udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news महाकुम्भ का सफल आयोजन बड़ी चुनौती

महाकुम्भ का सफल आयोजन बड़ी चुनौती

Spread the love
हरिद्वार/देहरादून : मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को हरिद्वार में आयोजित ’’इनोवेशन समिट’’ में प्रतिभाग किया। हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण व टैक्नोमीडिया प्राइवेट लिमिटेड की ओर से हरिद्वार में आयोजित होने वाले आगामी महाकुम्भ को भव्य रूप से आयोजित करने के उद्देश्य से इस दो दिवसीय ’’इनोवेशन समिट’’ का अयोजन किया गया है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि महाकुम्भ का सफल आयोजन शासन-प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। यह देश और प्रदेश के लिए एक अवसर भी है। कुम्भ न केवल भारत बल्कि विश्व की आस्था का केंद्र भी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्लास्टिक गृह में परिवर्तित हो रही पृथ्वी की रक्षा के लिए आगामी महाकुम्भ को प्लास्टिक मुक्त बनाया जायेगा। इसके लिए सरकार द्वारा पहल शुरू की जा रही है। जिसमें प्लास्टिक का प्रयोग कर रहे व्यक्तियों को कपड़े या जूट का थैला उपलब्ध कराया जायेगा।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बनने के बाद सबसे पहली चर्चा कुम्भ मेला को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने की थी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के शहरी विकास मंत्री द्वारा जिला प्रशासन और संत समाज के साथ मिलकर इस पर समय से कार्य और बातचीत भी शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुम्भ के अनुभवी अधिकारी इस समिट के माध्यम से आज जो भी प्लान और संसाधन कुम्भ की दृष्टि से आवश्यक समझते हो, उन्हें उपलब्ध करायें।
इन संसाधनों को सरकार द्वारा पूरा करने की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पास योग्य अधिकारी हैं, जो जन-सहभागिता से महाकुम्भ को सम्पन्न कराकर विश्व पटल पर ख्याति अर्जित करते आये हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर हरिद्वार विकास प्राधिकरण के (हैश) पोर्टल तथा विकास विभाग के प्रगति पोर्टल की लाॅचिंग भी की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनवरी वर्ष 2019 तक प्रदेश में गौमुख से लेकर राज्य की अंतिम सीमा में गंगा को गंदे नालो से मुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गौ वंश को सड़कों पर आवारा, घायल तथा बीमार होने से बचाना भी सरकार का लक्ष्य है, जिसे सरकार शीघ्र प्राप्त करेगी। मुख्यमंत्री ने देवी की 52 शक्ति पीठों की एक संयुक्त प्रतिकृति का तीर्थ स्थल जनपद हरिद्वार में तैयार करने की भी घोषणा की।
शहरी विकास मंत्री श्री मदन कौशिक ने कहा कि कुम्भ मेले को ऐतिहासिक बनाया जायेगा। इसके लिए केंद्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी से भी मिलकर हरिद्वार में रिंग रोड की मांग रखी गयी।  जिसके लिए केंद्रीय मंत्री ने सहमति व्यक्त की है। वर्ष 2021 से पहले राज्य सरकार भूमि अधिग्रहण कर केन्द्र सरकार को उपलब्ध करायेगी। मेला क्षेत्र का विस्तार बिजनौर रोड की तरफ किया जायेगा।
कार्यक्रम में देश के विभिन्न कुम्भ क्षेत्रों में मेला सम्पन्न कराने वाले विशेषज्ञ अधिकारियों ने अपने अनुभाव तथा वर्ष 2021 हरिद्वार कुम्भ को और अधिक व्यवस्थित बनाने के लिए विचार भी साझा किये।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को सीसीआर सभागार हरिद्वार में आगामी 28 जुलाई से शुरू होने वाले कांवड़ मेले की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि कांवड़ यात्रा में श्रद्धाभाव लेकर बड़ी संख्या में आने वाले श्रद्धालुओं की सभी सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जाए। मुख्यमंत्री ने यातायात एवं सुरक्षा को दुरूस्त रखे जाने तथा तत्परता से कार्य करने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये।
जिलाधिकारी श्री दीपक रावत ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि विभागों द्वारा अधिकांश कार्य पूर्ण कर लिये गये हैं। शेष कार्य 25 जुलाई तक पूर्ण कर दिये जायेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि सरकार के सहयोग और मार्गदर्शन से इस बार मेला पूर्व की अपेक्षा अधिक कुशलतापूर्वक सम्पन्न कराया जायेगा।