udaydinmaan, News Jagran, Danik Uttarakhand, Khabar Aaj Tak,Hindi News, Online hindi news  पलायन: सात साल के भीतर उत्तराखंड के 734 गांव खाली हो गए !

 पलायन: सात साल के भीतर उत्तराखंड के 734 गांव खाली हो गए !

Spread the love

देहरादून। उत्तराखंड में हाल के वर्षों में तेजी से पलायन हुआ है। सात साल के भीतर 734 गांव खाली (गैरआबाद) हो गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार 10 सालों में 3 लाख 83 हजार 726 लोगों ने अस्थायी रूप से पलायन किया है।

 

ग्राम विकास एवं पलायन आयोग ने अपनी प्रथम अंतरिम रिपोर्ट शनिवार को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को सौंपी, जिसमें ये आंकड़े प्रस्तुत किए गए। सीएम आवास पर आयोजित कार्यक्रम में आयोग की ओर से रिपोर्ट पेश की गई। इसमें बताया गया कि उत्तराखंड के ग्राम पंचायतों का सर्वेक्षण जनवरी एवं फरवरी में ग्रामीण विकास विभाग के माध्यम से किराया गया। आयोग की टीम ने सभी जिलों का दौरा करके लोगों से ग्राम्य विकास एवं पलायन के विभिन्न पहलुओं पर परामर्श किया।

सीएम के फेसबुक पेज पर तस्वीरें शेयर कर लिखा गया है कि पलायन आयोग की अंतरिम रिपोर्ट का लोकार्पण किया गया। पलायन की वास्तविक स्थिति जनता के सामने रखने से पलायन रोकने के लिए भविष्य की योजनाओं का सही तरह से क्रियान्वयन किया जा सकेगा। उत्तराखंड में मौजूद स्थानीय संसाधनों का समुचित उपयोग कर हम रोजगार सृजन पर कार्य कर रहे हैं।

 

ग्राम पंचायत स्तर पर मुख्य व्यवसाय कृषि और मजदूरी है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले 10 सालों में 6338 ग्राम पंचायतों से तीन लाख 83 हजार 726 व्यक्ति अस्थायी रूप से पलायन कर चुके हैं। यह लोग घर में आते-जाते रहते हैं, लेकिन अस्थायी रूप से रोजगार के लिए बाहर रहते हैं। इसी अवधि में 3946 ग्राम पंचायतों से एक लाख 18 हजार 981 लोग स्थायी रूप से पलायन कर चुके हैं। रिपोर्ट में पलायन के कारणों का भी उल्लेख किया गया।

इसमें बताया गया है कि ग्राम पंचायतों से 50 फीसदी लोगों ने आजीविका और रोजगार की समस्या के कारण पलायन किया। जबकि 15 फीसदी लोगों ने शिक्षा सुविधा और आठ फीसदी ने चिकित्सा सुविधा के अभाव में पलायन किया है। सीएम ने कहा कि इन तीनों बिंदुओं पर फोकस किया जाएगा। ताकि पलायन को रोका जा सके।

 

ग्राम पंचायतों से पलायन करने वालों में सबसे ज्यादा संख्या युवाओं की है। रिपोर्ट के अनुसार 26 से 25 आयु वर्ग के 42 फीसदी लोगों ने पलायन किया। 35 से अधिक आयु वर्ग के 29 फीसदी और 25 वर्ष से कम आयु वर्ग के 28 फीसदी लोग पलायन कर चुके हैं। ग्राम पंचायतों से 70 फीसदी लोग प्रवासित होकर राज्य के अन्य स्थानों पर गए, 29 फीसदी राज्य से बाहर और 1 फीसदी देश से बाहर गए।

 

उत्तराखंड में लगभग 734 राजस्व ग्राम/तोक/मजरा 2011 की जनगणना के बाद गैरआबाद हो गए हैं। इनमें से 14 अंतरराष्ट्रीय चीन सीमा के निकट हैं। राज्य में 580 ऐसे गांव हैं, जहां पिछले 10 वर्षों में अन्य गांव, शहर, कस्बों से पलायन कर लोग बसे हैं।

 

राज्य में 565 ऐसे राजस्व गांव, तोक, मजरा है, जिनकी आबादी 2011 के बाद 50 फीसदी घटी है। इनमें छह गांव अंतरराष्ट्रीय सीमा से हवाई दूरी के 5 किमी भीतर हैं।