुई. बाम्बरी से60 किलोमीटर उत्तरपूर्व में स्थित तगबारा के लिए सहायता दलों को रवाना किया गया है. इसके साथ ही प्रशासनिक अधिकारी हर जगह अपनी निगाहें बनाए हुए हैं ताकि हमलों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए.