udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news करोड़पति एग्जिक्यूटिव्स के मामले में टीसीएस मीलों आगे

करोड़पति एग्जिक्यूटिव्स के मामले में टीसीएस मीलों आगे

Spread the love

बेंगलुरु। देश की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सर्विसेज कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) ने फाइनैंशल ईयर 2017 में अपने 91 एंप्लॉयीज को एक करोड़ रुपए से अधिक सैलरी दी है। यह संख्या इसकी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों इन्फोसिस और विप्रो से कहीं अधिक है। टीसीएस के इन करोड़पतियों में से लगभग एक-चौथाई ने अपना पूरा करियर इसी कंपनी में बिताया है।

 

इन्फोसिस के पास भारत में एक करोड़ रुपए से अधिक की सैलरी पाने वाले 51 एग्जिक्युटिव हैं और इनमें से लगभग 16 पर्सेंट अपने करियर की शुरुआत से ही कंपनी से जुड़े हैं। विप्रो के पास इस तरह के 61 एंप्लॉयीज हैं और इनमें से करीब 27 पर्सेंट ने कंपनी में अपने करियर का पूरा समय बिताया है।

 

मुंबई की एक ब्रोकरेज फर्म के ऐनालिस्ट ने बताया, इन्फोसिस या विप्रो से टीसीएस बहुत बड़ी है और एग्जिक्युटिव्स का लंबे समय तक बने रहना कंपनी के लिए काफी महत्वपूर्ण है। टीसीएस में कंपनी के एंप्लॉयीज को ही प्रमोशन देने की परंपरा है। ऐसा बमुश्किल होता है कि कोई एग्जिक्युटिव बाहर से लाया जाए। टीसीएस ने इस बारे में टिप्पणी के लिए भेजी गई ईमेल का जवाब नहीं दिया।

 

विदेश में मौजूद टीसीएस के एग्जिक्युटिव्स को कहीं अधिक सैलरी मिलती है, जो फॉरन करंसी में होती है। पिछले फाइनेंशल ईयर में टीसीएस का रेवेन्यू 17.5 अरब डॉलर का था। टीसीएस के एंप्लॉयीज की संख्या 3,80,000 से अधिक है, जबकि इन्फोसिस के पास 2,00,000 से कम और विप्रो के पास 1,80,000 से अधिक एंप्लॉयीज हैं। एक दिलचस्प बात यह है कि टीसीएस के करोड़पति एग्जिक्युटिव्स में 70 वर्षीय बरीन्द्र सान्याल भी शामिल हैं, जो 2003 में टाटा एसएसएल लिमिटेड से आए थे।

 

वह वाइस प्रेजिडेंट (फाइनेंस) हैं। उन्हें पिछले फाइनेंशियल ईयर में 1.89 करोड़ रुपये की सैलरी मिली थी। कंपनी के एक एग्जिक्युटिव ने बताया, सान्याल के पास ऐसे स्किल हैं जिनकी कंपनी को जरूरत है। वह टीसीएस फाउंडेशन से भी जुड़े हैं।

 

रिपोर्ट के अनुसार इन्फोसिस के पास विदेश में 1,800 से अधिक ऐसे एंप्लॉयीज हैं जिन्हें एक करोड़ रुपये से अधिक की सैलरी मिल रही है। इनमें से 150 को पिछले फाइनेंशल ईयर में हायर किया गया है। इन्फोसिस के सीईओ के तौर पर विशाल सिक्का के कमान संभालने के बाद से कंपनी ने विदेश में 700 से अधिक करोड़पति एंप्लॉयीज हायर किए हैं।