udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news क्षेत्र में वृहद् स्वच्छता अभियान चलाया

क्षेत्र में वृहद् स्वच्छता अभियान चलाया

Spread the love

रूद्रप्रयाग:    सिंचाई विभाग द्वारा नमामि गंगे के तहत जिलाधिकारी की अगुवाई में स्कूली बच्चों, स्थानीय लोगो, अधिकारियों, कर्मचारियों ने पेट्रोल पम्प से तिलवाड़ा सुमाडी होते हुए सुमाड़ी जैली मार्ग तक स्वच्छता जनजागरूकता रैली निकाली।

 

इसके पष्चात क्षेत्र में वृहद् स्वच्छता अभियान चलाया गया जिसमें तिलवाडा- सुमाडी क्षेत्र से 50 व सूर्यप्रयाग घाट में 20 से अधिक कूडे के कट्टे एकत्रित किये गये। इस अवसर पर अधिकारी, कर्मचारी, स्कूली बच्चों के साथ ही जनप्रतिनिधियों, स्थानीय लोगों व व्यापरियों द्वारा मां गंगा के समक्ष स्वच्छता की षपथ ली गई।

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने गंगा जल के धार्मिक महत्व पर विस्तार से जानकारी दी। गंगा जल के वैज्ञानिक महत्व के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि गंगा जल में बैक्टिरयो फेज नामक विषाणु पाया जाता है जो कि जल में उपस्थित समस्त जीवाणु को खा देता है।

 

इसी कारण गंगा जल कई वर्षो तक रखने के बावजूद खराब नहीं होता । कूडे के निस्तारण के सम्बन्ध में कहा कि कूड़ादान में कूडा इकट्ठा करने के साथ ही समय पर कूडे का निस्तारण आवष्यक है। समय पर कूडे का निस्तारण करने से ही स्वच्छता कायम रहेगाी। कूडे को अजैविक व जैविक पदार्थो को अलग-अलग कर कूडे को देने से कूडे का भी समुचित प्रयोग किया जा सकता है।

इस अवसर पर सूर्यप्रयाग के पास जिलाधिकारी द्वारा वृक्षारोपण किया गया। स्वच्छता की जनजागरुकता के लिए हरीष भारती की टीम द्वारा नुक्कड नाटक का मंचन किया गया। सुमाडी वेडिंग प्वाइंट में गोष्ठी का आयोजन भी किया गया। इस दौरान स्वच्छता के विषय पर अन्तर विद्यालयी भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। भाषण प्रतियोगिता में आदर्ष, वन्दना व अक्षया ने क्रमषः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया।

 

ग्रामीण महिलाओं द्वारा स्वच्छता प्रतिभाग करने पर बबली देवी, देता देवी, षषि देवी को उपहार व प्रषस्ति-पत्र भंेट किया गया। अपने वक्तव्यों में स्कूली बच्चों द्वारा स्वच्छता के सम्बन्ध में आत्मनिर्भर रहने की बात कही गई। कहा कि अपनी गंदगी स्वंय साफ की जानी चाहिए। इसके लिए किसी सरकार तंत्र पर निर्भर रहना गलत है।

इस अवसर पर नमामि गंगे दिल्ली से डाॅ संदीप बोहरा, पर्यावरण विद् जगत सिंह जंगली, प्रधान सुमाडी गणेषी देवी,डीएफओ मंयक षेखर, एसडीएम सदर देवानंद, डीडीओ ए एस गुज्याल, परियोजना प्रबन्धक स्वजल एम एस नेगी , जिला समाज कल्याण अधिकारी बी एस रावत, डीडीएमओ हरीष चन्द्र सहित अधिकारी, कर्मचारी व ग्रामीण उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन सहायक अभियंता सिंचाई मोहन सिंह बुटोला ने किया।