udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news निर्वाचन नामावली सूची में नाम दर्ज करने के कार्य में तेजी लायें

निर्वाचन नामावली सूची में नाम दर्ज करने के कार्य में तेजी लायें

Spread the love
पौड़ीः 18 वर्ष अर्ह मतदाताओं के संख्या नामावली सूची में पंजीकृत रिपोर्ट को देखते हुए जिलाधिकारी सुशील कुमार ने गंभीर विषय बताते हुए इसे समस्त फोटो युक्त निर्वाचन नामावली के कार्य से जुड़े सभी अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मतदाताओं को वोटर लिस्ट मंें शामिल करने हेतु सक्रियता के साथ संबंधित वोटरों तक पहुंचकर निर्वाचन नामावली सूची में नाम दर्ज करने के कार्य में तेजी लायें।
इस हेतु काॅलेज और इंटर कालेज आदि संबंधित उच्च शिक्षण संस्थानों में भी जागरूकता अभियान चलाकर अधिक से अधिक नये मतदाताओं का नाम नामावली सूची में शामिल करें। यह बात जिलाधिकारी/ जिला निर्वाचन अधिकारी सुशील कुमार ने फोटोयुक्त निर्वाचन नामावली की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। उन्होंने कहा कि विधानसभा निर्वाचन नामावली में एक सितम्बर से 31 अक्टूबर तक प्रत्येक बूथ पर बीएलओ के द्वारा मतदाता सूची में नाम पंजीकृत तथा नाम शुद्धिकरण व परिवर्तन का कार्य किया जा रहा है।
कहा कि ऐसे युवा मतदाता जो एक जनवरी 2019 को 18 वर्ष पूर्ण कर रहे हों ऐसे युवाओं का नाम भी नामावली सूची में प्राथमिकता के साथ पंजीकृत करेंगे। जिससे कि जनपद के 18 से 19 वर्ष के मतदाताओं के उच्च आंकडें हासिल हो सके। जिस हेतु ग्राम पंचायत से लेकर इंटरकालेज व डिग्री कालेजों में मतदाता जागरूकता अभियान चलाने के साथ प्रारूप 6, 7 व 8 वितरित करते हुए संबंधित वोटरों से भरवाना सुनिश्चित करेंगे।
कहा कि प्रत्येक बूथ में विशिष्ट गणमान्य आदि नागरिकों का नाम मतदाता सूची में मानक के अनुरूप अनिवार्य रूप से दर्ज हो। मतदाता बूथ में ही संबंधित मतदाताओं का नाम अपने क्षेत्रांतर्गत हों इस बात को भी गंभीरता से ले। 1 जनवरी 2019 की अहर्ता तिथि के आधार पर 1 सितम्बर से 31 अक्टूबर तक आलेख्य प्रकाशन किये जाने हेतु सभी संबंधितों को पत्र प्रेषित की जा चुके है।
कहा कि 1 सितम्बर से 31 अक्टूबर 2018 तक विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 01 जनवरी 2019 की अहर्ता तिथि के आधार पर विधान सभा निर्वाचक नामावली के शत प्रतिशत अर्ह नागरिकों के नाम निर्वाचक नामावली में सम्मिलित करने हेतु स्वीप कार्यक्रम के तहत विभिन्न संगठनों, युवक व महिला मंगल दलों, महिला संगठनों, एनजीओ, एनवाईके, एनसीसी, एनएसएस समेत विश्वविद्यालयों तथा औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों आदि में स्वीप के अन्तर्गत विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से भी जन जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।
इस मौके पर अपर जिलाधिकारी रामजी शरण शर्मा, उप जिलाधिकारी सदर एसएस राणा, एसडीएम कोटद्वार कमलेश मेहता, एसडीएम लैंसडोन केएस नेगी, एसडीएम श्रीनगर मायादत्त जोशी, सहायक निर्वाचन अधिकारी विजय तिवारी, डीपीआरओ एमएम खान समेत संबंधित विभागों के जिलास्तरीय अधिकारी मौजूद रहे ।
जिलाधिकारी सुशील कुमार ने आपदा प्रबंधन, स्वच्छता, पाॅलीथिन निषेध एवं राजस्व स्टाफ की समीक्षा बैठक ली। जिलाधिकारी ने समस्त तहसीलों की आपदा राहत वितरण एवं रिपोर्ट की तहसीलवार जानकारी ली। वर्ष 2018-19 में जनपद में 1 अपे्रल से 07 सितम्बर तक दैवीय आपदा से हुई पूर्ण क्षति भवन क्षतिग्रस्त 5 तथा 12 आंशिक क्षतिग्रस्त भवन के गृह अनुदान वितरित धनराशि 368,100 है।
मृतक मनुष्य की संख्या 4, वितरित अनुग्रह राशि 16 लाख दिये। पशु छह गाय, चार बकरी, चार बछिया, तीन भैंस के अनुग्रह राशि 1 लाख 96 हजार वितरित किये । प्रभावित परिवारों की संख्या 36, अहेतुक राशि  1,40,800 वितरण किये। जबकि कृषि अनुदान में प्रभावितों की संख्या 173, कुल भूमि 6.48 हैक्टेअर प्रभावित भूमि मुआवजा राशि 166,480 वितरित की गई।  जिलाधिकारी ने सभी उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदारों को अपने-अपने क्षेत्रांतर्गत अवशेष प्रभावितों को मानक के अनुरूप राहत राशि देने में तेजी लाने के निर्देश दिये।
कहा कि प्रत्येक तहसीलों में गठित आईआरएस टीम सक्रियता से संजोये गये उपकरणों की सूची बनाते हुए घटित घटनाओं में अधिक से अधिक इस्तेमाल करेंगे। जिससे राहत कार्यों में सुविधा मिल सके। उन्होंने कहा कि तहसील स्तर से भी विभिन्न विभागों से बेहतर समन्वय बनाये साथ ही क्षेत्रांतर्गत एवं ग्रामीण क्षेत्रों में जन प्रतिनिधियों व स्वयंसेवी के साथ समन्वय स्थापित कर सहयोग लें। 
जिलाधिकारी ने उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुपालन में जनपद में सभी संबंधित अधिकारी सक्रिय रूप से कार्य करेंगे। कहा कि इस सप्ताह के अन्दर पाॅलीथिन उन्नमूलन अभियान के तहत छापामारी अभियान चलाने को कहा। दोषि के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही अमल पर लाने के निर्देश दिये।
जबकि जिलाधिकारी ने कहा कि सभी संबंधित अधिकारी अपने अपने क्षेत्रों में प्रातः काल सफाई व्यवस्था का निरीक्षण कर सफाई व्यवस्था बनवाये रखेंगे। गंदगी पाये जाने वाले क्षेत्र के अंर्तगत संबंधित अधिकारी /कर्मचारी के खिलाफ कार्यवाही अमल में लायी जाएगी। 
जिलाधिकारी ने राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक में तहसीलवार कार्यप्रगति  की जानकारी ली। उन्होंने भूमि संबंधी मामलों को तेजी के साथ निस्तारण करने के निर्देश दिये साथ ही उत्तराधिकारी भूमि धरी में तेजी से कार्य करेंगे। वहीं एससी-एसटी वर्ग की विक्रय व अधिग्रहण संबंधित समस्त सुसंगत कार्यवाही के अनुरूप रिपोर्ट आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।
साथ ही जिलाधिकारी ने संग्रह वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिये। कहा कि लापरवाही बरतने वाले संबंधित के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल पर लायी जाएगी। इस मौके पर अपर जिलाधिकारी ने कहा कि समस्त उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदार अपने क्षेत्रांतर्गत 20 बड़े बकायदारों की सूची प्रारूप बनाकर समय समय पर की गई कार्यों की अद्यतन रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।
इस मौके पर उप जिलाधिकारी सदर एसएस राणा, एसडीएम कोटद्वार कमलेश मेहता, एसडीएम लैंसडोन केएस नेगी, एसडीएम श्रीनगर मायादत्त जोशी, सहायक निर्वाचन अधिकारी विजय तिवारी, डीपीआरओ एमएम खान, तहसीलदार सुनीलराज समेत संबंधित विभागों के जिलास्तरीय अधिकारी मौजूद रहे ।