udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news कब्र में दफन होने के बाद जिंदा लौटा युवक!

कब्र में दफन होने के बाद जिंदा लौटा युवक!

Spread the love

जम्मू-कश्मीर: कब्र में दफन होने के बाद जिंदा लौटा युवक! आप भी इस कहानी को पढे़गे तो आप भी विश्वास नहीं करेंगे लेकिन यह कोई काल्पनिक घटना नहीं बल्कि हकीकत है और ऐसा ही एक मामला सामने आया है जम्बू-कश्मीर में। चलिए आपको बताते है इस कहानी को विस्तार से-

 

जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में शुक्रवार की दोपहर जिला मजिस्ट्रेट राहुल यादव की तरफ से जारी आदेश पर जिले की मेंढर तहसील के गांव कसाब अढ़ी के एक कब्रिस्तान से आठ महीने बाद डीएनए सैंपल लेने के लिए एक युवक के शव को कब्र से बाहर निकाला गया। सैंपल लेने के बाद उसे दोबारा दफना दिया गया।

 

जानकारी के अनुसार, एडिशनल सुपरिटेंडेंट रेलवे पुलिस जम्मू की तरफ से जिला मजिस्ट्रेट पुंछ को 12 नवंबर को एक प्रार्थना पत्र (एएसपी रेलवे/18/270.75) भेजा गया। इसमें बताया गया कि इस साल 9 मार्च को एक अज्ञात पुरुष की जम्मू में रेलवे ट्रैक पर मौत हो गई थी।

 

रेलवे पुलिस ने मामले की जांच के सिलसिले में मेंढर तहसील के गांव कसाब अढ़ी में दफन शव का डीएनए सैंपल लेने के लिए उसे कब्र से बाहर निकालने की मांग की थी। इस पर जिला मजिस्ट्रेट ने बीएमओ मेंढर डॉ. परवेज अहमद खान, नायब तहसीलदार मेंढर तारिफ हुसैन शाह की देखरेख में क्रब से शव बाहर निकलवाने का आदेश दिया। चार डाक्टरों की टीम द्वारा डीएनए सैंपल एकत्र कर शव को दोबारा दफन कर दिया गया।

 

गांव कसाब अढ़ी निवासी नजाम दीन का पुत्र मोहम्मद मुजमिल किसी अन्य राज्य में काम की तलाश में गया हुआ था। काफी दिनों तक उसका परिवार से कोई संपर्क नहीं हो पाया। इसी साल मार्च महीने में जम्मू में रेलवे लाईन पर एक अज्ञात शव बरामद हुआ।

 

इसकी पहचान के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए रेलवे पुलिस ने समाचार पत्रों में शव के फोटो सहित शव मिलने की सूचना प्रकाशित करवाई थी।

 

इसे देख कर मुजमिल के परिजनों ने उस शव को अपने पुत्र का शव बताते हुए रेलवे पुलिस के पास अर्जी दी। इसके बाद कानूनी कार्रवाई पूरी करते हुए शव को परिजनों को सौंप दिया गया। उन्होंने उसे मुजमिल का शव मानते हुए 12 मार्च को अपने पैत्रिक कब्रिस्तान में पूरे रीति रिवाज से सपुर्दे खाक कर दिया था।

 

इस बीच अक्तूबर में अचानक मुजमिल अपने घर लौट आया। उसे देख कर परिजन हैरान हो गए। जब मुजमिल ने बताया कि वह काम के सिलसिले में दिल्ली जा रहा था, जहां उसका मोबाइल फोन और अन्य सामान चोरी हो गया था।

 

इस कारण वह परिवार से संपर्क नहीं कर पाया। पुत्र के जीवित घर लौट आने पर परिजन परेशान हो रहे थे कि उन्होंने किसके शव को सपुर्दे खाक किया है। उन्होंने पूरे मामले की जानकारी मेंढर थाने में दी। इसके बाद मेंढर थाने ने पूरी जानकारी रेलवे पुलिस जम्मू को दी।

 

बाद में रेलवे पुलिस ने मेंढर के गांव कसाब अढ़ी में दफन शव के डीएनए की जांच के लिए यह कदम उठाया है, ताकि शव के बारे में पता लगाया जा सके कि वह अज्ञात शव किसका है।