udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news ओलावृष्टि का कहर: किसान-बागवानों की मेहनत पर पानी !

ओलावृष्टि का कहर: किसान-बागवानों की मेहनत पर पानी !

Spread the love

कुल्लू। हिमाचल प्रदेश में  हुई बारिश और ओलावृष्टि से बागवानी और फसलों को नकुसान पहुंचा है. सूबे के कई जिलों में मंगलवार को ओलोवृष्टि हुई है. कुल्लू के आनी और निरमंड में ओलावृष्टि से सेब के फूलों और सब्जियों को नुकसान पहुंचा है.

इससे बागवानों की मेहनत पानी फिर गया है. आनी के चवाई, अमर बाग, कथला में फसलों को भारी नुकसान हुआ है. आनी की बुच्छैर पंचायत में ओलावृष्टि ने जमकर कहर बरपाया है. सेब, मटर और लहसून की फसल तबाह हो गई.

बता दें कि मौसम विभाग ने एक सप्ताह तक बारिश और तुफान का अनुमान लगाया है. मंगलवार को कुल्लू और मंडी में कुछ क्षेत्रों में बारिश के साथ आंधी ने किसानों बागवानों को काफी परेशान किया. रोहतांग में 5 सेंटीमीटर हिमपात हुआ है. कुल्लू में शीतलहर के साथ-साथ फाहे गिरने की भी सूचना आई है.

प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में मौसम खराब होने से मनाली, केलांग और कल्पा में न्यूनतम तापमान गिरा है. आनी उपमंडल के किसान-बागवान देस राज, रोशन लाल, हीरा लाल, जय दास, प्रकाश ठाकुर, पदम, उत्तम सिंह, डाबेराम नेगी, संतोष, महेंद्र सिंह, ठाकुर चंद, नरीदास और राम लाल ने प्रदेश सरकार और सबंधित विभाग से प्रभावित किसान-बागवानों को फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा देने की मांग की है.

बागवानी विभाग के एसएमएस दीप राम का कहना है कि ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान की रिपोर्ट मंगवाकर सरकार को जल्द भेजी जाएगी. हिमाचल प्रदेश में 2 अप्रैल से आठ अप्रैल तक मौसम की बेरुखी देखने को मिलेगी. मौसम विभाग के शिमला केंद्र की ओर से इस संबंध में चेतावनी जारी की गई है.