udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news लेह में माइनस 14 डिग्री सेल्सियस पहुंचा पारा

लेह में माइनस 14 डिग्री सेल्सियस पहुंचा पारा

Spread the love

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के लेह क्षेत्र में कल इस मौसम की सबसे ठंडी रात दर्ज की गई, यहां का न्यूनतम तापमान शून्य से करीब 14 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया। वहीं कश्मीर घाटी और लद्दाख में भी तापमान शून्य से नीचे दर्ज किया जा रहा है।

मौसम विभाग के अधिकारी ने यहां बताया कि फ्रंटियर लद्दाख के लेह क्षेत्र में कल रात शून्य से 13.8 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया, इससे पहले यहां रात में शून्य से 11.4 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया था। उन्होंने बताया कि शहर में इस मौसम की यह सबसे ठंडी रात थी। कल रात राज्य में यहां सबसे कम तापमान दर्ज किया गया।

अधिकारी ने बताया कि करगिल शहर में कल रात शून्य से करीब 11.2 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया। पिछली रात की अपेक्षा यहां दो डिग्री सेल्सियस कम तापमान दर्ज किया गया। जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से 3.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। दक्षिणी कश्मीर के काजीगुंड में तापमान शून्य से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि कोकेरनाग में शून्य से 0.4 डिग्री सेल्सियस नीचे गिर गया। अधिकारी ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा में कल रात शून्य से 4.1 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया। उन्होंने बताया कि उत्तरी कश्मीर में रिजॉर्ट के लिए मशहूर गुलमर्ग में कल रात शून्य से 6.6 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान गिर गया था,

इससे पहली वाली रात में यहां शून्य से 5.4 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया था। सालाना अमरनाथ यात्रा में आधार शिविर के रूप में इस्तेमाल होने वाले पहलगाम में कल रात शून्य से 5.5 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया। मौजूदा समय में कश्मीर में ‘चिलाई कलां’ चल रहा है, यह 40 दिन की अवधि होती है।

इस दौरान बर्फबारी और तापमान गिरने की सबसे ज्यादा संभावना होती है। मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि ‘चिलाई कलां’ की अवधि 31 जनवरी को समाप्त होती है लेकिन इसके बाद भी घाटी में ठंड बनी रहती है। मौसम अधिकारी ने अगले कुछ दिनों के लिए कश्मीर में मौसम के शुष्क बने रहने की संभावना जताई है।