udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news केदारनाथ में यात्रा व्यवस्थाएं संभालेंगे युवा

केदारनाथ में यात्रा व्यवस्थाएं संभालेंगे युवा

Spread the love

रुद्रप्रयाग। जून 2013 की आपदा के बाद यह पहला मौका है, जब बड़ी संख्या में केदारघाटी के युवा केदारनाथ यात्रा से जुडक़र आजीविका कमा सकेंगे। इसके लिए जिला प्रशासन स्थानीय युवाओं को केदारपुरी समेत गौरीकुंड-केदारनाथ पैदल मार्ग के विभिन्न पड़ावों पर टेंट लगाने की अनुमति दे रहा है। इन टेंट में यात्रियों के खाने-ठहरने की पूरी व्यवस्था होगी।

आपदा के बाद केदारनाथ यात्रा से जुड़े घाटी के हजारों युवा पूरी तरह बेरोजगार हो गए थे। साथ ही तत्कालीन परिस्थितियों को देखते हुए प्रशासन ने भी यात्रा से जुड़ी सभी व्यवस्थाएं अपने हाथ में ले ली थीं। लेकिन, अब यात्रा व्यवस्थाएं पटरी पर आ चुकी हैं और बीते वर्ष लगभग पांच लाख यात्री बाबा केदार के दर्शनों को पहुंचे। इस बार उम्मीद और अधिक यात्रियों के पहुंचने की है।

लिहाजा, बदली परिस्थितियों में प्रशासन ने यात्रा व्यवस्थाओं में स्थानीय लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करना चाहता है। 29 अप्रैल को केदारनाथ यात्रा शुरू होने से पूर्व तीर्थ पुरोहितों को केदारपुरी में 42 भवन आवंटित किए जा रहे हैं। जबकि, स्थानीय युवाओं को छोटी व बड़ी लिनचोली, भीमबली, जंगलचट्टी, केदारनाथ बेस कैंप और केदारपुरी में टेंट लगाने की अनुमति दी जा रही है।

गौरीकुंड-केदारनाथ पैदल मार्ग के पड़ावों पर टेंट लगाने के लिए प्रशासन ने स्थानीय युवाओं से आवेदन मांगे थे। अब तक सौ से अधिक आवेदन आ चुके हैं। इनसे प्रशासन प्रति माह 1500 रुपये प्रति टेंट के हिसाब से शुल्क लेगा।जिलाधिकारी (रुद्रप्रयाग) मंगेश घिल्डियाल का कहना है कि यात्रा मार्ग पर टेंट लगाने से स्थानीय युवाओं को तो रोजगार मिलेगा ही, यात्रियों की संख्या बढऩे पर उनके खाने-ठहरने की व्यवस्था भी आसानी से हो जाएगी।

तीर्थ पुरोहित (केदारनाथ धाम) श्रीनिवास पोस्ती का कहना है कि सरकार का यह पहल सराहनीय है। स्थानीय युवाओं के एक बार फिर यात्रा व्यवस्था से जुडऩे से प्रशासन को भी काफी मदद मिलेगी।