udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news नेपाल का रोजगार कार्यालय केदारनाथ में !

नेपाल का रोजगार कार्यालय केदारनाथ में !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उदय दिनमान डेस्कः नेपाल का रोजगार कार्यालय केदारनाथ में ! आप भी इस खबर और खबर रूपी विज्ञापन को देखकर चौक जाएंगे। मैने भी जब इसे देखा तो मैं भी चौक गया। ऐसा हो रहा है। केदारनाथ में यह सब क्या हो रहा है माननीय विधायक केदारनाथ मनोज रावत को किसी ने इस पोस्ट की फोटो खींचकर उन्हें भेजी तो वह भी दंग रह गये और उन्होंने इस पर सरकार से प्रश्न करते हुए इस पर सरकार से विचार और केदारनाथ की सुरक्षा इत्यादी को लकर प्रश्न के साथ सुरक्षा की मांग की है। यहां उनकी वाल से साभार लिया गया हूबहू दिया जा रहा है।

माननीय मनोज रावत विधायक केदारनाथ की एफवी वाल से साभार अंश
एक दिन मैंने गढ़वाल विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में विकास के नेपाल मॉडल की बात कह दी थी। बड़ा कोहराम मचा था। देश के सबसे अच्छे स्कूलों में से एक के पड़े एक पूर्व छात्र से लेकर कही बालिकाएं रोदन करने लगी। ऐसा लग रहा था जैसे मैंने किसी का चीर हरण कर लिया हो।
पर आज मुझे किसी गुणी ज्ञानी मित्र ने fb पर किसी नेपाली भाई पद्म साही की पोस्ट का स्क्रीन शॉट भेजा। ये एक विज्ञापन नुमा पोस्ट लिख रहे हैं । केदारनाथ में नौकरी के स्वर्ण अवसर।

 

वेतन भी और सुबिधायें भी लिखी हैं। पद्म कौन हैं ये उत्तरकाशी के अधिकांश लोग जानते हैं। ये किसके आदमी हैं , ये भी सब जानते हैं।
आज उत्तराखंड ही नही ,रुद्रप्रयाग जिले में भी हजारों बेरोजगार युवा हैं। जो मेहनत कर कमाना चाहते हैं। ये भी केदारनाथ के पुनर्निर्माण में अपना योगदान देना चाहते हैं ।

 

उनके लिये केदारनाथ में अवसर नही , पर नेपाली के लिये हैं। सरकार ने कभी भी स्थानीय लोगों को केदारनाथ पुनर्निर्माण में हाथ बंटाने की अपील नही की । क्योंकि नेपाली निरीह प्राणी है। जो किसी साहब की सनक पर रात भर नाच सकता है।जिसके नाम की पगार किसी fb के लेख्वार को या छात्र नेता को दी जा सकती है। जो बदले में जय जय करें ।

 

पहाड़ी होता तो जबाब पूछता, पर वे तो बेचारे नेपाली हैं।इस पोस्ट में हर दिन की मजदूरी 600 रुपये लिखी है जबकि रेट इसके दोगुने हैं। यानी दाल में कुछ काला है।मेरा आज भी केदारनाथ और उत्तराखंड के विकास के मॉडल पर प्रश्न है – उत्तराखंड के विकास का “नेपाली” या उत्तराखंडी मॉडल ठीक रहेगा ?

 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •