गरीबों के जीवन से न खेलने की दी चेतावनी

Spread the love

पीएम मोदी ने की मन की बात
pm_modi_
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने रविवार को 26वीं बार देश से मन की बात करते हुए नोटबंदी के अलावा सीमा पर सैनिकों के साथ मनाई दिवाली और कश्मीर में स्कूल जलाने की घटनाओं पर बात की। उन्होंने नोटबंदी पर बात करते हुए पीएम ने भ्रष्टाचारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि कुछ लोग सुधरने के लिए तैयार ही नहीं है। वो अपना कालाधन सफेद करने में लगे हैं और इसके लिए गरीबों का उपयोग कर रहे हैं। ऐसे लोगों से वह कहना चाहते हैं कि सुधरना या न सुधरना आपकी मर्जी है, लेकिन इसके लिए गरीबों का इस्तेमाल ना करें। गरीबों की जिंदगी से मत खेलिए, रिकॉर्ड पर गरीब का नाम आ जाए और मेरा प्यारा गरीब आपके कारण फंस जाए।
पीएम ने साथ ही लोगों से अपील की कि वो कैशलेस ईकोनॉमी को अपनाते हुए आगे बढ़ें। पीएम ने देश के युवाओं से आह्वान किया कि आप इंटरनेट बैंकिंग से वाकिफ हैं और इसे आगे बढ़ाने के लिए कदम उठाएं। देश के युवा मेरे सच्चे साथी और आज देश की सेवा का अवसर आया है। यह देश को नई ऊंचाईयों पर ले जाने का वक्त है। आप इस बदलाव का नेतृत्व करें इस अभियान को सफल करने के लिए मदद करें। पीएम ने मजदूरों और कामगारों से भी अपील की कि वो ई-बटुए का उपयोग करते हुए शोषण से बच सकते हैं। इससे पहले पीएम ने कहा कि पिछले दिनों देश के सुधार के लिए कदम उठाए उस वक्त मैंने कहा था कि यह कदम बड़ा है और मुश्किल भरा है। इससे बाहर आने में 50 दिन लगेंगे। हम 70 साल से जिस बीमारी से जूझ रहे थे उसे निकालना कठिन काम है। पीएम ने कहा कि आपकी कठिनाइयों को वह समझते हैं, भ्रमित करने के प्रयास चल रहे हैं फिर भी देशहित की इस बात को आपने स्वीकार किया है। कभी-कभी मन को विचलित करने वाली घटनाएं सामने आते हुए भी, आपने सच्चाई के इस मार्ग को भली-भांति समझा है।
नोटबंदी को करोड़ो का समर्थन
पीएम बोले कि 500,1000 के नोट और इतना बड़ा देश इतनी करेंसियों की भरमार और ये निर्णय-पूरा विश्व बहुत बारीकी से देख रहा है। पूरा विश्व देख रहा है कि सवा-सौ करोड़ देशवासी कठिनाइयां झेल करके भी सफलता प्राप्त करेंगे क्या! विश्व के मन में प्रश्न-चिन्ह हो सकता है लेकिन भारत को विश्वास है कि देशवासी संकल्प पूर्ण करके ही रहेंगे। हमारा देश सोने की तरह तप करके, निखर करके निकलेगा और उसका कारण इस देश का नागरिक है, उसका कारण आप हैं। पीएम ने कहा कि केंद्र, राज्य, स्थानीय स्वराज संस्थाओं की इकाइयाँ, बैंक कर्मचारी, पोस्ट ऑफिस-दिन-रात इस काम में जुटे हुए हैं। तनाव के बीच, ये सभी लोग बहुत ही शांत-चित्त रूप से, इसे देश-सेवा का एक यज्ञ मान करके कार्यरत हैं। सुबह शुरू करते हैं, रात कब पूरा होगा, पता तक नहीं रहता है और उसी का कारण है कि भारत इसमें सफल होगा। कठिनाइयों के बीच बैंक,पोस्ट ऑफिस के लोग काम कर रहे हैं और जब मानवता के मुद्दे की बात आ जाए तो वो दो कदम आगे हैं। इस महायज्ञ के अन्दर परिश्रम करने वाले, पुरुषार्थ करने वाले इन सभी साथियों का भी वह हृदय से धन्यवाद करते हैं।
जन-धन योजना को बैंक कर्मचारियों ने जिस प्रकार से अपने कंधे पर उठाया था उनके सामथ्र्य का परिचय हुआ। फिर से एक चुनौती को उन्होंने लिया है मुझे विश्वास है देशवासियों का संकल्प,सबका सामूहिक पुरुषार्थ, इस राष्ट्र को नई ताकत बनाएगा। लेकिन बुराइयां इतनी फैली हुई हैं कि आज भी कुछ लोगों की बुराइयों की आदत जाती नहीं है। बेनामी संपत्ति का इतना कठोर कानून बना है, कितनी कठिनाई आएगी और सरकार नहीं चाहती है कि देशवासियों को कोई कठिनाई आए।
कश्मीर में शांति
कश्मीर में स्कूल जलाने की घटना का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि कुछ समय पहले कश्मीर के कुछ प्रतिनिधि मुझसे मिले और कश्मीर में जारी घटनाओं पर बात हुई। वहां के लोगों को भी इस बात का दुख है कि यह स्कूल नहीं बल्कि बच्चों के भविष्य को जलाया गया है। मैंने उनसे बच्चों के भविष्य पर ध्यान देने के लिए कहा था। जिसका नतीजा है कि पिछले दिनों 95 प्रतिशत बच्चों ने बोर्ड परिक्षाओं में हिस्सा लिया।
फिर मांगा समर्थन
रविवार को पीएम मोदी ने नोटबंदी पर श्मन की बातश् की. 500 और 1000 के नोटबंदी के फैसले पर मांगे गए सुझावों पर पीएम ने बताया कि इस मसले पर सभी ने एक ही तरह की प्रतिक्रिया दी है। 70 साल से चली आ रही इस समस्या से निपटने के लिए यह निर्णय जरूरी था। पीएम ने कहा कि नोटबंदी का फैसला कठिनाइयों से भरा है, लेकिन 50 दिन बाद हालात सामान्य हो जाएंगे। देशहित में ये कदम जरूरी है. देशवासी भ्रष्टाचार और कालेधन की इस लड़ाई में मेरी मदद करें।
डिजिटल दुनिया से जुड़ें छोटे कारोबारी
मन की बात में प्रधानमंत्री ने एक बार फिर लोगों से डिजिटल होने और कैशलेश इकोनॉमी को बढ़ावा देने की बात कही। पीएम ने कहा कि उन्होंने इतना बड़ा निर्णय गरीब और मजदूरों के लिए लिया। उन्होंने देश के युवाओं से इस दिशा में मदद करने के लिए कहा. उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि कैशलेस सोसाइटी बनाने के लिए आप लोगों के बीच जाकर उन्हें ऐप और इंटरनेट आदि के बारे में समझाएं।
नगर पालिका भी कर रही मदद
मोदी ने कहा कि 500 और 1000 की नोटबंदी के फैसले के बाद नगर पालिका और निगम को जहां 300 से 350 करोड़ का टैक्स मिला करता था, वहीं आज उन्हें पिछले दिनों में 13000 करोड़ की वसूली की है। इतनी मात्रा में धन आने के बाद इसका इस्तेमाल गांव और शहरों के विकास में लगाया जाएगा। प्रधानमंत्री ने चाय पर चर्चा का जिक्र करते हुए कहा कि गुजरात के सूरत में नोटबंदी के फैसले के बाद एक दंपत्ति ने अपने मेहमानों को सिर्फ चाय पिलाई और मेहमानों ने इसमें कोई बुराई नहीं मानी। उन्होंने दंपति को नवजीवन के लिए और अभियान में सहयोग देने के लिए शुभकामनाएं दीं। इस तरीके से देश के लोगों का सहयोग मिल रहा है।