udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news मानकों के तहत कार्य न होने पर डीएम गुस्से में !

मानकों के तहत कार्य न होने पर डीएम गुस्से में !

Spread the love

विकासखण्ड अगस्त्यमुनि के सारी गांव का किया निरीक्षण
विकास कार्यों में लापरवाही बरते जाने पर अधिकारियों को लताड़ा
रुद्रप्रयाग। विकासखण्ड अगस्त्यमुनि के सारी गांव में स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वजल द्वारा बनायी गयी पक्की नाली का जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने निरीक्षण किया। नाली के कार्य में मानकों के अनुसार कार्य न किये जाने पर डीएम ने रोष जताया और कहा कि अधिकारियों की लापरवाही के कारण विकास कार्यों में अनियमितताएं बरती जा रही हैं।

जिलाघिकारी ने गांव मंें 30 कम्पोस्ट खाद्य के गड्ढो का निरीक्षण किया, जिनकी लम्बाई 2.38, चौडाई 1.60, ऊंचाई एक मीटर है। डीएम ने कहा कि गांव में कम्पोस्ट खाद के गड्ढे होने के पश्चात भी गांववासियों द्वारा गोबर रास्तों पर डाला जा रहा है। उन्होंने नाराजगी प्रकट करते हुए कहा कि गांव में फैली गंदगी की सफाई कौन करेगा। कहा कि आप लोग अपने अधिकार के प्रति जागरूक हैं, पर अपने कर्तव्य के लिये जागरूक नहीं है।

उन्हांेने कहा कि गांव नदी किनारे होने पर ये कूड़ा-करकट और गंदगी नदी को भी गंदा करेगी। कहा कि आप लोग शिक्षित होने के बावजूद भी गांव में गंदगी और कूड़ा-करकट का अम्बार बना है, जिससे गांव में चलना मुश्किल हो गया है। उन्होंने कहा कि गांव के लोग महीने में एक दिन गांव की साफ-सफाई करना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर ग्रामीणों ने पानी और सिंचाई की नहर की समस्या जिलाधिकारी के समक्ष रखी।

इसके पश्चात जिलाधिकारी गांव से पांच किमी पैदल चलकर गेल्यूं तोक पर पानी की एकल पेयजल योजना की लाइन और सिंचाई नहर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि पीएमजीएसवाई द्वारा सड़क बनाते समय पानी की लाइन और सिंचाई की नहर क्षतिग्रस्त हो गयी थी, जिस पर जिलाधिकारी ने पीएमजीएसवाई को पानी की लाइन सही करने के साथ-साथ लोहे के पाइपों का इस्तेमाल कर एक सप्ताह के अन्तर्गत क्षतिग्रस्त पानी की लाइन को ठीक करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता सिंचाई विभाग को क्षतिग्रस्त नहर का स्टमेट बनाकर पीएमसजीएसवाई को प्रेषित करने को कहा।

निरीक्षण के दौरान प्रधान ग्राम सभा सारी दशरथ सिंह नगवाल, अधिशासी अभियंता सिंचाई त्रिलोक सिंह गुसांई, अधिशासी अभियन्ता आरसी उनियाल, ग्रामीण दिनेश प्रसाद, बलवीर सिंह बिष्ट, दिनेश सिंह बिष्ट, संजय सिंह बिष्ट, सन्दीप सिंह बिष्ट सहित आदि ग्रामीण एवं कर्मचारी उपस्थित थे।