udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news मानसून: 17 राज्यों में भारी बारिश, उफनती नदी में एक बस बही

मानसून: 17 राज्यों में भारी बारिश, उफनती नदी में एक बस बही

Spread the love

हिमाचल में बर्फबारी की वजह से कई हाईवे बंद,कुल्लू में बाढ़ में फंसे 19 लोगों को एयरलिफ्ट किया गया

नई दिल्ली: दक्षिण पश्चिम मानसून रविवार को सक्रिय रहा। इसके चलते उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, उत्तरप्रदेश और हरियाणा समेत 17 राज्यों में भारी बारिश हुई। उत्तराखंड में लगातार जारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है वहीं ठंड भी बढ़ गयी है। हिमाचल में बारिश ने भारी तबाही मचायी है.

हिमाचल प्रदेश में बीते 48 घंटों से रुक-रुक हो रही मूसलाधार बारिश ने भारी तबाही मचाई है. मूसलाधार बारिश से चंडीगढ़-मनाली हाईवे सहित 126 सड़कें आवाजाही के लिए बंद हैं. प्रदेश में सोमवार को 10 जिलों में स्कूल और कॉलेज बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं. कुल्लू में बादल फटने से डोभी विहाल में ब्यास नदी के बीच 19 लोग फंस गए थे, जिन्हें हेलिकॉप्टर से रेस्क्यू किया गया है.

 

रोहतांग में बर्फबारी में फंसे 28 लोग
चंबा जिला को जोड़ने वाले 100 वर्ष पुराने शीतला ब्रिज में भी दरारें आ गई हैं. यहां बालू ब्रिज को आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है. वहीं, रोहतांग पास में बर्फबारी के कारण फंसे 28 लोगों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित निकाल लिया. मनाली में नदी के तेज बहाव में प्राइवेट बस के अलावा, ट्रक बह गया है. हिमाचल सरकार ने लोगों से आह्वान किया है कि वे नदी के किनारे न जाएं.रोहतांग दर्रे पर चार फीट से अधिक बर्फबारी दर्ज की है. बारालाचा दर्रे सहित कुंजुम दर्रे और रोहतांग दर्रा में दो से ढाई फुट, ब्यासनल में 5 इंच, सोलंग के फतरु व गुलाबा में 3 इंच बर्फबारी हुई है.

सीएम जयराम ठाकुर शिमला में पीटरहॉफ में रविवार को एक कार्यक्रम में व्यस्त थे. इस दौरान उन्हें सूचना मिली कि कुल्लू में 19 लोग फंसे हैं. सीएम ने एयरफोर्स के अधिकारियों से बातचीत कर हेलिकॉफ्टर मंगवाया और फंसे लोगों को सुरक्षित भुंतर एयरपोर्ट पहुंचाया.प्रदेश के 12 जिलों में से केवल सोलन और ऊना को छोड़कर बाकी सभी जिलों में रेड अलर्ट जारी किया गया है. जिला प्रशासन ने इन जिलों में सरकारी और गैरसरकारी शिक्षण संस्थानों में सोमवार को बंद रखने के आदेश दिए हैं. प्रदेश में भारी बारिश और आपदा से निपटने के लिए अधिकारियों ने बैठक की है. बैठक में सभी उपायुक्तों को कहा गया है कि वह मौसम की स्थिति को देखते हुए जरूरी कदम उठाएं. एसीएस राजस्व मनीषा नंदा ने भी बैठक में शिरकत की.

हिमाचल में बीते दो दिन से भारी बारिश हो रही है. मौसम विभाग शिमला ने सोमवार को भी सूबे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. मौसम विज्ञान शिमला केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह के अनुसार, प्रदेश में सोमवार को कई इलाकों में भारी बारिश होगी.बिलासपुर के नैना देवी में 178.2एमएम, मंडी के सरकारघाट में 137एमएम, बिलासपुर में 132.6एमएम, मनाली में 127.4एमएम, धर्मशाला में 125.2एमएम, ऊना में 124.2एमएम, मंडी के जोगिंद्रनगर में 115एमएम, सोलन के कसौली में 105एमएम, हमीरपुर के नादौन में 104 एमएम और शिमला में 47 मिमी बारिश दर्ज की गई है.

मनाली और कुल्लू में बारिश से तबाही
(1)मनाली के समीप प्रशासन की तरफ से बनाया हेलीपैड बहा.
(2) कुल्लू-मनाली मार्ग पर डोभी के समीप पुल के बहने का खतरा.
(3)क्लॉथ गर्म पानी का स्नानागार बहा.
(4) कुल्लू से मनाली के बीच नेशनल हाईवे-21 जगह-जगह अवरुद्ध.
(5) मनाली में निजी बस बही.
(6) कुल्लू में ट्रक बहा.
(7) केलांग में दो फुट बर्फबारी.
(8).पहली बार पहाड़ों में गिरी बर्फ, निचले क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात.
(9)रोहतांग दर्रा से अब तक करीब 31 लोग रेस्क्यू किए जा चुके हैं.
(10)डोभी विहाल से बाढ़ में फंसे 19 लोगों को किया गया रेस्क्यू.
(11) रोहतांग दर्रे पर अब तक 4 फुट बर्फ़बारी.

सूबे में 126 सड़कें भारी बारिश और भूस्खलन के कारण बंद हो गई हैं. इसके अलावा, मंडी में ओट से आगे हाईवे पर ब्यास नदी का पानी आ गया है, इस वजह से मनाली नेशनल हाइवे पर भी बंद हो गया है. वहीं, 24 घंटे में बारिश से लोक निर्माण विभाग को 9 करोड़ का नुकसान हुआ है. भरमौर में मलबा गिरने से 60 भेड़-बकरियां दब गईं. वहीं, सिरमौर जिले में गिरी नदी में एक शख्स के बहने की खबर है.

लाहौल जिले के कोकसर में डेढ़ फुट बर्फ गिरी है. इसके अलावा, दारजा में ढ़ाई फुट, लोसर में आधा फुट, केलांग में दो फुट, उदयपुर में 5 से 6 इंच बर्फबारी दर्ज की गई है. स्पीति में काजा-रिकांगपियो मार्ग को छोड़कर बाकी सभी मार्ग बाधित हैं. हिमाचल में 1 जुलाई से 23 सितंबर तक 1231 करोड़ का नुकसान हो चुका है. अकेले लोक निर्माण विभाग को 745 करोड, आईपीएच को 328 करोड, ऊर्जा क्षेत्र को 23 करोड़, पशुपालन विभाग को 5 लाख, शिक्षा विभाग को 5 करोड़ 5 लाख, मत्स्य पालन को 62 लाख और कृषि विभाग को 79 करोड़ का नुकसान हुआ है.