udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news काम करने का जुनून हो तो मुश्किलें हो जाती हैं आसान: मंगेश

काम करने का जुनून हो तो मुश्किलें हो जाती हैं आसान: मंगेश

Spread the love

हाईस्कूल एवं इंटर परीक्षा में टॉप करने वाले छात्रों को किया सम्मानित
शिक्षा विभाग एवं आईडीबीआई बैंक के सौजन्य से किया गया सम्मान समारोह का आयोजन
रुद्रप्रयाग। जिला कार्यालय सभागार में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने इस वर्ष उत्तराखण्ड हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट बोर्ड परीक्षा में जिले के टॉप 29 छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया। हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा में पूरे राज्य स्तर पर 21 व इण्टरमीडिएट में एक विद्यार्थी द्वारा प्रादेशिक स्तर पर स्थान प्राप्त किया गया।

शिक्षा विभाग और आईडीबीआई बैंक के सौजन्य से जिला कार्यालय सभागार में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने हाईस्कूल एवं इंटर बोर्ड परीक्षा में श्रेष्ठता सूची में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने वाल छात्रों को मोमेंटो, किताब और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि जनपद के विद्यार्थियों ने प्रदेश स्तर पर स्थान प्राप्त किया है, इसके लिए उनके गुरूजन एवं अभिभावक बधाई के पात्र है। साथ ही दूरस्थ विद्यालयों के विद्यार्थियों के लिए प्रदेश में स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थी रोल मॉडल है। इन विद्यार्थियों से प्रेरित होकर दूरस्थ क्षेत्र के विद्यार्थी भी प्रदेश में स्थान प्राप्त करने के लिए प्रयास करेंगे।

उन्होंने कहा कि किसी भी काम को करने का जुनून हो तो, उसके आगे हर तरह की परिस्थितियां और रूकावटें भी स्वयं समाप्त हो जाती हैं। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने अपने जीवन के अनुभवों को भी साझा किया। उन्होंने कहा कि डीआरडीओ में वैज्ञानिक पद में कार्यरत के समय सिविल सेवा की तैयारी की व लक्ष्य को प्राप्त किया। उन्होंने सभी अभिभावकों से आग्रह किया कि अपने बच्चों के भीतर नैतिक शिक्षा का समावेश करें, ताकि वह भविष्य में एक सकारात्मक और सफल नागरिक बनकर देश की सेवा करें।

जिलाधिकारी ने कहा कि रुद्रप्रयाग पहाड़ी जनपद होने के कारण यहां विषम परिस्थितिंया है। महानगरों से दूरी होने के कारण यहां के बच्चे वर्तमान तकनीकी व परिवेश के अनुसार अपने को ढाल सके इसके लिए वर्तमान में जनपद में मेडिकल व इंजीनियरिंग की कोंचिग दी जा रही है। इससे जनपद में तैयारी का माहौल बनेगा व बच्चों को मेडिकल, आईआईटी में सेलेक्शन होगा। बच्चे कल का भविष्य व आशा है।

जिलाधिकारी ने 12वीं उत्तीर्ण कर चुके बच्चों को प्लेन बीएससी के स्थान पर तकनीकी कोर्स करने का सुझाव दिया। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने अपना परिचय व अपने लक्ष्य के बारे मे बताया।इस अवसर पर बोर्ड परीक्षा में टॉपर रहे छात्र-छात्राओं ने भी अपने- अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने बताया कि उनकी सफलता के पीछे अभिभावक और अध्यापकों को अहम योगदान है। बताया कि उनके टीचर और अभिभावक उन्हें हमेशा प्रेरित करते आए है, इसके साथ ही स्कूल में टीचर्स छुट्टी के दिन भी अतिरिक्त कक्षाएं चलाते थे, जिसकी बदौलत ही उन्हें यह कामयाबी मिली है।

इस अवसर पर मुख्य शिक्षा अधिकारी चित्रानंद काला ने सभी मेधावी छात्रों को बधाई देते हुए उन्हें उज्जवल भविष्य की कामना की। उन्होंने कहा कि मेरिट सूची में बच्चों ने स्थान प्राप्त कर जिले का नाम रोशन किया है। मुख्य शिक्षाधिकारी ने कहा कि अच्छे अंको को प्राप्त करने के साथ ही सुसंस्कृत होना आवश्यक है तभी हम देश का विकास में योगदान कर सकते है। कार्यक्रम में प्रबन्धक आईडीबीआई मंयक बहुगुणा, जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक एलएस दानू, बेसिक विद्या शंकर चतुर्वेदी, जिला सेवायोजन अधिकारी कपिल पाण्डे विद्यालय के प्रधानाचार्य सहित मेधावी छात्र, अभिभावक मौजूद थे।
फोटो: हाईस्कूल एवं इंटर के मेधावी छात्र (19आरडीपी5)