udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news नैनीताल में सड़क 50 मीटर झुकी

नैनीताल में सड़क 50 मीटर झुकी

Spread the love

नैनीताल: नैनीताल में तल्लीताल को मल्लीताल से जोड़ने वाली लेाअर माल रोड  ढह गयी। सड़क का बड़ा हिस्सा कई दिनों से झील की ओर झुकता जा रहा था, जबकि कई दरारें भी सड़क पर पड़ गयी थीं। शनिवार सुबह ही 50 मीटर सड़क झुक गयी थी, जिसके बाद लोनिवि कर्मचारी मरम्मत में जुटे थे। लेकिन, शाम को सड़क का 25 मीटर हिस्सा ढह गया।

इस हिस्से को बचाये रखने के लिये बनायी गयी रिटेनिंग वाल और उस पर लगी रेलिंग भी झील में समा गयी। इसके बाद लोअर माल रोड पर वाहनों का संचालन बंद कर दिया गया है। देर शाम जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने लोक निर्माण विभाग अधिकारियों संग बातचीत कर जरूरी निर्देश दिये। रात को लोनिवि एसई डीएस नबियाल, ईई सीएस नेगी ने प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण किया। हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत कब तक पूरी होगी।

प्रभावित क्षेत्र को एहतियात के तौर पर प्लास्टिक से ढक दिया गया है। अधिकारियों की मानें तो क्षतिग्रस्त हिस्से पर पुनर्निर्माण करना होगा, तब तक वैली सड़क के इस हिस्से पर वैली ब्रिज लगाना समाधान हो सकता है। हालांकि, वैली ब्रिज को हल्द्वानी से लाने और यहां लगाने में सात से दस दिन का वक्त लग सकता है। इसके बाद ही लोअर माल रोड पर यातायात सुचारु हो सकेगा। फिलहाल अपर माल रोड से ही वाहनों को निकाला जा रहा है।

नैनीताल में पर्यटन सीजन के दौरान हर रोज तीन से पांच हजार वाहन पहुंचते हैं। वीकेंड पर यह संख्या आठ से दस हजार तक पहुंच जाती है। नैनीताल में तल्लीताल से मल्लीताल तक आने-जाने के लिये वन-वे व्यवस्था है, जिसके तहत मल्लीताल तक पहुंचने के लिये एकमात्र सड़क लोअर माल रोड ही है।

सड़क झील से बिल्कुल सटी हुयी है। ऐसे में रिटेनिंग वाल के जरिये इसे बचाया जाता है, लेकिन वाहनों के भारी दबाव के चलते इस पर कई बार दरारें पड़ने और भूधंसाव की घटनाएं हो चुकी हैं। हालांकि, इन दिनों वाहनों की संख्या पांच सौ से एक हजार तक सीमित हो चुकी है, लेकिन लगातार बारिश से रिटेनिंग वाल को नुकसान हो रहा है। ऐसे में वाहनों का दबाव और मौसम सड़क के लिये खतरा बने हुये हैं।

लोअर माल रोड पर लगातार खतरे को देखते हुये लोक निर्माण विभाग ने एक साल पहले ही मरम्मत का प्रस्ताव भेजा था। लोअर और अपर माल रोड दोनों की मरम्मत के लिये 40 करोड़ का स्टीमेट भेजा गया था, लेकिन शासन स्तर से अब तक इसे मंजूरी नहीं मिली है।

सड़क पर दरारें पड़ने पर लोक निर्माण विभाग कर्मचारी लिक्विड डामर या रेत भरकर सड़क की मरम्मत करते हैं। दूसरी ओर झील होने से यहां भारी काम कर पाना संभव नहीं होता। बीते कई दिनों से पर्यटन कार्यालय के सामने सड़क पर दरार पड़ रही थी, जिसे कर्मचारी भरते आ रहे थे। शनिवार को यह दरार चौड़ी होती गयी। इस दौरान जेई महेन्द्र पाल, किशन और विभागीय कर्मी यहां लिक्विड डामर लेकर जुटे थे। लेकिन, लाभ नहीं हुआ।

लोअर-अपर माल रोड पर मरम्मत के लिये 40 करोड़ का स्टीमेट भेजा है। शासन से मंजूरी मिलने पर ही स्थायी समाधान किया जा सकेगा। सड़क पर हर एक मीटर दूरी पर सीसी पाइप बीम लगाकर इसे मजबूत किया जाना है। आंशिक तौर पर दरारें भरी जा रही हैं। आपदा मद से रिटेनिंग वाल के लिये भी मांग भेजी है।
-एमपीएस कलाकोटी, एई, लोनिवि

वैली ब्रिज को लेकर मैंने हल्द्वानी कैंप कार्यालय में डीएम से मुलाकात की है। हल्द्वानी में ही यह वैली ब्रिज है, जिसे तैयार किया जा रहा है। सात से दस दिन में वैली ब्रिज लोअर माल रोड पर क्षतिग्रस्त हिस्से में लगा दिया जायेगा।
-सीएस नेगी, ईई, लोनिवि