udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news केदारघाटी : यात्रा मार्ग के शौचालयों में फैली है गंदगी !

केदारघाटी : यात्रा मार्ग के शौचालयों में फैली है गंदगी !

Spread the love

सवालों के घेरे में सुलभ इंटरनेशनल, शौचालय निर्माण के दौरान नहीं बनाये पिट
शौचालय में गंदगी फैलने से यात्री मंदाकिनी नदी में जाने को मजबूर

रुद्रप्रयाग। केदारघाटी में सफाई व्यवस्था की जिम्मेदारी लेने वाले सुलभ इंटरनेशनल की लापरवाही के कारण गौरीकुंड स्थित शौचालयों में गंदगी फैली हुई है। सुलभ ने भारी भरकम बजट को ठिकाने लगाने के लिए मल पिट निर्मित नहीं किये हैं।

इन्हीं टेंटों में बड़ा बॉक्स बनाकर कार्य की इतिश्री की गई है। गौर करने वाली बात यह भी है कि यात्रा को लेकर अधिकारियों का अमला व्यवस्थाओं का जायजा ले रहा है, लेकिन उन्हें गौरीकंुड में फैली गंदगी नहीं दिखाई दे रही है। सुलभ ने गर्म कुंड के निकट प्रीफैब्रिक शौचालय निर्मित तो किये हैं, मगर पिट नहीं बनाये गये हैं। ऐसे में यात्राकाल में तीर्थयात्रियों को मंदाकिनी नदी के किनारे मल मूत्र का विसर्जन करना पड़ता है।

आपदा को बीते साढ़े चार साल का समय हो चुका है, लेकिन गौरीकुंड में आज भी अव्यवस्थाएं फैली हुई है। आपदा के दौरान गौरी का कुंड पूर्णरूप से क्षतिग्रस्त हो गया था, लेकिन बाद में इसके जलश्रोत को ढंूढा गया और इसके चारों ओर लेानिवि ने कुंड का निर्माण किया। इस कुंड में स्नान करने के लिये यात्राकाल के दौरान सैकड़ो की तादात में तीर्थयात्री स्नान करके पुण्य अर्जित करते हैं।

उनकी दिक्कतों को देखते हुये सुलभ इंटरनेशनल ने यहां पर आठ शौचालयों का निर्माण तो किया, लेकिन मलपिट निर्मित नहीं किया गया। जिससे तीर्थ यात्रियों को दिक्कतों से जूझना पड़ता है। शौचालयों में गंदगी फैली होने से तीर्थयात्रियों को मजबूरत ही निकट बह रही मंदाकिनी नदी में खुलेआम मलमूत्र करना पड़ता है।

सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश उनियाल ने कहा कि सुलभ प्रति वर्ष यात्रा मार्गों पर शौचालय निर्मित कर रहा है, लेकिन कहीं भी स्वच्छता की कोई व्यवस्था नहीं है। ऐसे में तीर्थयात्रियों को भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही हैं। कहा कि भारी बजट को ठिकाने लगाने के लिये हर वर्ष सुलभ विभिन्न कस्बों में अस्थार्इ्र शौचालयों का निर्माण कर रही है।

यात्राकाल के बाद इन बोरों को निकाला जाता है। कहा कि बजट को ठिकाने लगाने में सुलभ माहिर नजर आ रहा है। इतने बजट में तो स्थाई शौचालय निर्मित किये जा सकते हैं। यदि इस वर्ष समस्या का समाधान नहीं किया गया तो सुलभ के विरोध में आंदोलन छेड़ा जायेगा। वहीं जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि इस वर्ष यात्रा से पहले सुलभ द्वारा बनाये गये शौचालयों की सफाई और मरम्मत करवाई जायेगी।

इसके साथ ही यह भी ध्यान रखा जायेगा कि शौचालय की गंदगी बाहर न फैले। सुलभ को सख्त हिदायत दी जायेगी कि वह सही तरीके से कार्य करे। अगर ऐसा नहीं किया जायेगा तो सुलभ इंटरनेशनल के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जायेगी।