udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news हम भ्रष्टाचार बंद कर रहे, वे भारत बंद

हम भ्रष्टाचार बंद कर रहे, वे भारत बंद

Spread the love

modi-ji
कुशीनगर । 28 नवंबर को नोटबंदी के खिलाफ विपक्ष के आक्रोश दिवस को लेकर रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा हमला बोला। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में आयोजित बीजेपी की परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार का रास्ता बंद करने में लगी है और वे भारत बंद करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि 70 साल में जो लूटा गया है, उसे निकालना है। मोदी ने एक बार फिर लोगों से मोबाइल के जरिए डिजिटल करंसी को बढ़ावा देने की अपील की।
भोजपुरी में अपने भाषण की शुरुआत करने वाले पीएम मोदी ने कहा कि केंद्र की सरकार ने नोटबंदी का फैसला सिर्फ और सिर्फ गरीबों की भलाई के लिए लिया है। मोदी ने कहा, यह सारा पैसा गरीबों की भलाई के लिए काम आने वाला है। अब हम देश को लुटने नहीं देंगे। इस ईमानदारी के महायज्ञ में कष्ट झेलकर भी लोग आहुति दे रहे हैं। आने वाले वक्त में देश इस बात को स्वीकार करेगा कि फैसला कठोर कठोर था, पर भविष्य उज्जवल है।
नोटबंदी से लोगों को हो रही परेशानी का भी जिक्र करते हुए कहा कि बीमारी दूर करने वाली दवा भी तकलीफ देती है। मोदी ने कहा, मैंने 50 दिन मांगे हैं, पहले दिन ही कहा था कि तकलीफ होगी, बड़े लोगों को बड़ी तकलीफ होगी, छोटे लोगों को छोटी तकलीफ होगी। लोकतंत्र में कोई ऐसा फैसला लेने की हिम्मत नहीं कर पाता, पर जनता के आशीर्वाद से ऐसा कठोर फैसला लिया। 50 दिन तकलीफ होगी, अभी तो 20 दिन ही हुए हैं।
परिवर्तन रैली में भारी संख्या में जमा हुए लोगों को प्रधानमंत्री ने रविवार को अखबार में आए सरकारी विज्ञापन को मंच से दिखाते हुए आग्रह किया कि इसकी कटिंग हर दुकान में लगाई जाए। उन्होंने खास तौर पर पढ़े लिखे युवाओं और बीजेपी कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे दुकानों के बाहर इसे लगाएं और अपने आसपास के लोगों को मोबाइल से ट्रांजैक्शन करना सिखाएं। उन्होंने कहा, नोटों का इस्तेमाल काले धन वाले करना चाहते हैं, अब हम उन्हें सफल नहीं होने देंगे।
मोदी ने कहा कि तकनीक इतनी सरल हो गई है कि जिस तरह लोगों को मोबाइल रिचार्ज करना और वॉट्सऐप का मेसेज फॉरवर्ड करना खुद आ गया, वैसे ही मोबाइल से लेन-देन करना भी लोग सीख जाएंगे। उन्होंने कहा कि मोबाइल फोन ही अब बैंक की ब्रांच बन गया है।
इसके अलावा प्रधानमंत्री ने किसानों के हित के लिए केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का भी जिक्र किया। उन्होंने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसमें बुआई से लेकर कटाई तक में होने वाले नुकसान के लिए मुआवजे का प्रावधान है। मोदी ने कहा कि यूरिया के लिए लगने वाली किसानों की लाइन को भी एनडीए सरकार ने ही खत्म किया, पहले यूरिया केमिकल कारखानों में पहुंचा दिया जाता था। वहीं उन्होंने सॉइल हेल्थ कार्ड की अहमियत भी बताई।
यूपी की अखिलेश सरकार पर तंज कसते हुए पीएम ने कहा, यूपी की सरकार को मैं कहना चाहता हूं कि झगड़े शांत हो गए हों, किसानों की चिंता करने की फुर्सत मिल गई हो तो यूपी में फसल बीमा योजना को लागू करें। मुझे नहीं लगता है कि वे कर पाएंगे, उन्हें दिलचस्पी ही नहीं है।
पूर्वी उत्तर प्रदेश के विकास पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वी यूपी का विकास किए बगैर यूपी का विकास नहीं हो सकता। गन्ना किसानों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 2014-15 में गन्ना किसानों का 22 हजार करोड़ रुपया बकाया था जो अब लगभग खत्म किया जा चुका है।