udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news ६० बरसों से लोक की जागर विधा को संजो रहे सीमांत जनपद चमोली के जोशीमठ विकासखंड के गेणु लाल

६० बरसों से लोक की जागर विधा को संजो रहे सीमांत जनपद चमोली के जोशीमठ विकासखंड के गेणु लाल

Spread the love

g2 g1

उत्तराखंड की लोकसंस्कृति इतनी वैभवशाली है की हर कोई इसका मुरीद हो जाता है, इसी कड़ी में एक विधा है लोक जागरी, कल १७ सितम्बर को डांडी कांठीं क्लब द्वारा उत्तराखंड में पहली बार ‘’’जागर संरक्षण दिवस’’ मनाया जाएगा, जो आने वाले सालों में हर बरस मनाया जाएगा, उत्तराखंड में जागर विधा को जाने वाले बहुत कम लोग मौजूद है, और जो है भी लोग उनके बारे में बहुत कम जानते हैं, तो लीजिये इस बार ग्राउंड जीरो से आपको रूबरू करवातें हैं विगत ६० बरसों से लोक की जागर विधा को संजो रहे सीमांत जनपद चमोली के जोशीमठ विकासखंड के गेणु लाल से ——
१९४६ में देश में आजादी की सुबह की खुशबू फिजाओं में तैर रही थी, देशवासी बड़ी बेसब्री से आजादी का इन्तजार कर रहे थे, इसी अवधि में सीमांत जनपद चमोली के जोशीमठ विकासखंड के टंगणी मल्ला गांव में असुज्या देवी और असुज्या लाल के घर बड़े बेटे के रूप में गेणु लाल का जन्म हुआ, इनका परिवार कई पीढ़ियों से जागर विधा की पहचान रहा है, पूरे पैन्खंडा से लेकर दशोली, नागपुर मल्ला, बधाण, सहित कई परगने में इस परिवार के जागरों की धूम हुआ करती थी, या यों कहिये की अलकनंदा से लेकर बिरही, नन्दाकिनी, और पिंडर नदी के भूभाग में बसे गांवो में अगर कहीं भी लोकजागर की बात सामने आती थी तो सबसे पहले न्योता इस परिवार को दिया जाता था, पूर्वजों से विरासत में मिली जागर विधा को गेणु लाल ने महज ११ बरस की आयु में आत्मसात कर लिया था, ११ साल की आयु में उन्हें समस्त जागर कंठस्त हो गए थे, इन्होने जागरों को न कभी पढ़ा और न ही इसकी कोई ट्रेनिग ली बल्कि लोकसंस्कृति की अनोखी विधा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को स्थानान्तरण करने की प्रक्रिया से ही आत्मसात किया, और आज ७० साल की आयु में भी वे जागर विधा के चलते फिरते किसी संस्थान से कम नहीं है, आज भी नीति से लेकर माणा और डिम्मर से लेकर मंडल तक जहां भी जागर गाया जाता है तो गेणु लाल को सबसे पहले निमंत्र्ण भेजा जाता है, और हो भी क्यों न, क्योंकि उनकी आवाज में इतनी मिठास और दिव्य शक्ति है की जो एक बार उनके जागरों को सुन ले तो फिर वहीँ पर डेरा जमा लेता है, इन्हें विश्वकर्मा से लेकर घंटाकर्ण, कृष्ण भगवान से लेकर पांडवों की पंडवानी कंठस्त याद है, स्थानीय लोगों का कहना है की जब गेणु लाल जागरों में बादलों और हवाओं का आह्वान करतें है तो तेज बारिश और तेज हवाएँ चलने लगती है, जो की अपने आप में किसी दिव्य चमत्कार से कम नहीं है, उन्होंने एक नहीं बल्कि कई बार ऐसा साक्षत देखा है, भले ही आज के डिजिटल युग में शायद ही कोई ऐसा होगा जो इस प्रकार की बातों पर विश्वास कर सकेगा लेकिन वास्तव में ये हकीकत है, जागर विधा में इतनी महारथ हाशिल होने के बाद भी आज तक ज्यादा लोग इनके बारे में नहीं जान पायें है, इससे बड़ा दुःख का विषय और क्या हो सकता है की जिन लोगों ने बरसों से लोक की सांस्कृतिक विरासत को बचा के रखा है उन्ही लोगों से लोक आज भी अनजान है, ७० साल की उम्र में जहां लोग घर में ही कैद होकर रह जातें हैं वही गेणु लाल आज भी युवाओं की तरह जगह जगह अपने जागरों से लोगों को अभिभूत कर रहें हैं,
गेणु लाल जी से लोकसंस्कृति और जागर विधा पर लम्बी गुफ्तगू हुई जिस पर वे कहतें है की मुझे तो ये सब कुछ विरासत में मिला है, और ७० की उम्र में भी इस विरासत को बचाए हुये हूँ, दुःख होता है की युवा पीढ़ी अपनी इस सांस्कृतिक विरासत से विमुख हो चली है, फिर भी मेरी कोशिस है की अपनी विरासत को आने वाली पीढ़ी को दे सकूँ, और कुछ हद तक में इसमें सफल भी हुआ हूँ, कहतें हैं की जो आनंद और शुकून हमारी लोकसंस्कृति में है वो अन्यत्र कहीं नहीं, में अपने को धन्य मानता हूँ की जागरों के द्वारा भगवान की सेवा का मौका मिल जाता है, इससे बड़ी और कोई सेवा भी नहीं है, जब उन्हें सरकार की घोषणा श्रीनगर में जागर महाविद्यालय खुलने के बार में बताया तो उनकी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा कहतें है की ये काम तो कई बरस पहले हो जाना चाहिए था, चलो कोई नहीं किसी ने तो इस बारे में सोचा, आगे कहतें हैं की भगवान बदरी विशाल में हमारे पूर्वजों का बही खाता है, इसलिए जब भी अंतिम गांव माणा में भगवान् घंटाकर्ण की पूजा होती है तो हमें सबसे पहले निमन्त्रण भेजा जाता है, ये परम्परा पीढ़ी दर पीढ़ी चली आर रही है, और आज भी हम भगवान् घंटाकर्ण की पूजा में जरुर जागर गातें हैं, वे लोकसंस्कृति की उपेक्षा पर बेहद आहत है, कहतें है की आज लोकसंस्कृति को बचाने वाले को कोई नहीं पूछता है, बस किसी तरह से अपना गुजर बसर कर रहें हैं, परिवार की आजीविका के लिए वे जागर के अलावा रिंगाल-हस्तशिल्प का कार्य करतें हैं, जिसमे वे मस्टर ट्रेनर भी हैं, मास्टर ट्रेनर के रूप में वे टिहरी, उत्तरकाशी, देहरादून, हिमाचल, दिल्ली में सैकड़ों लोगों को प्रशिक्षण दे चुकें हैं, वे रिंगाल के हर डिजायन तैयार करतें हैं, जिनमे उनका कोई सानी नहीं हैं, इनके २ पुत्र और २ पुत्रियाँ भी है जिनकी शादी हो चुकी हैं, अगर आप भी गेणु लाल जी के जागरों को सुनना चाहतें हैं तो जरुर चले आइये जोशीमठ के टंगणी गांव,
वास्तव में यदि देखा जाय तो गेणु लाल जी जिस तरह से विगत ६० सालों से लोक की सांस्कृतिक विरासत को संजो रहें हैं उसका कोई मूल्य नहीं हो सकता है, ७० बरस की आयु में भी जागर गायन अद्भुभुत है, उनका ये कहना की जागरों के द्वारा भगवान् की सेवा का मौका मिलता है से साफ़ पता चलता है की वे अपनी लोकसंस्कृतिक को कितनी संजीदगी से संजोये हुयें हैं,

ग्राउंड जीरो से संजय चौहान