सिद्धार्थ मल्होत्रा न्यूजीलैण्ड की शानदार यात्रा के बाद वापस भारत आए

Spread the love

sidharth-dons-traditional-maori-cloak-in-rotorua-new-zealand-1

देहरादून। सिद्धार्थ मल्होत्रा न्यूजीलैण्ड में 10 दिन के शानदार सफर के बाद वापस लौट आए हैं लेकिन वह अभी न्यू जीलैण्ड में बिताए समय की यादों में खोए हुए हैं। यह बॉलीवुड अभिनेता एडवेंचर, खाने और संस्कृति से भरपूर अपने ट्रिप की शानदार यादों को बहुत स्पष्टता से याद करते हैं। सिद्धार्थ अपने इस सफर को एक बेहतरीन और यादगार अनुभव के रूप में बयान करते हैं।
यह न्यू जीलैण्ड में सिद्धार्थ का दूसरा ट्रिप था और इसमें उन्होंने वह सब कुछ किया जो वो करना चाहते थे। वह उत्तरीय और दक्षिण टापुओं पर गए और उन्होंने क्राइस्टचर्च, रोटोरुआ, वैतोमो और ऑकलैंड जैसी जगह देखीं। उनका टूर ऑकलैंड एअरपोर्ट पर न्यू जीलैण्ड के माननीय प्रधान मंत्री श्री आर.टी. जॉन की साथ अचानक हुई मुलाकात के साथ शुरू हुआ। सिद्धार्थ पिछले महीने नई दिल्ली में प्रधान मंत्री श्री की के मेजबान थे और दोनों के बीच एक मजबूत रिश्ता बन गया था।
फिर क्राइस्टचर्च में पूर्व ब्लैक कैप्स क्रिकेटरों स्टीफन फ्लेमिंग और ब्रेंडन मैक्कुलम ने न्यू जीलैण्ड में उनके चाहने वालों के साथ सिद्धार्थ का स्वागत किया और उन्होंने ‘काला चश्मा’ गाने पर खूब मस्ती भी की। दोनों क्रिकेटरों ने एक बुलारंगी हार्ले डेविडसन राइड और हगले ओवल में एक फ्रेंडली क्रिकेट मैच के लिए सिद्धार्थ की मेजबानी भी की। इसके बाद सिद्धार्थ, जो रग्बी के एक बहुत बड़े प्रशंसक हैं, को ऑल ब्लैक्स कप्तान रिची मैकाव के साथ मुलाकात करने का अवसर भी मिला।
इन महान खिलाड़ियों के साथ यादगार समय बिताने के बाद सिद्धार्थ अपनी यात्रा के अगले पड़ाव में चले गए जहाँ उन्होंने मजेदार और जोखिम भरी गतिविधियाँ की जैसे कि स्काइलाइन रोटोरुआ पर लुगिंग, मूल निवासी जंगल में जिप्लिंग, ऑकलैंड हारबर पर जेटबोटिंग और प्रसिद्ध ऑकलैंड ब्रिज पर चढ़ाई इत्यादि।
एक्शन से भरे इस सफर के दौरान सिद्धार्थ ने ऐनाडेल और हुका लॉज में समय बिताते हुए प्रकृति के नजदीक जाने का भी फैसला किया। हेक्टर डॉलफिन, रोबिन पक्षियों और पेंगुइन्स के साथ रूबरू होकर वह बेहद खुश हुए।
सिद्धार्थ मल्होत्रा, जो द लार्ड ऑफ द रिंग्स ट्राइलॉजी के बहुत बड़े प्रेमी हैं, को विकाटो में प्रसिद्ध होबिटों मूवी सेट पर जाने का भी अवसर प्राप्त हुआ।
ते पुइआ में जाकर असली माओरी संस्कृति में खो जाना और माओरी कपड़े पहनना और मिताई माओरी गाँव में एक माओरी योद्धा का पोज बनाना सिद्धार्थ के लिए सबसे ज्यादा भावुक और तल्लीन अनुभव था।
सिद्धार्थ मल्होत्रा अपनी सोशल मीडिया पोस्ट्स के साथ अपने शानदार और बेहतरीन अनुभवों के बारे में लगातार अपने दर्शकों को बताते रहे हैं। उन्होंने कहा, “न्यू जीलैण्ड मुझे हैरान और प्रभावित करने से कभी भी चूकता नहीं है। इस देश को प्रकृति का उपहार, आमिर माओरी संस्कृति और शानदार लोग प्राप्त हैं। यह न्यू जीलैण्ड में मेरा दूसरा ट्रिप था और इन 10 दिनों की यात्रा के दौरान मैंने अपने जीवन के बेहतरीन लम्हें बिताए हैं। यह अब मेरा दूसरा घर बन गया है।”